Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीति₹10,000 करोड़ की 'सरयू नहर परियोजना' और 30 लाख किसानों को लाभ: 4 दशकों...

₹10,000 करोड़ की ‘सरयू नहर परियोजना’ और 30 लाख किसानों को लाभ: 4 दशकों से लंबित प्रोजेक्ट पर योगी सरकार का काम, PM करेंगे उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहराइच, श्रावस्ती एवं बलरामपुर से गोरखपुर तक जाने वाली 318 किमी लंबी सरयू नहर परियोजना का बलरामपुर से उद्घाटन करने वाले हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 दिसंबर 2021 को ‘सरयू नहर परियोजना’ का उद्घाटन करने वाले हैं। ऐसे में गुरुवार (दिसंबर 9, 2021) को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसका निरीक्षण करने हेलीकॉप्टर से बहराइच पहुँचे। यहाँ उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट से 9 जिलों के 30 लाख किसानों को लाभ पहुँचेगा।

उन्होंने बताया कि सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना 4 दशकों से अधिक समय से लंबित थी। अब प्रधानमंत्री मोदी आगामी 11 दिसंबर को इस बहुप्रतीक्षित परियोजना को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इससे 9 जनपदों के लगभग 30 लाख किसान लाभान्वित होंगे, साथ ही यह परियोजना प्रदेश के सर्वांगीण विकास में सहायक बनेगी।

सीएम योगी ने ट्वीट कर बताया, “₹10,000 करोड़ लागत की ‘सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना’ से 6,227 गाँवों की लगभग 15 लाख हेक्टेयर भूमि की सिंचाई हो सकेगी। कृषि एवं कृषक उत्थान को समर्पित ‘सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना’ विकास के नए मानक स्थापित करेगी।”

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहराइच, श्रावस्ती एवं बलरामपुर से गोरखपुर तक जाने वाली 318 किमी लंबी सरयू नहर परियोजना का बलरामपुर से उद्घाटन करने वाले हैं। ये योजना पूर्वांचल में बाढ़ एवं सूखे की समस्या से निपटने में मददगार साबित हो सकती है।

इसका निर्माण वर्ष 1972 से ही शुरू हो गया था। लेकिन इस पर अधिकांश काम 2017 के बाद हुआ। 11 दिसंबर को जब पीएम परियोजना का लोकार्पण करेंगे तो 11 दिसंबर को श्रावस्ती के राप्ती बैराज का आठों शटर खोले जाएँगे। यह पानी सीधे नदियों को जोड़ते हुए आगे बढ़ेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -