Thursday, January 28, 2021
Home राजनीति एक मुलाकात उस खास व्यक्ति से जो स्वरा से मिला, सेल्फी ली और कहा...

एक मुलाकात उस खास व्यक्ति से जो स्वरा से मिला, सेल्फी ली और कहा ‘आएगा तो मोदी ही’

वी. राँझा ने कहा कि वह अभिनेत्री के रूप में स्वरा भास्कर के प्रशंसक थे, हालाँकि, एक राजनेता के रूप में, वह प्रधानमंत्री मोदी को सत्ता में वापसी करते हुए देखना चाहते हैं क्योंकि अभी देश में उनके कैलिबर का कोई अन्य नेता नहीं है।

8 मई 2019 को, एक छोटी सी वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हुई, जिसमें एक व्यक्ति अभिनेत्री से ट्रोल हो चुकी स्वरा भास्कर के साथ एक सेल्फी ले रहा था। क्लिप में, सेल्फी लेते हुए, मुस्करा कर स्वरा भास्कर से कहता है, “पर मैम, आएगा तो मोदी ही”।

वायरल वीडियो के अभी तक कई संस्करण आ चुके हैं, कई मिम्स बन चुके हैं, जिससे ट्वीटर पर घमासान छिड़ा हुआ है। एक तरफ जहाँ मोदी समर्थक इसके मजे ले रहे हैं, वहीं स्वरा भास्कर ने उनके आनंद पर पानी फेरना चाहा, कहा कि जब उस आदमी ने उनसे हवाई अड्डे पर सेल्फी के लिए कहा, तो उन्होंने कहा, “जो उनके के साथ सेल्फी लेना चाहते हैं, वह उनसे भी राजनीतिक विचारधारा के आधार पर भेदभाव नहीं करती हैं।” लेकिन उसने ‘चुपके से यह वीडियो शूट किया है”। स्वरा ने आगे कहा कि अपनी घृणित शैली में, ऐसी अंडरहैंड और टैक्टिक रणनीति भक्तों का ट्रेडमार्क है।

वीडिओ वायरल है, ट्विटर पर बवाल काट रहा है, ऑपइंडिया ने उस व्यक्ति से संपर्क किया, जिसकी पहचान वी राँझा के रूप में की गई थी, वह एक पंजाबी गायक हैं, यह जानने के लिए कि पूरा मामला क्या था?

वी राँझा ने कहा कि उन्होंने स्वरा भास्कर से एक स्नैप स्टोरी के लिए पूछा था, जिसमें ऑडियो और वीडियो दोनों हैं। उन्होंने स्वरा को यह कहते हुए लताड़ा कि अगर यह उन्हें पसंद नहीं था, तो उन्हें वहीं उसे डिलीट करने के लिए कहना चाहिए था। उन्होंने कहा कि वह स्वरा को विवाद में नहीं घसीटना चाहते हैं और हो सकता है कि जब उन्होंने उनसे स्नैप स्टोरी के लिए पूछा तो उन्होंने हवाई अड्डे के शोर में ठीक से नहीं सुना हो।

उन्होंने कहा, “आएगा तो मोदी ही” कहने के बाद, स्वरा भास्कर ने बस इतना कहा कि ‘देखते हैं 23 मई को’ और चली गईं। यदि उसे स्नैप स्टोरी में कोई समस्या थी, तो उसे डिलीट करने के लिए कहना चाहिए था न कि वह इसे रीट्वीट कर और लोगों तक पहुँचाती।

वास्तव में, वी. राँझा ने कहा कि वह अभिनेत्री के रूप में स्वरा भास्कर के प्रशंसक थे, हालाँकि, एक राजनेता के रूप में, वह प्रधानमंत्री मोदी को सत्ता में वापसी करते हुए देखना चाहते हैं क्योंकि अभी देश में उनके कैलिबर का कोई अन्य नेता नहीं है।

यह पूछे जाने पर कि उन्होंने स्वरा भास्कर के राजनीतिक विचारों को अपवाद के रूप में क्यों लिया, उन्होंने कहा कि उस मामले में उन्हें स्वरा की राजनीति से कोई प्रॉब्लम नहीं है लेकिन जब बात भारतीय सेना और पाकिस्तान की होती है तो वे ऐसे मुद्दों पर वे स्टैंड लेते हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने मेजर गोगोई के बारे में स्वरा के ट्वीट को भी एक्सेपशन के तौर पर लिया, गोगोई एक पथराव करने वाली भीड़ के बीच से चुनाव अधिकारियों के लिए सुरक्षित मार्ग को सुनिश्चित करने के लिए अपनी जीप के बोनट पर एक पत्थरबाज को बाँध कर रास्ता बनाते हैं।

जब उनसे पूछा गया कि मेजर गोगोई के संबंध में उन्होंने कौन से बयान को एक्सेप्शन के रूप में लिया है, तो उन्होंने कहा कि वह स्वरा भास्कर द्वारा इस्तेमाल किए गए अपमानजनक शब्द को दोहराना नहीं चाहते हैं लेकिन यह ऑन रिकॉर्ड मौजूद है। हालाँकि, इस ट्वीट ने ट्विटर पर एक तगड़ी प्रतिक्रिया को जन्म दिया था।

आखिरकार, स्वरा ने दावा किया कि वह ऊना की घटना के बारे में बात कर रही थीं, लेकिन किसी ने भी स्वरा पर विश्वास नहीं किया क्योंकि उसने मेजर गोगोई के इस तरह से अधिकारियों को बचाने के अंतिम प्रयास की भी आलोचना की थी।

वैसे स्वरा भास्कर का पाकिस्तान के प्रति झुकाव भी काफी स्पष्ट है, जिसकी समय-समय पर चर्चा होती रही है। एक वीडियो में, उन्होंने पाकिस्तान की प्रशंसा करते हुए कहा था कि वह पाकिस्तान में रहने के बाद से पाक के लिए ‘डिसेंट वर्ड’ का ही उपयोग करना चाहती हैं ।

उन्होंने हाल ही में विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के लिए भी ‘तालिबान’ इमरान खान को श्रेय दिया था, जबकि स्पष्ट रूप से, घटनाक्रमों ने मोदी सरकार द्वारा पाकिस्तान पर गंभीर वैश्विक दबाव की ओर इशारा किया था, जिसकी वजह से उनकी रिहाई हुई थी। वास्तव में, अभिनन्दन जब तक पाकिस्तान में थे तब तक पाक ने लगातार अभिनंदन को मानसिक और शारीरिक चोट ही पहुँचाया था।

जब उनसे पूछा गया कि स्वरा भास्कर ने कन्हैया कुमार के लिए चुनाव प्रचार किया था तो इस बारे में आपने क्या सोचा है, तो वी राँझा ने कहा कि अगर वह किसी ऐसे व्यक्ति के लिए प्रचार करना चाहती हैं जो देश के ‘टुकडे टुकडे’ चाहता है, तो यह उसकी अपनी पसंद है।

राँझा ने यह भी कहा कि उसने वही किया जो वह करना चाहते हैं क्योंकि वह इसे अपने कुछ दोस्तों के साथ साझा करना चाहता थे और उन्हें यह नहीं पता था कि यह वायरल हो जाएगा। वह इससे पब्लिसिटी नहीं चाहते थे। क्योंकि, वह पहले से ही टी-सीरीज़ के साथ काम कर चुके हैं और YouTube पर उनके गाने के 3 मिलियन से अधिक व्यूज हैं।

उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर उनकी पर्याप्त फैन फॉलोइंग है और उन्हें प्रचार के लिए यह सब करने की आवश्यकता नहीं है।

स्वरा भास्कर के लिए परेशानी सिर्फ वी राँझा के साथ ही खत्म नहीं हुई। एक और घटना सामने आई है जहाँ स्वरा को ट्रोल किया गया है।

एक महिला पत्रकार द्वारा स्वरा भास्कर का इंटरव्यू लेने के बाद, उस पत्रकार द्वारा अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट करते हुए कहा गया कि उन्हें स्वरा का  इंटरव्यू लेते समय बहुत अच्छा लगा, लेकिन ‘आएगा तो मोदी ही’।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

योगेन्द्र यादव, राकेश टिकैत सहित 37 किसान नेताओं पर FIR: गिरफ्तारी पर कोई बात नहीं

राजधानी में हुई हिंसा के बाद एक्शन मोड में आई दिल्ली पुलिस ने 37 नेताओं पर एफआईआर दर्ज की है। इनमें राकेश टिकैत, डाॅ दर्शनपाल, जोगिंदर सिंह, बूटा, बलवीर सिंह राजेवाल और राजेंद्र सिंह के नाम शामिल हैं।

डर के मारे पड़ी फूट या समझदारी: दो ‘किसान’ संगठन हुए आंदोलन से अलग

भारतीय किसान यूनियन 'भानु' के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह और राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के वीएम सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना आंदोलन खत्म करने का एलान किया है।

प्रचलित ख़बरें

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

अब पूरे देश में ‘किसान’ करेंगे विरोध प्रदर्शन, हिंसा के लिए माँगी ‘माफी’… लेकिन अगला निशाना संसद को बताया

दिल्ली में हुई हिंसा पर किसान नेता 'गलती' मान रहे लेकिन बेशर्मी से बचाव भी कर रहे और पूरे देश में विरोध प्रदर्शन की बातें कर रहे।

26 जनवरी 1990: संविधान की रोशनी में डूब गया इस्लामिक आतंकवाद, भारत को जीतना ही था

19 जनवरी 1990 की भयावह घटनाएँ बस शुरुआत थी। अंतिम प्रहार 26 जनवरी को होना था, जो उस साल जुमे के दिन थी। 10 लाख लोग जुटते। आजादी के नारे लगते। गोलियॉं चलती। तिरंगा जलता और इस्लामिक झंडा लहराता। लेकिन...
- विज्ञापन -

 

किसान नहीं बल्कि पुलिस हुई थी हिंसक: दिग्विजय सिंह ने दिल्ली पुलिस को ही ठहराया दंगों का दोषी

कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि दिल्ली में किसान उग्र नहीं हुए थे बल्कि दिल्ली पुलिस उग्र हुई थी।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद ट्विटर ने किया 550 अकाउंट्स सस्पेंड, रखी जा रही है सबपर पैनी नजर

ट्विटर की ओर से कहा गया है कि इसने उन ट्वीट्स पर लेबल लगाए हैं जो मीडिया पॉलिसी का उल्लंघन करते हुए पाए गए। इन अकाउंट्स पर पैनी नजर रखी जा रही है।

वीडियो: खालिस्तान जिंदाबाद कहते हुए तिरंगा जलाया, किसानों के ‘आतंक’ से परेशान बीमार बुजुर्ग धरने पर बैठे

वीडियो में बुजुर्ग आदमी सड़क पर बैठे हैं और वहाँ से उठते हुए कहते हैं, "ये बोलते है आगे जाओगे तो मारूँगा। अरे क्या गुनाह किया है? हम यहाँ से निकले नहीं? हमारे रास्ते में आ गए।"

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

बिहार में टेंपो में सवार 2-3 लोगों ने दिनदहाड़े बीजेपी प्रवक्ता को मारी दो गोली: स्थिति नाजुक

कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य ललन प्रसाद सिंह से प्रभार को लेकर डॉ शम्शी का विवाद चल रहा था। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है।

महाराष्ट्र-कर्नाटक के बीच मराठी भाषी क्षेत्र घोषित हो केंद्र शासित प्रदेश: उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा कि कर्नाटक के कब्जे वाले मराठी-भाषी क्षेत्रों को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाना चाहिए, जब तक कि सुप्रीम कोर्ट अपना अंतिम फैसला नहीं दे देता।

हिंदू लड़की ने माता-पिता पर लगाया जबरन ईसाई बनाने का आरोप: 9 लोग गिरफ्तार, 2 की तलाश जारी

इंदौर से एक बेहद ही सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है, जहाँ एक लड़की ने अपने ही माता-पिता के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है कि वे उसका जबरन धर्मांतरण करवा रहे थे।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe