Friday, June 21, 2024
Homeराजनीतिनेताजी को काबू नहीं कर पा रहे थे गाँधी, नेहरू का पक्ष लिया: सुभाष...

नेताजी को काबू नहीं कर पा रहे थे गाँधी, नेहरू का पक्ष लिया: सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनीता बोस बोलीं- कॉन्ग्रेस ने उनके साथ अन्याय किया

अनीता बोस ने कहा कि इस देश में उनके पिता की विरासत और पिता के साथ काफी गलत किया गया। वो कहती हैं कि नेताजी एक धर्मनिष्ठ हिंदू थे और वो धर्म के नाम पर लोगों की हत्या नहीं कर सकते थे, जैसा कि देश के बँटवारे के बाद हुआ था।

देश के महान स्वतंत्रता सेनानी और आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाषचंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) की 125वीं जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) इंडिया गेट पर उनकी होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण करेंगे। ये प्रतिमा ठीक उसी छतरी के नीचे स्थापित की जाएगी, जहाँ इस बीच नेताजी की बेटी जॉर्ज पंचम की प्रतिमा स्थापित है। सरकार के इस कदम का नेताजी की बेटी अनीता बोस ने स्वागत किया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कॉन्ग्रेस (Congress) के एक वर्ग ने उनके पिता के साथ अन्याय किया।

जी न्यूज की एंकर अदिति त्यागी को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में अनीता बोस (Anita bose) ने वो अनकही बातें साझा की, जिन पर बात करने से अक्सर सियासी बखेड़ा खड़ा हो जाता है। अनीता बोस ने कहा कि इस देश में उनके पिता की विरासत और पिता के साथ काफी गलत किया गया। वो कहती हैं कि नेताजी एक धर्मनिष्ठ हिंदू थे और वो धर्म के नाम पर लोगों की हत्या नहीं कर सकते थे, जैसा कि देश के बँटवारे के बाद हुआ था। बता दें कि विभाजन के दौरान लाखों हिंदुओं की हत्याएँ हुई थीं।

देश को आजाद कराना ही नेताजी का एकमात्र उद्देश्य था

अनीता बताती हैं कि उनके पिता नेताजी का एकमात्र उद्येश्य किसी भी तरह से देश को गुलामी की जंजीरों से आजाद कराना था। इसी मकसद को पूरा करने के लिए वो हिटलर से मिले थे। साथ ही वो ये भी चाहते थे कि जर्मनी, जापान और इटली भारत की स्वतंत्रता के प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करें। इसके लिए उन्होंने इटली के तानाशाह रहे मुसोलिनी से भी मुलाकात की थी। उन्होंने कहा कि इसका अर्थ ये कदापि अर्थ नहीं है कि वो फासीवाद के समर्थक थे।

नेताजी को काबू नहीं कर पा रहे थे गाँधी

नेताजी की बेटी के मुताबिक, उनके पिता विद्रोही स्वभाव के थे, जिस कारण महात्मा गाँधी उन्हें अपने बस में नहीं कर पा रहे थे। गाँधी ने नेहरू का पक्ष लिया। कॉन्ग्रेस के एक धड़े ने नेताजी के साथ गलत किया, उनके साथियों की निंदा की गई। नेताजी के सहयोगियों को वो लाभ भी नहीं मिला, जो कि अंग्रेजों के लिए लड़ने वालों को मिला। नेताजी की मौत के बारे में अनीता मानती हैं कि विमान दुर्घटना में उनकी मौत के सबूत हैं और गुमनामी बाबा वाली कहानी हास्यास्पद है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -