Sunday, September 19, 2021
Homeराजनीतिराजीव गाँधी के सम्मान में, उद्धव ठाकरे मैदान में: पूर्व PM के नाम पर...

राजीव गाँधी के सम्मान में, उद्धव ठाकरे मैदान में: पूर्व PM के नाम पर IT अवॉर्ड, लोगों ने कहा – महाराष्ट्र को ही ‘राजीव प्रदेश’ कर दो

किसी ने महाराष्ट्र का ही नाम बदल कर 'राजीव प्रदेश' करने की सलाह दे दी तो किसी ने जावा, ऑरेकल, क्लाउड सर्विसेज और माइक्रोसॉफ्ट के नाम के आगे भी 'राजीव गाँधी' लगा देने की सलाह दे डाली।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे अब भारत के दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गाँधी के ‘सम्मान’ में उतर आए हैं। कुछ ही दिनों पहले केंद्र सरकार द्वारा ‘खेल रत्न’ से राजीव गाँधी का नाम हटा कर इसे हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम पर कर दिया गया था। शिवसेना ने इस कदम से आपत्ति जताई थी। अब महाराष्ट्र की ‘महा विकास अघाड़ी (MVA)’ सरकार ने ‘इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (IT)’ क्षेत्र में राजीव गाँधी के नाम पर अवॉर्ड की घोषणा की।

उद्धव ठाकरे की सरकार ने मंगलवार (10 अगस्त, 2021) को राजीव गाँधी के नाम पर IT क्षेत्र के संगठनों के लिए अवॉर्ड की घोषणा करते हुए कहा कि तकनीक की मदद से समाज में योगदान देने वालों को ये सम्मान मिलेगा। महाराष्ट्र की शिवसेना-NCP-कॉन्ग्रेस सरकार द्वारा जारी किए गए आदेश के मुताबिक, 1984-89 में प्रधानमंत्री रहे राजीव गाँधी ने IT सेक्टर को काफी प्रोत्साहन दिया था, इसीलिए उनके नाम पर इस अवॉर्ड की घोषणा की गई है।

हर साल 20 अगस्त को ये अवॉर्ड दिया जाएगा। इसी दिन राजीव गाँधी की जयंती भी मनाई जाती है। किस आधार पर मूल्यांकन कर के अवॉर्ड देना है, इसके लिए ‘महाराष्ट्र इन्फॉर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी कॉर्पोरेशन’ को नोडल एजेंसी नियुक्त करते हुए इसका खाका तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई है। इस साल भी ये सम्मान दिया जाएगा, लेकिन इसके लिए 20 अक्टूबर तक का समय लग सकता है।

राजीव गाँधी का जन्म 20 अगस्त, 1944 को मुंबई में हुआ था। बता दें कि महाराष्ट्र की तीन सत्ताधारी दलों में कॉन्ग्रेस भी शामिल है। महाराष्ट्र के IT मंत्री सतेज पाटिल ने ट्विटर पर इसकी घोषणा करते हुए कहा कि IT सेक्टर को बढ़ावा देने वाले राजीव गाँधी को श्रद्धांजलि के रूप में इस अवॉर्ड की घोषणा की गई है। बता दें कि सतेज पाटिल कॉन्ग्रेस के ही नेता हैं। इस दौरान कई सोशल मीडिया यूजर्स ने महाराष्ट्र सरकार की चुटकी भी ली।

किसी ने महाराष्ट्र का ही नाम बदल कर ‘राजीव प्रदेश’ करने की सलाह दे दी तो किसी ने जावा, ऑरेकल, क्लाउड सर्विसेज और माइक्रोसॉफ्ट के नाम के आगे भी ‘राजीव गाँधी’ लगा देने की सलाह दे डाली। शिवसेना मुखपत्र पहले ही ‘खेल रत्न’ का नाम बदले जाने को राजनीतिक एजेंडा बता चुका है। पार्टी सांसद संजय राउत ने कहा था कि राजीव गाँधी को अपमानित किए बिना ही मेजर ध्यानचंद को सम्मान दिया जा सकता था।

उधर कर्नाटक के नागरहोल में स्थित राजीव गाँधी राष्ट्रीय उद्यान का नाम भी बदलने की माँग तेज हो गई है। माँग की गई है कि नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान का नाम कोडंडेरा मडप्पा करियप्पा (Kodandera Madappa Cariappa) के नाम पर रखा जाए, जो भारतीय सेना में पहले कमांडर-इन-चीफ थे। बता दें कि कोडागु के मूल निवासी करियप्पा का जन्म 28 जनवरी 1899 को मदिकेरी, कोडागु में हुआ था और उनका तीन दशकों का विशिष्ट सैन्य करियर था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe