Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीति26/11 के बाद एक्शन नहीं लेना, कमजोरी की निशानी: कॉन्ग्रेसी नेता मनीष तिवारी ने...

26/11 के बाद एक्शन नहीं लेना, कमजोरी की निशानी: कॉन्ग्रेसी नेता मनीष तिवारी ने मनमोहन-सोनिया दोनों पर साधा निशाना?

"26/11 के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई नहीं करना, उसके साथ संयम बरतना शक्ति का प्रतीक नहीं है, बल्कि इसे कमजोरी की निशानी माना जाता है।"

10 FLASHPOINTS; 20 YEARS: NATIONAL SECURITY SITUATIONS THAT IMPACTED INDIA – यह एक किताब है। कॉन्ग्रेसी नेता मनीष तिवारी ने लिखी है। बाजार में यह 1 दिसंबर 2021 से उपलब्ध होगी। खबर यह है कि लेखक ने अपनी ही पार्टी की इस किताब में खबर ले ली है।

मनीष तिवारी का कहना है कि 26/11 के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए थी। तब की कॉन्ग्रेसी मनमोहन सरकार को घेरते हुए लेखक ने लिखा है कि एक ऐसे देश के लिए जो सैकड़ों निर्दोष लोगों के नरसंहार पर भी झिझकता नहीं है, उसके साथ संयम बरतना शक्ति का प्रतीक नहीं है, बल्कि इसे कमजोरी की निशानी माना जाता है।

10 FLASHPOINTS; 20 YEARS नाम की किताब से, साभार: मनीष तिवारी का ट्विटर वॉल

10 FLASHPOINTS; 20 YEARS नाम की अपनी आने वाली किताब में कॉन्ग्रेसी नेता मनीष तिवारी ने 26/11 मुंबई हमले की तुलना अमेरिका के 9/11 से की है। उन्होंने 26/11 के बाद “शब्दों से ज्यादा कार्रवाई की गूँज (actions must speak louder than words)” की वकालत करते हुए लिखा है कि भारत को उस समय अमेरिका की तरह ही जवाबी कार्रवाई करनी चाहिए थी।

मनीष तिवारी के बागी तेवर पुराने

26 नवंबर 2019 की बात है। मनीष तिवारी ने तब एक ट्वीट किया था।

उस समय भी मनीष तिवारी के ट्वीट का सारांश यही था – अगर अमेरिका में 26/11 के हमले हुए होते तो पाकिस्तान का क्या होता? अमेरिका में 9/11 के हमले के बाद अलकायदा को टार्गेट करते हुए अमेरिका ने खुद के देश में संदिग्ध आरोपितों और अफगानिस्तान के साथ जो किया, निश्चित ही लेखक के मन में वो रहा होगा और उसे भारत के साथ उन्होंने जोड़ा।

2019 का ट्वीट और अब 10 FLASHPOINTS; 20 YEARS नाम की किताब – मनीष तिवारी निश्चित ही मनमोहन सरकार और कॉन्ग्रेसी सुप्रीमो सोनिया गाँधी पर निशाना साधते दिख रहे हैं। शायद अपने उन कॉन्ग्रेसी साथियों पर भी, जिन्होंने हिंदू टेरर / भगवा आतंक की कहानी गढ़ कर 26/11 को RSS की साजिश बताने की राजनीति खेली थी।

राहुल गाँधी से भी नाराज मनीष तिवारी?

पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और अभी तक युवा नेता राहुल गाँधी पर परोक्ष रूप से निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पार्टी को हिंदू और हिंदुत्व के बहस से दूर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि मंदिर, गिरजाघर, गुरुद्वारा या मस्जिद में माथा टेकने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन यह किसी की राजनीति का आधार नहीं होना चाहिए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -