Thursday, January 20, 2022
Homeराजनीतिममता घायल, एक भी पुलिस न होने का दावा: कॉन्ग्रेस ने कहा 'सियासी नौटंकी',...

ममता घायल, एक भी पुलिस न होने का दावा: कॉन्ग्रेस ने कहा ‘सियासी नौटंकी’, BJP ने की CBI जाँच की माँग

टीवी9 भारतवर्ष ने अपनी रिपोर्ट में चश्मदीदों के हवाले से बताया कि ममता बनर्जी पर किसी ने हमला नहीं किया। उनकी गाड़ी पिलर से टकराई थी। उनके साथ कई सारे पुलिसकर्मी थे। पुलिसकर्मी ने ममता बनर्जी के पैर पर बर्फ लगाया। ममता बनर्जी 5 मिनट रूकी और फिर चली गई। 4-5 लोगों द्वारा धकेलने की बात झूठी है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नंदीग्राम में प्रचार के दौरान घायल हो गई हैं, उनके पैर में चोट लगी है। बताया जा रहा है कि उनके पैर में सूजन है। उन्होंने इसे बीजेपी की साजिश बताते हुए कहा है कि उन पर हमला हुआ है। नामांकन दाखिल करने के बाद वह लगातार मंदिरों में दर्शन कर रही थीं और लोगों से मिल रही थीं। इसी दौरान एक जगह भीड़ होने पर उनके पैर में चोट लगी है। वहीं, बीजेपी ने कहा है कि ममता बनर्जी सहानुभूति बटोरने की कोशिश कर रही हैं। 

ममता बनर्जी ने कहा, ”4-5 लोगों ने मुझे धक्का दिया, जब मैं गाड़ी के पास थी। मेरा पैर कुचलने की कोशिश की गई। मेरे पैर मैं सूजन है। मैं अब कोलकाता जा रही हूँ, डॉक्टर को दिखाने के लिए। बहुत दर्द है। बुखार भी आ गया है। कोई पुलिसकर्मी नहीं था। 4-5 लोगों ने जानबूझकर यह किया है। यह साजिश है।” वहीं टीएमसी ने कहा है कि चार-पाँच लोगों ने उनपर हमला किया। यह साजिश के तहत किया गया है। पार्टी इसकी शिकायत चुनाव आयोग से करेगी। वहीं चुनाव आयोग ने इस मामले पर रिपोर्ट माँग ली है।

हालाँकि, टीवी9 भारतवर्ष ने अपनी रिपोर्ट में चश्मदीदों के हवाले से बताया कि ममता बनर्जी पर किसी ने हमला नहीं किया। उनकी गाड़ी पिलर से टकराई थी। उनके साथ कई सारे पुलिसकर्मी थे। पुलिसकर्मी ने ममता बनर्जी के पैर पर बर्फ लगाया। ममता बनर्जी 5 मिनट रूकी और फिर चली गई। 4-5 लोगों द्वारा धकेलने की बात झूठी है।

ममता बनर्जी को इलाज के लिए कोलकाता ले जाया जा रहा है। रात होने की वजह से चॉपर उड़ान नहीं भर सकता है, इसलिए उन्हें सड़क मार्ग से ही ले जाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इसके लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है। कोलकाता में दो अस्पताल तैयार रखे गए हैं।

बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ”वह मुख्यमंत्री हैं और 300-400 पुलिसकर्मियों के साथ रहती हैं, कोई सपने में भी नहीं सोच सकता है कि ममता बनर्जी पर हमला करे। हमला तो दूर की बात है कोई आँख उठा कर नहीं देख सकता है। यह एक्सीडेंट हो सकता है। लेकिन कोई हमला करने की हिम्मत नहीं कर सकता है। वह सहानुभूति बटोरने की कोशिश कर रही हैं।” बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता सामिक भट्टाचार्य ने कहा, ”मैं कामना करता हूँ कि वह जल्दी रिकवर कर जाएँ। उनके आसपास पुलिसकर्मी और समर्थक थे।”

पश्चिम बंगाल में बीजेपी के उपाध्यक्ष अर्जुन सिंह ने कहा, ”क्या तालिबान ने उनके पैर पर हमला किया। बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी उनके साथ रहते हैं। कौन उनके नजदीक जा सकता है? 4 आईपीएस अधिकारी उनकी सुरक्षा में तैनात हैं, उन्हें तुरंत सस्पेंड करना चाहिए। हमला करने वालों को गिरफ्तार किया जाए। वह सहानुभूति के लिए नाटक कर रही हैं।”

इसके साथ ही अर्जुन सिंह ने मामले में सीबीआई जाँच की माँग की है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “राज्य में कानून व व्यवस्था खराब होने की बात कहता था। आज मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पुलिस सुरक्षा के बीच घायल हो गईं। घटना की CBI जाँच करवाई जाए, दोषियों की तुरंत गिरफ्तारी हो और जिम्मेवार पुलिस अफसरों पर कार्रवाई। दीदी की जान बहुत कीमती है, उन्हें केंद्रीय सुरक्षा दी जाए।”

इसके साथ ही कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन ने ममता को मुख्यमंत्री के साथ पुलिस मंत्री बताते हुए इसे सियासी नौटंकी कहा है। उन्होंने कहा कि नंदीग्राम की विरोधी हवा भाप कर ये सिम्पैथी गेन करने की कोशिश है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को नंदीग्राम विधानसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल किया और जीतने का विश्वास जताते हुए कहा कि वह नंदीग्राम से कभी खाली हाथ नहीं लौटी हैं। इस सीट पर उनका मुकाबला पूर्व में अपने सहयोगी और अब भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी से होगा। बनर्जी ने तृणमूल प्रदेश अध्यक्ष सुव्रत बक्शी की उपस्थिति में हल्दिया सब डिविजनल कार्यालय में नामांकन दाखिल किया।

इससे पहले उन्होंने दो किलोमीटर लंबे रोड शो में हिस्सा लिया और एक मंदिर में पूजा अर्चना की। नामांकन दाखिल करने में बाद बनर्जी एक और मंदिर गईं। मुख्यमंत्री कोलकाता की भवानीपुर सीट छोड़ने के बाद पहली बार नंदीग्राम से चुनाव लड़ रही हैं। उन्होंने नंदीग्राम में एक घर किराए पर लिया है जहाँ से वह चुनाव प्रचार करेंगी। ऐसे ही कभी चुनाव प्रचार में केजरीवाल पर हमले की बात भी सुर्खियाँ बनती थी जबकि वह सुरक्षाकर्मी और अपने कार्यकर्ताओं से घिरे होते थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सपा सरकार है और सीएम हमारी जेब मैं है, जो चाहेंगे वही होगा’: कॉन्ग्रेस को समर्थन का ऐलान करने वाले तौकीर रजा पर बहू...

निदा खान कॉन्ग्रेस के समर्थक मौलाना तौकीर रजा खान की बहू हैं। उन्हें उनके शौहर ने कहा था कि वो नहीं चाहते कि परिवार की महिलाएं पढ़े।

शहजाद अली के 6 दुकानों पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, कार्रवाई के बाद सुराना गाँव के हिंदुओं ने हटाई मकान बेचने वाली सूचना

मध्य प्रदेश प्रशासन की कार्रवाई के बाद रतलाम में हिंदू समुदाय ने अपने घरों पर लिखी गई मकान बेचने की सूचना को मिटा दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,413FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe