Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिनॉर्थ-ईस्ट को PM मोदी ने दिया पहला AIIMS, ₹14300 करोड़ के प्रोजेक्ट्स भी: कहा-...

नॉर्थ-ईस्ट को PM मोदी ने दिया पहला AIIMS, ₹14300 करोड़ के प्रोजेक्ट्स भी: कहा- पहले वाले क्रेडिट के भूखे थे इसलिए, पूर्वोत्तर उनके लिए बहुत दूर था

पीएम ने आगे कहा , "जनता तो जनार्दन का रूप होती है। ईश्वर का रूप होती है। पहले वाले क्रेडिट के भूखे थे। इसलिए, पूर्वोत्तर उनके लिए बहुत दूर था। पराए पन का भाव उन्होंने पैदा कर दिया था। हम तो सेवा भाव से आपके सेवक होने की भावना से समर्पण भाव से आपकी सेवा करते हैं।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम दौरे पर हैं। यहाँ उन्होंने असम को AIIMS गुवाहाटी समेत 14300 करोड़ रुपए की परियोजनाओं की सौगात दी। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दशकों तक देश में राज करने वाले लोग कहते हैं कि उन्हें क्रेडिट नहीं मिलता।

पीएम मोदी शुक्रवार (14 अप्रैल 2023) को असम के गुवाहाटी में पूर्वोत्तर भारत को पहले एम्स की सौगात दी। प्रधानमंत्री ने AIIMS गुवाहाटी के अलावा नलबाड़ी, नागाँव और कोकराझार के 3 मेडिकल कॉलेजों का भी वर्चुअली उद्घाटन किया। इसके अलावा उन्होंने ‘असम एडवांस्ड हेल्थ केयर इनोवेशन इंस्टीट्यूट’ तथा पलाशबाड़ी और सुआलकुची को जोड़ने वाले ब्रह्मपुत्र नदी पर पुल और शिवसागर के ‘रंग घर’ के सौंदर्यीकरण की आधारशिला रखी। कुल मिलाकर इस दौरे पर प्रधानमंत्री ने 14300 करोड़ रुपए की विकासकारी परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया।

इस मौके पर जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा है, “आजकल एक नई बीमारी देखने को मिल रही है। मैं देश में कहीं भी जाता हूँ और पिछले 9 वर्षों में हुए विकास की चर्चा करता हूँ तो कुछ लोगों को बहुत परेशानी हो जाती है। ये नई बीमारी है। वो शिकायत करते हैं कि दशकों तक उन्होंने भी देश पर राज किया है। लेकिन उन्हें क्रेडिट क्यों नहीं मिलता। क्रेडिट के भूखे लोगों और जनता पर राज करने की भावना ने देश का बहुत नुकसान किया है।”

पीएम ने आगे कहा, “जनता तो जनार्दन का रूप होती है। ईश्वर का रूप होती है। पहले वाले क्रेडिट के भूखे थे। इसलिए, पूर्वोत्तर उनके लिए बहुत दूर था। पराए पन का भाव उन्होंने पैदा कर दिया था। हम तो सेवा भाव से आपके सेवक होने की भावना से समर्पण भाव से आपकी सेवा करते हैं। आज नॉर्थ-ईस्ट में लोगों ने विकास की बागडोर आगे बढ़कर खुद संभाल ली है। भारत के विकास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहे हैं।”

उन्होंने यह भी कहा है कि केंद्र सरकार ने बीते वर्षों में 15 नए AIIMS पर काम शुरू किया। इनमें से अधिकतर में इलाज और पढ़ाई दोनों सुविधा शुरू हो चुकी है। AIIMS गुवाहाटी भी इसका परिणाम है कि सरकार जो संकल्प लेती है उसे सिद्ध करके दिखाती है। यह असम की जनता का प्यार है जो उन्हें खींचकर ले आता है। बीजेपी की सरकारों में नीति, नीयत और निष्ठा किसी स्वार्थ से नहीं बल्कि ‘राष्ट्र प्रथम, देशवासी प्रथम’ इसी भावना से नीतियाँ तय होती हैं।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा है, “बीजेपी वोटबैंक की बजाए देश की मुश्किलों को कम करने पर ध्यान दे रही है। सरकार ने लक्ष्य बनाया है ताकि हमारी बहनों को इलाज के लिए दूर ना जाना पड़े। यह भी तय किया कि किसी गरीब को पैसे के अभाव में अपना इलाज न टालना पड़े। सरकार का प्रयास है कि देश के गरीब परिवारों को भी घर के पास ही बेहतर इलाज मिले।”

बनेगा विश्व रिकॉर्ड…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम दौरे पर यहाँ के प्रसिद्ध बिहू महोत्सव में भी भाग लेंगे। इस महोत्सव में 11000 से अधिक कलाकार पीएम के सामने रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुति देंगे। साथ ही एक ही स्थान पर दुनिया के सबसे बड़े बिहू नृत्य का प्रदर्शन करते हुए अपना नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल कराने का प्रयास करेंगे। इस नृत्य कार्यक्रम में राज्य के 31 जिलों के कलाकार हिस्सा लेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीपफेक वीडियो और ऑनलाइन फेक न्यूज़ पर लगेगी लगाम, ‘मोदी 3.0’ लेकर आ रहा ‘डिजिटल इंडिया बिल’: डेटा प्रोटेक्शन के बाद अब YouTube और...

अमित शाह का वीडियो वायरल कर दिया गया और दावा किया गया कि वो आरक्षण खत्म करने की बात कर रहे हैं। कई हस्तियाँ डीपफेक की शिकार बन चुकी हैं।

कश्मीर को अलग बताने वाली अरुंधति रॉय ने गुजरात दंगों को लेकर भी बोले थे झूठ: एहसान जाफरी की बेटियों से रेप और जिंदा...

साल 2002 के गुजरात दंगों को अरुंधति रॉय ने अपने लेख के जरिए कई तरह के झूठ और भ्रम फैलाने की कोशिश की थी। इसके लिए उन्हें माफी भी माँगनी पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -