Thursday, April 18, 2024
Homeराजनीति'तेरा घमंड तो चार दिन का है... हमारी बादशाही खानदानी है': महाराष्ट्र में सियासी...

‘तेरा घमंड तो चार दिन का है… हमारी बादशाही खानदानी है’: महाराष्ट्र में सियासी उठापठक के बीच संजय राउत के घर के बाहर लगे पोस्टर

शिंदे अपने समर्थक विधायकों के साथ असम में डेरा डाले हुए है। उन्होंने अपने साथ 40 से अधिक विधायकों के होने का दावा किया है। इनमें 7 निर्दलीय बताए जा रहे हैं।

महाराष्ट्र की सियासत में एकनाथ शिंदे ने भूचाल ला दिया है। शिवसेना टूट की ओर बढ़ती दिख रही है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सरकार के भविष्य को लेकर कयास लग रहे। इस बीच शिवसेना नेता संजय राउत के घर के बाहर बुधवार (22 जून 2022) की सुबह दिखे पोस्टर की भी चर्चा हो रही है।

इस पोस्टर पर राउत की तस्वीर लगी है। साथ ही लिखा है, “तेरा घमंड तो 4 दिन का है पगले, हमारी बादशाही तो खानदानी है। जय महाराष्ट्र।” पोस्टर पर इसे लगाने वाली महिला की तस्वीर भी है। दीपमाला बढ़े नामक की इस महिला नेता को शिवसेना का कॉरपोरेटर बताया गया है।

इधर शिंदे अपने समर्थक विधायकों के साथ असम में डेरा डाले हुए है। उन्होंने अपने साथ 40 से अधिक विधायकों के होने का दावा किया है। इनमें 7 निर्दलीय बताए जा रहे हैं।

इस बीच, केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास आठवले ने कहा है कि देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनेंगे और एकनाथ शिंदे उप-मुख्यमंत्री। ‘रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (RPI)’ के मुखिया ने ‘TV9 भारतवर्ष’ से बात करते हुए कहा कि भाजपा, एकनाथ शिंदे और RPI मिल कर सरकार बनाएँगे। उधर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में कुल विधायकों की संख्या 288 है। इनमें भाजपा के पास अभी 106, शिवसेना पर 55, एनसीपी पर 52, और कॉन्ग्रेस पर 42 सीटें हैं। बहुमत के लिए किसी भी दल को 144 सीटें चाहिए। साल 2019 के चुनाव में भाजपा से अलग होकर शिवसेना ने कॉन्ग्रेस-एनसीपी के साथ मिल ये आँकड़ा जुटाया था। लेकिन अब स्थिति पलटती नजर आ रही है। भाजपा को सरकार बनाने के लिए 30-32 विधायकों की जरूरत है। अगर ऐसे में शिंदे भाजपा को समर्थन दे देते हैं तो उद्धव सरकार गिर जाएगी। यही वजह है कि लगातार इन सभी नेताओं को मनाने के प्रयास हो रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल-हराम के जाल में फँसा कनाडा, इस्लामी बैंकिंग पर कर रहा विचार: RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारत में लागू करने की...

कनाडा अब हलाल अर्थव्यवस्था के चक्कर में फँस गया है। इसके लिए वह देश में अन्य संभावनाओं पर विचार कर रहा है।

त्रिपुरा में PM मोदी ने कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्टों को एक साथ घेरा: कहा- एक चलाती थी ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’ दूसरे ने बना रखा था ‘लूट का...

त्रिपुरा में पीएम मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस सरकार उत्तर पूर्व के लिए लूट ईस्ट पालिसी चलाती थी, मोदी सरकार ने इस पर ताले लगा दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe