Friday, May 31, 2024
Homeराजनीति'जो करना है करो': ममता ने लोगों को 'मॉब जस्टिस' के लिए उकसाया, कहा-...

‘जो करना है करो’: ममता ने लोगों को ‘मॉब जस्टिस’ के लिए उकसाया, कहा- देखना चाहती हूँ कि कौन हारता और कौन जीतता है

"अगर वे किसी भी आदमी पर हमला करते हैं, तो सभी बुजुर्गों को समूहों में एकजुट होना चाहिए।" पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने हिंसा के विचार पर कटाक्ष करते हुए कहा, ''मैं देखना चाहती हूँ कि कौन इस खेल को हारता है और कौन जीतता है।”

पश्चिम बंगाल राज्य विधान सभा चुनाव के दूसरे चरण से पहले, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मंगलवार (मार्च 30, 2021) को ‘मॉब जस्टिस’ की वकालत करती हुई नजर आईं और नंदीग्राम के लोगों को अपनी राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी भाजपा के खिलाफ हिंसा भड़काने के लिए उकसाया

नंदीग्राम में एक बड़ी सभा को संबोधित करते हुए, ममता बनर्जी ने चुनाव के दौरान सामाजिक अशांति पैदा करने के लिए उकसाया। यह मानते हुए कि उनकी प्रतिद्वंद्वी पार्टी असामाजिक गतिविधियों में लिप्त होगी, पश्चिम बंगाल के सीएम ने लोगों को कानून व्यवस्था को दरकिनार करने और मामले को अपने हाथों में लेने के लिए उकसाया।

(Video Courtesy: Youtube/News18 Bangla)

अपने भाषण में लगभग 6 मिनट में, उन्होंने कहा, “आज से, गुंडों (भाजपा का जिक्र करते हुए) को (अपने इलाके में) प्रवेश करने की अनुमति नहीं दें। घड़ी में शाम के 6 बजे के बाद, सभी बाहरी लोगों को अलविदा बोल दें। 6 बजे के बाद केवल इनसाइडर रहेंगे।” उन्होंने डर को व्याप्त करने और ‘मॉब जस्टिस’ को बढ़ावा देने के लिए भाजपा को ‘बाहरी लोगों’ और ‘गुंडों’ के रूप में संदर्भित किया।

पश्चिम बंगाल के सीएम ने लोगों को कानून अपने हाथ में लेने के लिए उकसाया

ममता बनर्जी ने इसके बाद 2007 में नंदीग्राम में पुलिस की बर्बरता के बाद हुए विरोध प्रदर्शनों का हवाला देते हुए लोगों के मन में बीजेपी के प्रति डर बैठाने की कोशिश की। उन्होंने जोर देकर कहा, “अपने घरों से समूहों में निकलें। यदि वे किसी को भी छूते हैं, विशेष रूप से महिला को, तो लाखों माताएँ हाथ में रसोई के बर्तन के साथ बाहर आ जाएँ।”

उन्होंने आगे कहा, “अगर वे किसी भी आदमी पर हमला करते हैं, तो सभी बुजुर्गों को समूहों में एकजुट होना चाहिए।” पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने हिंसा के विचार पर कटाक्ष करते हुए कहा, ”मैं देखना चाहती हूँ कि कौन इस खेल को हारता है और कौन जीतता है।” ममता बनर्जी यहीं नहीं रुकीं। उन्होंने सुझाव दिया कि लोग ‘बाहरी लोगों’, सुरक्षाकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करते हैं।

ममता बनर्जी ने बताया कि सुरक्षाकर्मियों के खिलाफ क्या करना चाहिए

ममता बनर्जी ने सिफारिश की, “वे आपको अधिकतम 2 दिनों के लिए डरा सकते हैं। केवल दो दिन बचे हैं (मतदान के लिए)। सुरक्षाकर्मियों की बात सुनो, जो बाहर से आए हैं, सिर्फ इन 2 दिनों के लिए … मैं उनसे निष्पक्ष रूप से काम करने का अनुरोध करूँगी।” इसके तुरंत बाद, पश्चिम बंगाल के सीएम के स्वर में बदलाव आया। 9:42 मिनट में उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में भाषण देते हुए कहा, “यदि वे पालन नहीं करते हैं, तो, सभी माँ और बेटियाँ एक साथ में आएँ और जो करना है, करें।”

इसके बाद ममता बनर्जी ने भाजपा का डर और उन पर गुंडागर्दी का सहारा लेने का आरोप लगाते हुए पूछा, “क्या तुमने पहले ही गेम / मैच गँवा दिया है? क्या इसीलिए तुम गुंडागर्दी का सहारा ले रहे हो और लोगों में डर पैदा कर रहे हो?” इसके बाद पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ने भाजपा को उनके कथित ‘गुंडागर्दी’ पर सबक सिखाने की धमकी दी। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -