Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिसाल का पहला रोजगार मेला…PM मोदी ने बाँटे 71 हजार नियुक्ति पत्र: दिसंबर 2023...

साल का पहला रोजगार मेला…PM मोदी ने बाँटे 71 हजार नियुक्ति पत्र: दिसंबर 2023 तक 10 लाख सरकारी नौकरी देने का है लक्ष्य

प्रधानमंत्री ने कहा है, "पारदर्शी तरीके से भर्ती और पदोन्नति युवाओं में भरोसा जगाती है। ये पारदर्शिता उन्हें बेहतर तैयारी के साथ प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए प्रेरित करती है। हमारी सरकार इसी दिशा में निरंतर काम कर रही है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (20 जनवरी 2023) को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सरकारी विभागों और संगठनों में नई भर्ती के लिए लगभग 71,000 नियुक्ति पत्र वितरित किए। इस दौरान उन्होंने नए भर्ती हुए लोगों के साथ बातचीत भी की। इससे पहले पीएम मोदी ने गुरुवार (19 जनवरी 2023) को कर्नाटक में घुमंतू लंबारा (बंजारा) जनजाति के 52000 लोगों को ‘हक्कू पत्र’ (जमीन के कागज) वितरित करने की भी शुरुआत की।

पीएम मोदी ने नियुक्ति पत्र वितरित करते हुए कहा है कि यह साल 2023 का पहला रोजगार मेला है। इस साल की शुरूआत उज्जवल भविष्य की नई उम्मीदों के साथ हुई है। वह सभी युवाओं और उनके परिवारों को बधाई देते हैं। उन्होंने कहा है कि आने वाले दिनों में लाखों परिवारों को सरकारी नौकरी मिलने वाली है।

उन्होंने यह भी कहा है, “केंद्र सरकार, एनडीए और भाजपा शासित राज्यों में भी लगातार रोजगार मेले का आयोजन किया जा रहा है। निरंतर हो रहे ये रोजगार मेले अब हमारी सरकार की पहचान बन गए हैं। यह दिखाता है कि किस तरह हमारी सरकार जो संकल्प लेती है, उसे सिद्ध करके दिखाती है।”

पीएम मोदी ने आगे कहा, “आप सभी ने महसूस किया होगा कि भर्ती प्रक्रिया में व्यापक बदलाव हुआ है। केंद्रीय सेवाओं की भर्ती प्रक्रिया पहले के मुकाबले ज्यादा कारगर और समयबद्ध हुई है। आज आप भर्ती प्रक्रिया में जिस पारदर्शिता और रफ्तार को देख रहे हैं वो सरकार के हर काम में दिख रहा है।”

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा है, “पारदर्शी तरीके से भर्ती और पदोन्नति युवाओं में भरोसा जगाती है। ये पारदर्शिता उन्हें बेहतर तैयारी के साथ प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए प्रेरित करती है। हमारी सरकार इसी दिशा में निरंतर काम कर रही है।”

गौरतलब है कि रोजगार मेले के अंतर्गत देश भर से चुने गए युवा जूनियर इंजीनियर, लोको पायलट, टेक्नीशियन, इंस्पेक्टर, सब-इंस्पेक्टर, कांस्टेबल, स्टेनोग्राफर, जूनियर अकाउंटेंट, ग्रामीण डाक सेवक, इनकम टैक्स इंस्पेक्टर, शिक्षक, नर्स, डॉक्टर, सामाजिक सुरक्षा अधिकारी, पीए, एमटीएस समेत विभिन्न पदों पर भर्ती होंगे।

याद दिला दें कि पीएम मोदी ने पिछले साल घोषणा की थी कि वह विभिन्न सरकारी विभागों में रिक्त पदों को भरते हुए दस लाख युवाओं को दिसंबर, 2023 तक नौकरी देंगे। इसी क्रम में प्रधानमंत्री ने 10 लाख लोगों की भर्ती के लिए रोजगार मेला शुरू किया था। इसी कड़ी में रोजगार की पहली किश्त के रूप में, 71000 नियुक्ति पत्र बाँटे हैं।

इससे पहले, प्रधानमंत्री गुरुवार (19 जनवरी 2023) को कर्नाटक के पाँच जिलों में रहने वाली घुमंतू लंबारा जनजाति के 52000 से अधिक सदस्यों को हक्कू पत्र (जमीन का मालिकाना हक दिलाने वाले दस्तावेज) वितरण की शुरुआत की।

इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए, उन्होंने कहा “बंजारा (लंबानी घुमंतू) समुदाय के लोगों के लिए यह एक बड़ा दिन है। अब हक्कू पत्र के द्वारा 50000 से अधिक लोगों को अपनी छत मिलेगी”। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने खानाबदोश पांच दंपतियों को पांच हक्कू पत्र बाँटे।

उन्होंने कहा है, “ठंडास में रहने वालों को अपने अधिकारों के लिए लंबा संघर्ष करना पड़ा और कई कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ा। लेकिन अब निराशाजनक माहौल बदल रहा है। मैं बंजारा माताओं को विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि उनका बेटा (मोदी) दिल्ली में बैठा है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मध्य प्रदेश और बिहार में भी काँवर यात्रा मार्ग में ढाबों-ठेलों पर लिखा हो मालिक का नाम’: पड़ोसी राज्यों में CM योगी के फैसलों...

रमेश मेंदोला ने कहा कि नाम बताने में दुकानदारों को शर्म नहीं बल्कि गर्व होना चाहिए। हरिभूषण ठाकुर बचौल बोले - विवादों से छुटकारा मिलेगा।

‘लैंड जिहाद और लव जिहाद को बढ़ावा दे रही हेमंत सोरेन की सरकार’: झारखंड में गरजे अमित शाह, कहा – बिगड़ रहा जनसंख्या का...

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर 'भूमि जिहाद', 'लव जिहाद' को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए उन पर तीखा हमला किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -