Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीतिदीवाली पर मोदी सरकार का बड़ा तोहफा: पेट्रोल पर ₹5 और डीजल पर ₹10...

दीवाली पर मोदी सरकार का बड़ा तोहफा: पेट्रोल पर ₹5 और डीजल पर ₹10 घटाई गई एक्साइज ड्यूटी, किसानों को मिलेगी राहत

केंद्र सरकार ने बुधवार (3 नवंबर, 2021) को पेट्रोल पर 5 रुपए और डीजल पर 10 रुपए एक्ससीडे ड्यूटी घटाने का निर्णय लिया।

मोदी सरकार ने दीवाली पर नागरिकों को बड़ा तोहफा दिया है। पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी घटाई गई है, जिससे आम नागरिकों को बड़ी राहत मिलेगी। केंद्र सरकार ने बुधवार (3 नवंबर, 2021) को पेट्रोल पर 5 रुपए और डीजल पर 10 रुपए एक्ससीडे ड्यूटी घटाने का निर्णय लिया। डीजल पर पेट्रोल से ज्यादा एक्साइज ड्यूटी इसीलिए घटाई गई है, ताकि किसानों को खेती के मौसम में राहत मिल सके। कृषि कार्यों में डीजल का ईंधन के रूप में काफी इस्तेमाल किया जाता है।

साथ ही राज्यों को भी कहा गया है कि वो पेट्रोल-डीजल पर VAT घटा कर आम लोगों को राहत दें। केंद्र सरकार ने बताया है कि पेट्रल-डीजल पर दी गई राहत गुरुवार, यानी दीवाली के दिन से ही लागू हो जाएगी। बाजार कंपनियों ने भी बुधवार को पेट्रोल और डीजल के दाम आगे न बढ़ाने का निर्णय लिया। फ़िलहाल दिल्ली में पेट्रोल का दाम 110.04 रुपए है, वहीं डीजल 98.42 रुपए प्रति लिटर है। वहीं मुंबई में पेट्रोल के दाम 115.85 और डीजल के दाम 106.62 रुपए प्रति लिटर है।

सभी मेट्रो शहरों में मुंबई में ही पेट्रोल-डीजल का मूल्य सबसे ज्यादा है। केंद्र ने कहा है कि आज के इस निर्णय से अर्थव्यवस्था की साईकल को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। सरकार ने किसानों की भी तारीफ की है, जिनकी मेहनत के कारण अर्थव्यवस्था टिकी रही और कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान भी वो काम में लगे रहे। रबी मौसम में किसानों को अब बड़ी राहत मिलेगी। वैश्विक स्तर पर हाल ही में कच्चे तेल के दाम काफी बढ़े हैं, जिसका असर भारत में भी हुआ था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe