Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस नेता व महाराष्ट्र सरकार में मंत्री को 3 महीने का सश्रम कारावास, 8...

कॉन्ग्रेस नेता व महाराष्ट्र सरकार में मंत्री को 3 महीने का सश्रम कारावास, 8 साल पहले पुलिसकर्मी से की थी मारपीट

आठ साल पहले कॉन्ग्रेस नेत्री यशोमती ठाकुर और उनके वाहन चालक पर एक पुलिसकर्मी के साथ मारपीट करने का आरोप लगा था। इनकी गाड़ी वन-वे लेन पर चल रही थी जिसे एक पुलिसकर्मी ने रोका था।

बृहस्पतिवार (अक्टूबर 15, 2020) को एक स्थानीय अदालत ने महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और कॉन्ग्रेस नेत्री यशोमती ठाकुर को 3 महीने के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। यह सजा 8 साल पुराने मामले को लेकर हुई है। दरअसल, महाराष्ट्र की मंत्री यशोमति ठाकुर को आठ साल पहले एक पुलिसकर्मी को पीटने के जुर्म में यह सजा सुनाई गई है। इसके अलावा, अदालत ने यशोमती ठाकुर पर 15,500 रुपए का आर्थिक दंड भी लगाया है। 

जिला और सत्र न्यायालय ने इस मामले में यशोमति ठाकुर के अलावा, 3 अन्य लोगों को अपराधी घोषित किया है। इसमें महिला एवं बाल विकास मंत्री का वाहन चालाक भी शामिल है जिसे 3 माह के कठोर कारावास की सज़ा सुनाई। जिला और सत्र न्यायालय की न्यायाधीश उर्मिला जोशी ने इस मामले में सज़ा सुनाई है। 

अदालत ने यह भी कहा कि अगर मंत्री और कॉन्ग्रेस नेत्री यशोमती ठाकुर यह आर्थिक दंड नहीं देती हैं तो उन्हें एक और महीने जेल की सज़ा काटनी होगी। यशोमती ठाकुर और उनके वाहन चालक पर एक पुलिस वाले के साथ मारपीट करने का आरोप लगा था। इनकी गाड़ी वन-वे लेन पर चल रही थी जिसे एक पुलिसकर्मी ने रोका था। इसके बाद उन्होंने पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की थी।  यह घटना मार्च 12, 2012 को शाम 4:15 बजे अमरावती जिले के राजापेठ पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले चूनाभट्टी क्षेत्र में हुई थी।      

इसके पहले भी यशोमती ठाकुर पुलिस वालों के सामने अपनी दबंगई का नमूना पेश कर चुकी हैं। यह दूसरी घटना जुलाई 19, 2019 की है जब वह सेंट जॉर्ज अस्पताल पहुँची थीं। दरअसल, वहाँ कॉन्ग्रेस विधायक श्रीमंत पाटिल का इलाज चल रहा है, उन्हीं से मिलने वो वहाँ पहुँची थी। इस दौरान वो वहाँ पुलिस से भिड़ गईं और उनसे काफ़ी कहासुनी हो गई। 

इस घटना का एक वीडियो सामने आया था जिसमें वो काफ़ी तल्ख़ अंदाज़ में दिख रही थीं। इस वीडियो में वो पुलिस व डॉक्टर्स के साथ अपशब्द बोलती साफ़ नज़र आ रही थीं। अस्पताल की शांति को तार-तार करते हुए उन्होंने कई पुलिसकर्मियों के साथ ऊँची आवाज़ में बात तो की ही साथ वहाँ मौजूद महिला पुलिसकर्मियों को भी खरी-खोटी सुनाई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पिता ने उधार लेकर करवाई हॉकी की ट्रेनिंग, निधन के बाद अंतिम दर्शन भी छोड़ा: अब ओलंपिक में इतिहास रच दी श्रद्धांजलि

वंदना कटारिया के पिता का सपना था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। बचपन में पिता ने उधार लेकर उन्हें हॉकी की ट्रेनिंग दिलवाई थी।

‘सबको नहीं मारा, भाग्यशाली हैं… अब आए तो सबको मार देंगे’ – असम पुलिस को खुलेआम धमकी देने वाले मिजोरम सांसद दिल्ली से ‘गायब’

वनलालवेना ने ने कहा था, ''वे भाग्यशाली हैं कि हमने उन सभी को नहीं मारा। यदि वे फिर आएँगे, तो हम उन सबको मार डालेंगे।''

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,163FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe