Tuesday, June 25, 2024
HomeराजनीतिNDA ने नरेंद्र मोदी को लगातार तीसरी बार चुना अपना नेता, सब बोले -...

NDA ने नरेंद्र मोदी को लगातार तीसरी बार चुना अपना नेता, सब बोले – उनकी नीतियों से विकसित हो रहा देश

सर्वसम्मति से एक बार फिर से उन्हें अपना नेता चुन लिया गया। गरीब, महिला, युवा, किसान, शोषित, वंचित और पीड़ित नागरिकों की सेवा के लिए भी प्रतिबद्धता जताई गई है।

लोकसभा चुनाव 2024 के परिणाम जारी हो गए, जिसमें भाजपा को 240 सीटें प्राप्त हुईं और NDA 292 सीटों के साथ पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में लौटा। अब नई दिल्ली में बुधवार (5 जून, 2024) को NDA के घटक दलों की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गठबंधन का नेता चुन लिया गया है। गठबंधन ने जो प्रस्ताव पारित किया है, उसमें स्पष्ट लिखा है कि भारत के 140 करोड़ देशवासियों ने पीएम मोदी के नेतृत्व में NDA सरकार की जन-कल्याणकारी नीतियों से देश को हर क्षेत्र में विकसित होते देखा है।

NDA के सभी दलों द्वारा पारित किए गए प्रस्ताव में आगे लिखा है कि 6 दशक बाद ऐसा हुआ है जब भारत की जनता ने लगातार तीसरी बार पूर्ण बहुमत से किसी सशक्त नेतृत्व को चुना है। NDA नेताओं ने इस पर गर्व जताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में उन्होंने न सिर्फ ये चुनाव लड़ा, बल्कि जीता भी। साथ ही सर्वसम्मति से एक बार फिर से उन्हें अपना नेता चुन लिया गया। गरीब, महिला, युवा, किसान, शोषित, वंचित और पीड़ित नागरिकों की सेवा के लिए भी प्रतिबद्धता जताई गई है।

NDA ने अपने बयान में कहा है कि भारत की विरासत को संरक्षित कर देश के सर्वांगीण विकास हेतु NDA सरकार भारत के जन-जन के जीवन में सुधार लाने के लिए कार्य करती रहेगी। प्रधानमंत्री ने राजग के सभी सांसदों के प्रति कृतज्ञता जताते हुए कहा है कि वो इस निर्णय के लिए उन्हें धन्यवाद देते हैं। शुक्रवार (7 जून, 2024) को राजग के सभी सांसदों की बैठक होगी, जिसके बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

गठबंधन सहयोगियों से बातचीत की जिम्मेदारी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष JP नड्डा के अलावा ‘मोदी 2.0’ में गृह मंत्री रहे अमित शाह और रक्षा रहे मंत्री राजनाथ सिंह को सौंपा गया है। उधर I.N.D.I. गठबंधन भी सरकार बनाने पर विचार-विमर्श कर रहा है, लेकिन इसकी शायद ही कोई संभावना नज़र आ रही है। बता दें कि 17वीं लोकसभा को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भंग कर दिया है। अब 8 जून को शपथग्रहण समारोह के बाद नई कैबिनेट का गठन होगा। 3 निर्दलीयों और एक-एक सांसद वाले 7 अन्य दलों ने भी पीएम मोदी को समर्थन दिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -