Tuesday, October 26, 2021
Homeराजनीतिबीजेपी के लिए गृह त्याग करेंगे नीतीश कुमार? अरुणाचल के बाद अब बिहार में...

बीजेपी के लिए गृह त्याग करेंगे नीतीश कुमार? अरुणाचल के बाद अब बिहार में निशाने पर तीर

बिहार में बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर BJP के बड़े नेता अब CM नीतीश को निशाने पर ले रहे। गृह सचिव आमिर सुब्हानी को हटाने से लेकर खुद नीतीश कुमार से गृह विभाग छोड़ने तक की बात। अमित शाह को लेटर भी!

बिहार में नीतीश कुमार ने नवंबर 16, 2020 में 13 अन्य मंत्रियों के साथ सातवीं बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। बिहार विधानसभा चुनाव में 74 सीटें जीतने वाली भाजपा (BJP) के इसमें 7 मंत्री थे। इनमें दो उप-मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी शामिल हैं। तब से अब तक मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें ही लगाई जा रही हैं। अब इसके डेढ़ महीने बाद संजय पासवान ने नीतीश कुमार से गृह विभाग छोड़ने की माँग कर दी है।

अटल बिहारी वाजपेयी की केंद्र सरकार में मानव संसाधन राज्यमंत्री रहे संजय पासवान ने कहा कि अब गृह विभाग का जिम्मा बिहार में किसी अन्य मंत्री को स्वतंत्र रूप से दे देना चाहिए। ये बड़ी माँग है, क्योंकि जब-जब नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार चली है, गृह विभाग उन्होंने अपने पास ही रखा है। संजय पासवान का कहना है कि ज़रूरी नहीं कि BJP को ही ये विभाग मिले, जदयू के ही किसी नेता को भी दिया जा सकता है।

जब ऑपइंडिया ने संजय पासवान से संपर्क कर के इस माँग के पीछे के निहितार्थ को समझना चाहा तो भाजपा के विधान पार्षद ने कहा कि किसी पत्रकार को फोन पर ही उन्होंने ये बयान दिया है। हालाँकि उन्होंने कहा कि वो अब भी इस बयान पर कायम हैं। बकौल संजय पासवान, अब समय आ गया है जब नीतीश कुमार किसी अन्य नेता को गृह विभाग सौंपे। हालाँकि, उन्होंने इसे भाजपा और जदयू के बीच मतभेद के रूप में देखने से इनकार कर दिया।

साथ ही उन्होंने बिहार के गृह सचिव आमिर सुब्हानी को भी हटाने की माँग की। आमिर बिहार में नीतीश कुमार के सबसे फेवरिट ब्यूरोक्रेट्स में से एक माने जाते हैं। पिछले 15 वर्षों से नीतीश कुमार का उन पर ही भरोसा रहा है। संजय पासवान ने कहा कि चूँकि वो लंबे समय से इस पद पर बने हुए हैं, इसीलिए उनकी जगह किसी और को मौका दिया जाना चाहिए। बिहार में अभी भी मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर दोनों सत्ताधारी दलों में एकमत नहीं हो सका है।

बिहार में BJP के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल भी खुलेआम राज्य में कानून व्यवस्था पर सवाल उठा चुके हैं। उन्होंने अपनी ही सरकार पर निशाना साधते हुए जल्द ही पुलिस महानिदेशक से मुलाकात की बात कही थी। बेतिया से पटना के लिए निकले जायसवाल को सेमरा में लोगों ने घेरा और अपनी शिकायतें सुनाईं। गाँव में आए दिन चोरी की घटनाओं की उन्हें जानकारी दी गई, जिसे लेकर उन्होंने फेसबुक पोस्ट भी लिखा।

बेतिया के भाजपा सांसद जायसवाल का कहना था कि तुरकौलिया के थाना प्रभारी ने शिकायत किए जाने पर उलटा ग्रामीणों को ही धमका दिया। रक्सौल में हुए एक हत्याकांड और अन्य घटनाओं का जिक्र कर उन्होंने बिहार के पुलिस-प्रशासन को अक्षम करार दिया। राज्य में सत्ताधारी गठबंधन की सबसे बड़ी पार्टी के मुखिया का इस तरह से बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर बयान देना जदयू को पसंद नहीं आया होगा।

इसके बाद भाजपा सांसद छेदी पासवान भी मुखर हो गए। रोहतास में एक पेट्रोल पम्प मालिक को गोलियों से भूने जाने की घटना और 72 घंटे में जिले में 5 हत्याओं पर उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह तक को पत्र लिखा। रोहतास में 2 सालों से एक ही एसपी है, इसे लेकर उनकी नाराजगी तो थी ही, साथ ही आम लोगों के मन में भी आक्रोश होने का उन्होंने जिक्र किया था। एसपी सत्यवीर सिंह को उन्होंने कर्तव्यहीन करार दिया।

इस तरह से इस एक महीने में भाजपा के 3 बड़े नेता राज्य की बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर सवाल उठा चुके हैं। जहाँ बेतिया के सांसद संजय जायसवाल और सासाराम के सांसद छेदी पासवान ने अपने-अपने क्षेत्रों में बढ़ती आपराधिक घटनाओं को लेकर आक्रोश जताया, वहीं अब संजय पासवान ने गृह विभाग किसी अन्य नेता को देकर गृह सचिव को बदलने की माँग कर दी। भाजपा के नेता अपनी ही सरकार पर सवाल उठा रहे हैं, तो इसके कुछ गहरे कारण जरूर हैं।

ये सब चर्चा तब चल रही है, जब जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को अरुणाचल प्रदेश में बड़ा झटका लगा है और पार्टी के कुल 6 विधायक भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। इनमें से 3 विधायकों को जदयू ने पहले ही पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाते हुए ‘कारण बताओ नोटिस’ भेजा था, इसके बाद उन्हें पार्टी से निलंबित भी किया था। आखिर इन सभी को मिला कर देखा जाए तो क्या निहितार्थ निकलते हैं? क्या ‘BJP की माँग’ पर नीतीश कुमार गृह विभाग छोड़ देंगे?

इस पर हमने जब वरिष्ठ पत्रकार सुरेंद्र किशोर से बात की तो उन्होंने कहा कि ऐसे किसी भी व्यक्ति के बयान को गंभीरता से लेने की ज़रूरत नहीं है, जो किसी निर्णायक पद पर न बैठा हो। उन्होंने बिना नाम लिए कहा कि कई बार कुछ नेता सिर्फ अपना अस्तित्व दर्शाने के लिए ऐसे बयान देते रहते हैं। उन्होंने जानकारी दी कि सीएम नीतीश को खुद बिगड़ती कानून व्यवस्था का भान है और उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक भी की है।

सुरेंद्र किशोर ने कहा, “इन नेताओं को अगर लगता है कि कुछ गलत है तो उन्हें जेपी नड्डा और अमित शाह से बात करनी चाहिए। क्या अमित शाह को नहीं पता होगा कि आमिर सुब्हानी 15 वर्षों से गृह सचिव हैं और नीतीश कुमार इतने ही समय से गृह मंत्रालय रखे हुए हैं। जिन नेताओं की हैसियत नहीं है, उनके बोलने का कोई अर्थ नहीं है। मुख्यमंत्री को परेशान करने के लिए वो बोलते रहते हैं। अगर सचमुच ऐसा है, तो बड़े स्तर पर बात होगी।”

सुरेंद्र किशोर ने इसे सामान्य राजनीति करार देते हुए कहा कि याद किया जाना चाहिए कि चुनाव से पहले भी कई नेता कह रहे थे कि भाजपा को चुनाव में अकेले जाना चाहिए और नीतीश कुमार से सम्बन्ध तोड़ लेना चाहिए, लेकिन क्या भाजपा आलाकमान ने उनकी इच्छा पूरी की? इन बयानों को भी इसी तरह देखा जाना चाहिए। फ़िलहाल अब बिहार में सभी की नजरें मंत्रिमंडल विस्तार पर टिकी हुई हैं।

उधर राजद अब भी नीतीश कुमार के साथ गठबंधन की उम्मीदें पाल कर बैठा है और अरुणाचल प्रकरण पर भी उन्हें घेर रहा है। राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने एक दशक पहले की उस घटना की याद दिलाई, जब मोदी (तब गुजरात के सीएम) के साथ तस्वीर छपने पर नीतीश ने भाजपा नेताओं के सम्मान में आयोजित रात्रिभोज रद्द कर दिया था। तिवारी ने कहा कि मोदी इसे भूलने वाले नहीं हैं।

उन्होंने नीतीश कुमार से पूछा कि भाजपा ने अरुणाचल प्रदेश में पूर्ण बहुमत में होने के बावजूद जदयू को तोड़ दिया तो इसका क्या अर्थ निकाला जाना चाहिए? उन्होंने कहा कि भाजपा शुरू से नीतीश कुमार को छोटा करना चाहती थी, जिसमें वो सफल रही, वहीं अब उसने मुख्यमंत्री को अपमानित करना भी शुरू कर दिया है? इस बयान से साफ़ है कि राजद अब भी नीतीश के चेहरे को अपने पाले में करने को बेताब है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल में नॉन-हलाल रेस्तराँ खोलने वाली महिला को बेरहमी से पीटा, दूसरी ब्रांच खोलने के खिलाफ इस्लामवादी दे रहे थे धमकी

ट्विटर यूजर के अनुसार, बदमाशों के खिलाफ आत्मरक्षा में रेस्तराँ कर्मचारियों द्वारा जवाबी कार्रवाई के बाद केरल पुलिस तुशारा की तलाश कर रही है।

असम: CM सरमा ने किनारे किया दीवाली पर पटाखों पर प्रतिबंध का आदेश, कहा – जनभावनाओं के हिसाब से होगा फैसला

असम में दीवाली के मौके पर पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध का ऐलान किया गया था। अब मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि ये आदेश बदलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,829FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe