Sunday, June 26, 2022
Homeराजनीति'तेरा घमंड तो चार दिन का है... हमारी बादशाही खानदानी है': महाराष्ट्र में सियासी...

‘तेरा घमंड तो चार दिन का है… हमारी बादशाही खानदानी है’: महाराष्ट्र में सियासी उठापठक के बीच संजय राउत के घर के बाहर लगे पोस्टर

शिंदे अपने समर्थक विधायकों के साथ असम में डेरा डाले हुए है। उन्होंने अपने साथ 40 से अधिक विधायकों के होने का दावा किया है। इनमें 7 निर्दलीय बताए जा रहे हैं।

महाराष्ट्र की सियासत में एकनाथ शिंदे ने भूचाल ला दिया है। शिवसेना टूट की ओर बढ़ती दिख रही है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सरकार के भविष्य को लेकर कयास लग रहे। इस बीच शिवसेना नेता संजय राउत के घर के बाहर बुधवार (22 जून 2022) की सुबह दिखे पोस्टर की भी चर्चा हो रही है।

इस पोस्टर पर राउत की तस्वीर लगी है। साथ ही लिखा है, “तेरा घमंड तो 4 दिन का है पगले, हमारी बादशाही तो खानदानी है। जय महाराष्ट्र।” पोस्टर पर इसे लगाने वाली महिला की तस्वीर भी है। दीपमाला बढ़े नामक की इस महिला नेता को शिवसेना का कॉरपोरेटर बताया गया है।

इधर शिंदे अपने समर्थक विधायकों के साथ असम में डेरा डाले हुए है। उन्होंने अपने साथ 40 से अधिक विधायकों के होने का दावा किया है। इनमें 7 निर्दलीय बताए जा रहे हैं।

इस बीच, केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास आठवले ने कहा है कि देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनेंगे और एकनाथ शिंदे उप-मुख्यमंत्री। ‘रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (RPI)’ के मुखिया ने ‘TV9 भारतवर्ष’ से बात करते हुए कहा कि भाजपा, एकनाथ शिंदे और RPI मिल कर सरकार बनाएँगे। उधर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में कुल विधायकों की संख्या 288 है। इनमें भाजपा के पास अभी 106, शिवसेना पर 55, एनसीपी पर 52, और कॉन्ग्रेस पर 42 सीटें हैं। बहुमत के लिए किसी भी दल को 144 सीटें चाहिए। साल 2019 के चुनाव में भाजपा से अलग होकर शिवसेना ने कॉन्ग्रेस-एनसीपी के साथ मिल ये आँकड़ा जुटाया था। लेकिन अब स्थिति पलटती नजर आ रही है। भाजपा को सरकार बनाने के लिए 30-32 विधायकों की जरूरत है। अगर ऐसे में शिंदे भाजपा को समर्थन दे देते हैं तो उद्धव सरकार गिर जाएगी। यही वजह है कि लगातार इन सभी नेताओं को मनाने के प्रयास हो रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी’ : देश का मजाक उड़वाने के लिए NDTV ने पीयूष गोयल के बयान से की छेड़छाड़, पोल...

एनडीटीवी ने झूठ बोलकर पाठकों को भ्रमित करने का काम अभी बंद नहीं किया है। हाल में इस चैनल ने भाजपा नेता पीयूष गोयल के बयान को तोड़-मरोड़ के पेश किया।

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe