Saturday, May 15, 2021
Home राजनीति गुजरात से आए मजदूरों के लिए नहीं कॉन्ग्रेस की बस: राजस्थान में पैदल चलने...

गुजरात से आए मजदूरों के लिए नहीं कॉन्ग्रेस की बस: राजस्थान में पैदल चलने को मजबूर, जत्थे में गर्भवती महिला भी

मजदूरों ने बताया कि कॉन्ग्रेस पार्टी की सैकड़ों बसें सीमा पर खड़ी तो हैं, लेकिन उन्होंने इन मजदूरों के लगातार निवेदन के बावजूद उन्हें घर ले जाने से मना कर दिया। बेसहारा प्रवासियों का पूछना है कि क्या वो मजदूर नहीं हैं? उनकी मदद क्यों नहीं की गई?

कॉन्ग्रेस उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुँचाने के लिए 1000 बसों की व्यवस्था का दावा कर रही है। यूपी से लगी राजस्थान की सीमा पर उसने बसें खड़ी भी कर रखी है। लेकिन उसके ही शासन वाले राजस्थान में स्थिति बेहाल है। मजदूर पैदल चल घर जाने को मजबूर हैं, जबकि राजस्थान की गहलोत सरकार ने दावा किया था कि सूबे में कोई भी मजदूर पैदल चलता नहीं दिखेगा।

‘आजतक’ की ख़बर के अनुसार, राजस्थान में मजदूर अपने परिवार के साथ पैदल चलने को मजबूर हैं। उनके साथ महिलाएँ और बच्चे भी हैं। असल में सैकड़ों मजदूर राजस्थान होकर उत्तर प्रदेश पहुँचे हैं। उनमें से कई गुजरात से राजस्थान होते हुए यूपी में घुसे। ऐसा ही एक जत्था सूरत से पहुँचा, जो राजस्थान होते हुए यूपी के कासगंज के लिए निकला था। इनमें एक 8 महीने की गर्भवती महिला भी शामिल है, जिनका नाम सोनेन्द्री देवी है।

भरतपुर पहुँची महिला ने बताया कि वे लोग 10 दिनों से लगातार चलते जा रहे हैं। भरतपुर से ये जत्था उत्तर प्रदेश के लिए निकल जाएगा। ‘आजतक’ के सुरेश फौजदार को उन मजदूरों ने बताया कि कॉन्ग्रेस पार्टी की सैकड़ों बसें सीमा पर खड़ी तो हैं, लेकिन उन्होंने इन मजदूरों के लगातार निवेदन के बावजूद उन्हें घर ले जाने से मना कर दिया। बेसहारा प्रवासियों का पूछना है कि क्या वो मजदूर नहीं हैं? उनकी मदद क्यों नहीं की गई? ये बसें ऊँचा नगला सीमा पर खड़ी हैं।

यहाँ सवाल उठता है कि आख़िर मजदूरों की हितैषी होने का दावा करने वाली कॉन्ग्रेस ने इन मजदूरों को उत्तर प्रदेश की सीमा तक क्यों नहीं छोड़ा, जब राजस्थान में पार्टी की ही सरकार है? भाजपा नेता सतीश पूनियाँ ने भी यही आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि राजस्थान में पिछले 15 दिनों से हजारों प्रवासी मजदूर पैदल यात्रा करने को विवश हैं, लेकिन कॉन्ग्रेस अपने ही शासन वाले राज्य में उनके लिए कुछ नहीं कर रही। बता दें कि इस ‘बस सियासत’ पर कॉन्ग्रेस के अपने ही गढ़ की नेता ने पार्टी पर निशाना साधा है। विधायक अदिति सिंह ने कहा:

“राजस्थान के कोटा में जब उत्तर प्रदेश के हजारों बच्चे फँसे हुए थे, तब कहाँ थीं ये तथाकथित बसें? तब कॉन्ग्रेस सरकार इन बच्चों को घर तक तो छोड़िए, बॉर्डर तक भी नहीं छोड़ पाई। तब प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रातोंरात बसें लगाकर इन बच्चों को घर पहुँचाया। तब खुद राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने भी इसकी तारीफ की थी।”

ये वीडियो बताता है कि काफ़ी पहले से राजस्थान में मजदूर पैदल चलने को विवश हैं (साभार: आजतक)

इससे पहले कॉन्ग्रेस पार्टी ने यूपी सरकार को 1000 बसों की सूची सौंपने का दावा किया था। ये अलग बात है कि इनमें से 297 गाड़ियों में कोई न कोई गड़बड़ी है। 79 की फिटनेस नहीं है, 140 का बीमा समाप्त हो चुका है और 78 ऐसी हैं, जिनमें ये दोनों ही ख़त्म हो चुका है।

प्रियंका गाँधी द्वारा भेजे गए बसों की सूची में से 31 ऑटो थे, 69 एंबुलेंस, ट्रक या फिर अन्य वाहन थे। इसके साथ ही 70 ऐसे वाहनों की लिस्ट दी गई थी, जिसका कोई डेटा ही उपलब्ध नहीं था। बस ड्राइवरों को खाना भी नहीं दिया जा रहा हैं जिसके बाद उन्होंने कॉन्ग्रेस के खिलाफ नारेबाजी और विरोध प्रदर्शन किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

कभी एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में था BGML। लेकिन बीते दो दशक से बदहाली में था। आरएसएस की मदद से इसे नया जीवन दिया गया है।

₹995 में Sputnik V, पहली डोज रेड्डीज लैब वाले दीपक सपरा को: जानिए, भारत में कोरोना के कौन से 8 टीके

जानिए, भारत को किन 8 कोरोना वैक्सीन से उम्मीद है। वे अभी किस स्टेज में हैं और कहाँ बन रही हैं।

3500 गाँव-40000 हिंदू पीड़ित, तालाबों में डाले जहर, अब हो रही जबरन वसूली: बंगाल हिंसा पर VHP का चौंकाने वाला दावा

वीएचपी ने कहा है कि ज्यादातार पीड़ित SC/ST हैं। कई जगहों पर हिंदुओं से आधार, वोटर और राशन कार्ड समेत कई दस्तावेज छीन लिए गए हैं।

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने फ्री वैक्सीनेशन के लिए दिए ₹50 करोड़, पर महज तीन महीने में विज्ञापनों पर खर्च कर डाले ₹150 करोड़

दिल्ली में कोरोना के फ्री वैक्सीनेशन के लिए केजरीवाल सरकार ने दिए 50 करोड़ रुपए, पर प्रचार पर खर्च किए 150 करोड़ रुपए

महाराष्ट्र: 1814 अस्पतालों का ऑडिट, हर जगह ऑक्सीजन सेफ्टी भगवान भरोसे, ट्रांसफॉर्मर के पास स्टोर किए जा रहे सिलेंडर

नासिक के अस्पताल में हादसे के बाद महाराष्ट्र के अस्पतालों में ऑडिट के निर्देश तो दे दिए गए, लेकिन लगता नहीं कि इससे अस्पतालों ने कुछ सीखा है।

प्रचलित ख़बरें

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।

जेल के अंदर मुख्तार अंसारी के 2 गुर्गों मेराज और मुकीम की हत्या, UP पुलिस ने एनकाउंटर में मारा गैंगस्टर अंशू को भी

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जेल में कैदियों के बीच गैंगवार की खबर। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस फायरिंग में जेल के अंदर दो बदमाशों की...

‘क्या प्रजातंत्र में वोट की सजा मौत है’: असम में बंगाल के गवर्नर को देख फूट-फूट रोए पीड़ित, पाँव से लिपट महिलाओं ने सुनाई...

बंगाल के गवर्नर हिंसा पीड़ितों का हाल जानने में जुटे हैं। इसी क्रम में उन्होंने असम के राहत शिविरों का दौरा किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,349FansLike
94,031FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe