Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति1947 में भारत हो गया स्वतंत्र, पर प्रधानमंत्री को श्रीकृष्ण जन्मभूमि पहुँचने में लग...

1947 में भारत हो गया स्वतंत्र, पर प्रधानमंत्री को श्रीकृष्ण जन्मभूमि पहुँचने में लग गए 76 साल: PM मोदी ने मथुरा के मंदिर में की प्रार्थना

महान संत मीराबाई के 525वें जन्मोत्सव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार (23 नवंबर 2023) मथुरा पहुँचे। वहाँ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनकी आगवानी की। पीएम सीधे श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर पहुँचे और वहाँ गर्भगृह में पूजा-अर्चना की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज गुरुवार (23 नवंबर 2023) मथुरा पहुँचे। वहाँ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनकी आगवानी की। पीएम सीधे श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर पहुँचे और वहाँ गर्भगृह में पूजा-अर्चना की। उनके साथ सीएम योगी और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी मौजूद रहीं। इस तरह, पीएम मोदी मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर जाने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं।

गर्भगृह में पूजा-अर्चना और दर्शन करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भागवत भवन के लिए ऊपरी तल पर गए। दरअसल, प्रधानमंत्री मथुरा में महान संत एवं कृष्णभक्त मीराबाई की 525वीं जन्मोत्सव के उपलक्ष्य में मनाए जाने वाले ब्रज रज उत्सव में हिस्सा लेने के लिए आए हैं। ब्रज रज उत्सव में मथुरा से सांसद हेमा मालिनी मीराबाई पर आधारित नृत्य नाटिका प्रस्तुत करेंगी।

मथुरा में मीराबाई की स्मृति में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में एक डाक टिकट और 525 रुपए का एक खास स्मारक सिक्का भी जारी किया। 525 रुपए की मूल्य का यह पहला सिक्का है। इस खास सिक्के का कुल वजन 35 ग्राम है। इसमें 50 प्रतिशत चाँदी, 40 प्रतिशत ताँबा और 10 प्रतिशत जस्ता का मिश्रण है। इस सिक्के के एक तरफ अशोक स्तम्भ बना है, जिसके नीचे ₹525 लिखा है।

सिक्के के दूसरी तरफ मीराबाई का चित्र है। इस चित्र के ऊपर हिंदी में और नीचे अंग्रेजी में ‘संत मीराबाई की 525वीं जयंती’ लिखा है। मीराबाई चित्र के दाईं ओर 1498 और बाईं ओर 2023 लिखा है। पीएम को मीराबाई पर आधारित करीब पाँच मिनट की डाक्यूमेंट्री भी दिखाई गई। बता दें कि मीराबाई को भगवान कृष्ण की भक्ति के लिए जाना जाता है। उन्होंने कई भजनों, छंदों और ग्रंथों की रचना की है।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यक्रम को देखते हुए श्रीकृष्ण जन्मभूमि परिसर के आसपास सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रही। जगह-जगह पुलिस फोर्स तैनात है और सादे कपड़ों में खुफिया तंत्र निगाह बनाए हुए हैं। आने-जाने वालों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। परिसर में चारों तरफ एवं शाही ईदगाह मस्जिद क्षेत्र में भी पुलिस अलर्ट रही। वहीं दोपहर के बाद सुरक्षा सुरक्षा एजेंसियों ने इलाके के दुकानों को बंद करा दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -