Sunday, October 17, 2021
HomeराजनीतिTMC सांसद नुसरत जहां के करीबी बंगाली अभिनेता यश दासगुप्ता हो सकते हैं BJP...

TMC सांसद नुसरत जहां के करीबी बंगाली अभिनेता यश दासगुप्ता हो सकते हैं BJP में शामिल: रिपोर्ट्स

दासगुप्ता के बारे में बता दें कि वह तृणमूल कॉन्ग्रेस की सांसद नुसरत जहां के करीबी हैं। नुसरत के वैवाहिक जीवन में चल रही परेशानियों के बीच उनके और यश के डेटिंग करने की खबरें भी मीडिया में हैं।

बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 से पहले अटकलें लग रही हैं कि बंगाली अभिनेता यश दासगुप्ता भारतीय जनता पार्टी (भाजपा/ BJP) से जुड़ सकते है। रिपोर्ट के अनुसार, वह गेरुआ कैंप भाजपा ज्वाइन करेंगे।

यश दासगुप्ता के बारे में बता दें कि वह तृणमूल कॉन्ग्रेस की सांसद नुसरत जहां के करीबी हैं। नुसरत के वैवाहिक जीवन में चल रही परेशानियों के बीच उनके और यश के डेटिंग करने की खबरें भी मीडिया में हैं।

बता दें कि नुसरत जहां ने दो साल पहले निखिल जैन से शादी की थी। इसके बाद वह कई पूजा-पाठ कार्यक्रमों में नजर आईं और कट्टरपंथियों के निशाने पर रहीं। मगर, हाल में नुसरत को यश के साथ राजस्थान में ट्रिप पर देखा गया था।

इस हफ्ते से पहले अपनी फिल्म डिक्शनरी के प्रीमियर के लिए भी उन्होंने दासगुप्ता के साथ एंट्री की थी। उस दौरान दोनों ने हाथ पकड़ा हुआ था।

उल्लेखनीय है कि दासगुप्ता ने साल 2016 में बंगाली फिल्म से डेब्यू किया था। उनकी साथी कलाकार भी टीएमसी सांसद मिमी चक्रवर्ती थीं। नुसरत ने दोनों के साथ SOS कोलकाता में अभिनय किया था। जनवरी में नुसरत से उनकी शादी में होने वाली दिक्कतों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस पर कोई टिप्पणी करने से मना कर दिया था और जवाब में कहा था कि वो उनकी निजी जिंदगी है।

नुसरत ने अपने सोशल मीडिया अकॉउंट्स से अपने पति जैन के साथ हर तस्वीर को भी डिलीट कर दिया था। वहीं यश दासगुप्ता के साथ लगातार तस्वीरें शेयर कर रही हैं।

गौरतलब है कि साल 2019 में निखिल से शादी के बाद से नुसरत जहां कभी कट्टरपंथियों की टिप्पणियों या फिर भी मौलवियों के फतवों के कारण चर्चा में रह चुकी है। उन्होंने शादी के बाद जब पारंपरिक बंगाली बहु का फर्जी निभाते हुए सिंदूर खेला में हिस्सा लिया था तब वह चलताबागान दुर्गा पूजा पंडाल में गई थीं।

मीडिया से बात में उन्होंने कहा था, “मैं भगवान की सबसे प्यारी बच्ची हूँ। मैं सभी पर्व का आनंद उठा सकती हूँ। मैं अन्य बातों की अपेक्षा प्यार और मानवता को ज्यादा इज्जत देती हूँ। मैं बहुत खुश हूँ और विवादों से मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe