Monday, August 2, 2021
Homeराजनीति'तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त' गाने वाले 'ढोंगाचार्य' को चाहिए चंद्रयान-2 की 'असफलता' का...

‘तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त’ गाने वाले ‘ढोंगाचार्य’ को चाहिए चंद्रयान-2 की ‘असफलता’ का सबूत

यूपी में कॉन्ग्रेस का आध्यात्मिक चेहरा माने जाने वाले प्रमोद कृष्णन अपने उस वीडियो की वजह से भी जाने जाते हैं, जिसमें उन्होंने उदित नारायण के गाने 'तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त' को गाया था। मंच पर गायकों के साथ स्टेज साझा करते हुए उन्होंने झूमते हुए यह गाना गया था।

कॉन्ग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णन को चंद्रयान-2 की ‘असफलता’ के सबूत चाहिए। साथ ही वह विपक्ष से भी नाराज़ हैं, क्योंकि वह चंद्रयान-2 की नाकामी पर सरकार से सबूत की माँग नहीं कर रहा। 2014 में संभल और 2019 में लखनऊ से लोकसभा चुनाव लड़ कर जमानत जब्त करा चुके प्रमोद कृष्णन इससे पहले भी विवादित बयान देते रहे हैं। अपने आप को संत बताने वाले प्रमोद कृष्णन ने ट्विटर पर लिखा:

“सर्जिकल ‘स्ट्राइक्स’ और बालाकोट हमले के ‘सबूत’ माँगने से हुए भयंकर नुक़सान की वजह से विपक्ष इतना ‘भयभीत’ है कि चंद्रयान-2 की ‘असफलता’ पर भी कोई ‘सवाल’ नहीं उठा रहा।”

संभल स्थित कल्कि धाम के पीठाधीश्वर प्रमोद कृष्णन कॉन्ग्रेस की सभाओं में भी काफ़ी सक्रिय रहते हैं और यूपी में उन्हें पार्टी का आध्यात्मिक चेहरा माना जाता है। प्रमोद कृष्णन द्वारा यह कहना ग़लत है कि चंद्रयान-2 असफल हुआ, क्योंकि लैंडर विक्रम का चाँद की सतह पर उतरना इस मिशन का एक हिस्सा मात्र था, पूरा चन्द्रयान-2 मिशन की व्यापकता और उद्देश्य इससे कहीं बहुत बड़ा है।

इसरो प्रमुख के. सिवन ने कहा कि चंद्रयान-2 अपने लक्ष्य का 95% प्राप्त करने में सफल रहा है। पूरे देश ने वैज्ञानिकों का हौंसला बढ़ाते हुए उन्हें आगे के मिशन और प्रोजेक्ट्स के लिए शुभकामनाएँ दी। यहाँ तक कि कॉन्ग्रेस के कई नेताओं ने भी इसरो वैज्ञानिकों की तारीफ करते हुए बयान दिया। ऐसे में, प्रमोद कृष्णन का ऐसा बोलना ख़ुद उन्हीं की पार्टी लाइन से अलग है।

प्रमोद कृष्णन लोगों के बीच अपने उस वीडियो की वजह से भी जाने जाते हैं, जिसमें उन्होंने उदित नारायण के गाने ‘तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त’ को गाया था। मंच पर गायकों के साथ स्टेज साझा करते हुए उन्होंने झूमते हुए यह गाना गया था। आप भी उनकी इस परफॉरमेंस का आनंद उठा सकते हैं:

तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त: प्रमोद कृष्णन की आवाज़ में

प्रमोद कृष्णन कॉन्ग्रेस के टिकट पर संभल और लखनऊ से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं लेकिन उन्हें दोनों बार बुरी हार का सामना करना पड़ा था। जब भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी एक बड़े और महत्वपूर्ण मिशन को 95% सफल बता रही है, तब किसी नेता का इस तरह से बयान देना कहाँ तक उचित है? प्रमोद कृष्णन हमेशा साधु के वेश में रहते हैं और सफ़ेद वस्त्र पहनते हैं। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्र उन्हें ‘ढोंगाचार्य’ कहते हैं।

वैसे, प्रमोद कृष्णन ने यह साफ़ नहीं किया कि उन्हें किस प्रकार का सबूत चाहिए? अभी इसरो अगले 14 दिनों तक लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित करने की कोशिश करेगा। अभी तक इसकी भी पुष्टि नहीं हुई है कि विक्रम ने क्रैश लैंडिंग की। ऐसे में प्रमोद कृष्णन सबूत के रूप में क्या चाहते हैं, यह सोचने लायक बात है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुहर्रम पर यूपी में ना ताजिया ना जुलूस: योगी सरकार ने लगाई रोक, जारी गाइडलाइन पर भड़के मौलाना

उत्तर प्रदेश में डीजीपी ने मुहर्रम को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी हैं। इस बार ताजिया का न जुलूस निकलेगा और ना ही कर्बला में मेला लगेगा। दो-तीन की संख्या में लोग ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे।

हॉकी में टीम इंडिया ने 41 साल बाद दोहराया इतिहास, टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुँची: अब पदक से एक कदम दूर

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। 41 साल बाद टीम सेमीफाइनल में पहुँची है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,543FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe