Tuesday, January 26, 2021
Home राजनीति जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने...

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

नंदीग्राम आंदोलन का प्रमुख चेहरा शुभेंदु अधिकारी पार्टी से 2 बार सांसद रह चुके हैं। उन्होंने अपने कौशल से मिदनापुर इलाके को टीएमसी का गढ़ बनाया। ऐसे में हम अंदाजा लगा सकते हैं कि उनका पार्टी को छोड़ना ममता सरकार पर कितना बड़ा आघात होगा।

करीब एक दशक पहले सिंगूर और नंदीग्राम में हुए आंदोलन ने पश्चिम बंगाल की सियासत से वामपंथ को उखाड़ फेंका था और सत्ता के केंद्र में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) को बिठा दिया। राज्य में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर सिंगूर और नंदीग्राम चर्चा के केंद्र में हैं। 

अटकलें लगाई जा रही है कि इन दोनों जगहों पर टीएमसी के भीतर जो बगावत शुरू हुई है उसका ममता बनर्जी जल्द समाधान नहीं तलाश पाईं तो लगातार तीसरी बार सत्ता में लौटने का उनका सपना बिखर जाएगा।

यही कारण है कि नंदीग्राम के विधायक शुभेंदु अधिकारी के इस्तीफे की खबरें सामने आते ही उन्हें मनाने की कोशिशें भी शुरू हो गई हैं। पार्टी सांसद सौगत राय का कहना है:

“शुभेंदु ने पार्टी से या विधायक पद से इस्तीफा नहीं दिया है। मैं आपको आश्वस्त करता हूँ कि ये बिलकुल झूठ है कि शुभेंदु, दिल्ली में मोहन भागवत से मिलने जा रहे हैं।”

उधर, सिंगूर विधायक रबीन्द्रनाथ भट्टाचार्जी पहले ही पार्टी छोड़ने की धमकी दे चुके हैं। रबीन्द्रनाथ वही चेहरा हैं जिन्होंने नैनो कारखाने के ख़िलाफ टीएमसी के आंदोलन में उनका साथ दिया था। जानकारी के अनुसार, ब्लॉक अध्यक्ष के पद से अपने करीबी को हटाए जाने की वजह से भट्टाचार्जी नाराज हैं। उनका कहना था कि भ्रष्टाचार से जुड़े लोगों को पार्टी ने सिंगूर ब्लॉक तृणमूल कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष बनाया है, जिसका हम लोग विरोध करते है। अगर पार्टी इस विषय पर कोई ठोस कदम नहीं उठाएगी तो हमलोग आगे की रणनीति अपनाएँगे।

सवाल है कि आखिर बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक समीकरण क्यों इतनी तेजी से बनते-बिगड़ते दिख रहे हैं। आखिर क्यों वह सब लोग ममता सरकार से दूरी बना रहे हैं, जिन्होंने बंगाल में वामपंथी शासन को उखाड़ फेंकने में न केवल टीएमसी की मदद की थी, बल्कि नंदीग्राम-सिंगूर के आंदोलनों में अहम भूमिका अदा की थी।

साल 2011 के चुनावों को यदि याद करें तो पता चलता है कि इन दोनों जगहों पर चुनाव से ठीक पहले हुए आंदोलन टीएमसी के लिए जैकपॉट बने थे। पार्टी ने सिंगूर और नंदीग्राम में औद्योगीकरण के ख़िलाफ मुहिम चलाई थी। तब चूँकि स्थानीय भी वाम शासन से त्रस्त थे और चिह्नित भूमि पर औद्योगिक परियोजना चालू करने के ख़िलाफ थे तो उन्हें टीएमसी समेत सभी आंदोलनकारियों का जमकर साथ दिया।

सिंगूर में चलाए गए नैनो परियोजना के ख़िलाफ अभियान में ममता सरकार का दावा था कि इस प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल की जाने वाली जमीन काफी ऊपजाऊ है और वहाँ कई फसलें हो सकती हैं। इस अभियान में टीएमसी के साथ कई संगठन शामिल थे। धीरे-धीरे इसी अभियान की आग नंदीग्राम तक भड़की नजर आई थी और ‘कृषि जमीन बचाओ समिति’ की अगुवाई में नंदीग्राम ने जो आंदोलन देखा, उसमें लगभग दर्जनों लोगों की बलि चढ़ी थी। हैरानी इस बात की थी कि नंदीग्राम में केमिकल सेज के लिए केवल जमीन अधिग्रहण की सूचना देने भर से आंदोलन भड़क गया था।

आज दुखद यह है कि उस समय बड़े दावों के साथ जनता को अपने पक्ष में करने वाली टीएमसी सत्ता में आने के बाद उनकी उम्मीदों पर खरी नहीं उतर पाई। टीएमसी के 10 साल के कार्यकाल के बाद सिंगूर और नंदीग्राम का दोबारा केंद्र में आ जाना उन सभी बयानों को दोबारा ताजा कर देता है जिस पर तत्कालीन मुख्यमंत्री व मार्क्सवादी नेता बुद्धदेव चर्चा कर रहे थे। उन्होंने एनडीटीवी को दिए अपने इंटरव्यू में पार्टी की चरमराई स्थिति पर बात करते हुए नंदीग्राम और सिंगूर को अपनी सबसे बड़ी भूल कहा था।

क्या 10 साल बाद इन चुनावों में वही स्थिति ममता सरकार की होने वाली है? भाजपा नेता लॉकेट चटर्जी का तो कहना है कि सिंगूर से तृणमूल कॉन्ग्रेस का उत्थान हुआ था और सिंगूर से ही ममता बनर्जी का पतन होगा। सिंगूर के किसान 10 साल पहले जिस हाल में थे, आज भी उसी हाल में जी रहे हैं। 

आज शुभेंदु अधिकारी के इस्तीफे के बाद कयास लग रहे हैं कि इस हलचल के कारण ममता की करीब 20 सीटों पर प्रत्यक्ष प्रभाव पड़ेगा। उनकी नाराजगी पार्टी को बहुत बड़ा नुकसान पहुँचा सकती है। उनकी पहचान बंगाल में काफी ताकतवर के रूप होती है। वह एक सशक्त राजनीतिक परिवार से आते हैं। उनका प्रभाव न सिर्फ उनके क्षेत्र पर है, बल्कि पूर्वी मिदनापुर के आस-पास के जिलों में भी उनका राजनीतिक दबदबा है। 

नंदीग्राम आंदोलन का प्रमुख चेहरा शुभेंदु अधिकारी पार्टी से 2 बार सांसद रह चुके हैं। उन्होंने अपने कौशल से मिदनापुर इलाके को टीएमसी का गढ़ बनाया। ऐसे में हम अंदाजा लगा सकते हैं कि उनका पार्टी को छोड़ना ममता सरकार पर कितना बड़ा आघात होगा। यही कारण है कि उन्हें मनाने प्रशांत किशोर तक खुद उनके घर पहुँच गए थे। लेकिन प्रशांत की ये कोशिश बेकार गई और शुभेंदु ने उनसे मुलाकात नहीं की।

पिछले साल तक भाजपा खुद शुभेंदु को पार्टी से जुड़ने का ऑफर दे रही थी, लेकिन अब मीडिया में सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि शुभेंदु स्वयं ही भाजपा की ओर हाथ बढ़ाने वाले हैं। वे शनिवार को बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। मेदिनीपुर, झारग्राम, पुरुलिया, बांकुरा और बीरभूम जैसे जिलों में टीएमसी के प्रभाव के पीछे उनका ही हाथ माना जाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

10 को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 को पद्म श्री: पाने वालों में विदेशी राजनेता से लेकर धर्मगुरु तक

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

कल तक ‘कसम राम की’ कहने वाली शिवसेना भी ‘जय श्री राम’ पर हुई सेकुलर, बताया- राजनीतिक एजेंडा

कल तक 'कसम राम की' कहने वाली शिवसेना को अब जय श्री राम के नारे में धार्मिक अलगावाद दिखता है। राजनीतिक एजेंडा लगता है।

‘कोहराम मचा दो… मोदी को जला कर राख कर देगी’: किसानों के नाम पर अबू आजमी ने उगला जहर, सुनते रहे पवार

किसानों के नाम पर मुंबई में सपा विधायक अबू आजमी ने प्रदर्शनकारियों को उकसाने की कोशिश की। शरद पवार भी उस समय वहीं थे।

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

ऐसे लोगों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए: मुनव्वर फारूकी पर जस्टिस रोहित आर्य, कुंडली निकालने में जुटा लिब्रांडु गिरोह

हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले मुनव्वर फारूकी की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।

बहन को फुफेरे भाई कासिम से था इश्क, निक़ाह के एक दिन पहले बड़े भाई फिरोज ने की हत्या: अश्लील फोटो बनी वजह

इस्लामुद्दीन की 19 वर्षीय बेटी फिरदौस के निक़ाह की तैयारियों में पूरा परिवार जुटा हुआ था। तभी शनिवार की सुबह घर में टूथपेस्ट कर रही फिरदौस को अचानक उसके बड़े भाई फिरोज ने तमंचे से गोली मार दी।
- विज्ञापन -

 

‘गजनवी फोर्स’ से जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर हमले की फिराक में पाकिस्तान, सैन्य प्रतिष्ठान भी आतंकी निशाने पर

जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर आतंकी हमलों की फिराक में हैं। सैन्य प्रतिष्ठान भी निशाने पर हैं।
00:25:31

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

‘ऐसे बयान हमारी मातृभूमि के लिए खतरा’: आर्मी वेटरन बोले- माफी माँगे राहुल गाँधी

आर्मी वेटरंस ने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के उस बयान की निंदा की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘सेना की कोई आवश्यकता नहीं’ है।

10 को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 को पद्म श्री: पाने वालों में विदेशी राजनेता से लेकर धर्मगुरु तक

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

‘1 फरवरी को हम संसद तक पैदल मार्च निकालेंगे’: ट्रैक्टर रैली से पहले ‘किसान’ संगठनों का नया ऐलान

गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली की अनुमति मिलने के बाद अब 'किसान' संगठन बजट सत्र को बाधित करने की कोशिश में हैं। संसद मार्च का ऐलान किया है।

कल तक ‘कसम राम की’ कहने वाली शिवसेना भी ‘जय श्री राम’ पर हुई सेकुलर, बताया- राजनीतिक एजेंडा

कल तक 'कसम राम की' कहने वाली शिवसेना को अब जय श्री राम के नारे में धार्मिक अलगावाद दिखता है। राजनीतिक एजेंडा लगता है।

अशोका यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर ने भगवान राम का उड़ाया मजाक, राष्ट्रपति को कर रहा था ट्रोल

अशोका यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर नीलांजन सरकार ने अपना दावा झूठा निकलने पर भगवान राम का उपहास किया।

‘कोहराम मचा दो… मोदी को जला कर राख कर देगी’: किसानों के नाम पर अबू आजमी ने उगला जहर, सुनते रहे पवार

किसानों के नाम पर मुंबई में सपा विधायक अबू आजमी ने प्रदर्शनकारियों को उकसाने की कोशिश की। शरद पवार भी उस समय वहीं थे।

बॉम्बे HC के ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के खिलाफ अपील करें: महाराष्ट्र सरकार से NCPCR

NCPCR ने महाराष्ट्र सरकार से कहा है कि वह यौन शोषण के मामले से जुड़े बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ तत्काल अपील दायर करे।

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe