Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिमोरबी पहुँच कर PM मोदी ने घायलों का लिया हालचाल, रेस्क्यू में लगे जवानों...

मोरबी पहुँच कर PM मोदी ने घायलों का लिया हालचाल, रेस्क्यू में लगे जवानों से भी की मुलाकात: हाई लेवल मीटिंग में जाँच का दिया आदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीड़ितों से मिलने से पहले उन अधिकारियों से मुलाकात की, जिन्होंने कई घंटों तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने मंगलवार (1 नवंबर, 2022) को गुजरात के मोरबी पहुँचकर अस्पताल में घायल लोगों से मुलाकात की और उनका हालचाल जाना। इस दौरान पीएम मोदी ने मोरबी में चल रहे रेस्क्यू अभियान की भी जानकारी ली। गुजरात के मोरबी ब्रिज हादसे में अब तक 141 लोगों की मौत हो चुकी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के सीएम भूपेंद्र पटेल के साथ मोरबी में घटनास्थल का दौरा किया। इस बीच मच्छु नदी में खोज और बचाव अभियान जारी है। इसके अलावा पीएम मोदी ने मोरबी हादसे पर हाई लेवल मीटिंग की है। मीटिंग में उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि इस मामले की एक विस्तृत जाँच होनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि यह हादसा कैसे हुआ, इसका पता लगाने का प्रयास होना चाहिए। बताया जा रहा है कि गुजरात सरकार ने मोरबी पुल हादसे में जान गँवाने वालों को श्रद्धांजलि देने के लिए दो नवंबर को राज्यव्यापी शोक की घोषणा की है।

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीड़ितों से मिलने से पहले उन अधिकारियों से मुलाकात की, जिन्होंने कई घंटों तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया। समाचार एजेंसी एएनआई (ANI) ने पीएम की वह तस्वीरें शेयर की हैं, जिसमें वह अधिकारियों से ​इस मामले पर बातचीत कर रहे हैं।

बता दें कि इस हादसे में अब तक 141 लोगों की मौत हो गई है। साथ ही, लगभग 100 लोग घायल हुए हैं। 140 साल पुराने इस पुल में बीते 7 महीनों से रिनोवेशन का काम किया जा रहा था। इसके कारण इस पुल को बंद किया गया था। रिनोवेशन के बाद मंगलवार (25 अक्टूबर, 2022) को ही इसे चालू किया गया था। पुल की लंबाई 200 मीटर व चौड़ाई 4-5 मीटर बताई जा रही है।

रिपोर्ट के अनुसार, इस पुल के मेंटेनेंस की जिम्मेदारी ‘ओरेवा ग्रुप’ नामक प्राइवेट कंपनी के पास है। इस ग्रुप ने मार्च 2022 से मार्च 2037, यानी 15 साल के लिए मोरबी नगर पालिका के साथ एक समझौता किया है। ग्रुप के पास ब्रिज की सुरक्षा, सफाई, रखरखाव, टोल वसूलने और स्टाफ मैनेजमेंट की जिम्मेदारी थी। रिनोवेशन के बाद भी इतना बड़ा हादसा होने पर ‘ओरेवा ग्रुप’ पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -