Saturday, June 22, 2024
Homeराजनीतिराजीव गाँधी ने अमेठी की जनता को ऐसे ठगा था बार-बार... खुद प्रियंका ने...

राजीव गाँधी ने अमेठी की जनता को ऐसे ठगा था बार-बार… खुद प्रियंका ने सुनाई ‘जीप’ वाली कहानी, कॉन्ग्रेस ने शेयर किया वीडियो

प्रियंका गाँधी ने दावा किया कि उनके पिता राजीव गाँधी अमेठी में सबके घर जाते थे... 'गरीब लोग के भी' घर। लोग उन्हें प्यार से राजीव भैया कहते थे, अधूरे वादों पर उनसे सवाल भी करते थे।

कॉन्ग्रेस पार्टी का एक और सेल्फ-गोल। गोल खुद प्रियंका गाँधी ने किया है। गोल हुआ एक वीडियो से। खुद कॉन्ग्रेस ने शेयर किया है वीडियो। वीडियो में प्रियंका गाँधी ने अपने पिता राजीव गाँधी के बारे में बताया है। बात अमेठी की है, वहाँ के सड़कों-बिजली के बारे में है।

अब खबर (मजेदार है) विस्तार से। हुआ यह कि कॉन्ग्रेस ने प्रियंका गाँधी का एक वीडियो ट्वीट किया। इसमें उन्हें यह बताते हुए सुना जा सकता है कि कैसे उनके पिता राजीव गाँधी ने अमेठी के मतदाताओं को ठगा था। वो इसलिए क्योंकि लोग अक्सर उनसे उनके ही द्वारा किए गए वादों को पूरा नहीं करने के लिए सवाल करते थे, उन्हें डाँटते थे।

प्रियंका गाँधी ने ये सारी बात उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपने प्रचार के दौरान कही। गाजीपुर में एक चुनावी रैली में बोलते हुए उन्होंने अपने पिता को पूर्व प्रधानमंत्री के तौर पर याद किया। उन्होंने बताया कि उनके पिता राजीव गाँधी उन्हें उत्तर प्रदेश के गाँवों में जीप से ले जाते थे। आपको बता दें कि राजीव गाँधी अमेठी से सांसद (4 बार) थे।

राजीव गाँधी ‘गरीब’ लोग के घर जाते थे, ‘गरीब’ लोग उनसे सवाल पूछते थे… प्रियंका गाँधी ने ‘गरीब’ लोग को अपने भाषण में बार-बार दोहराया।

दरअसल प्रियंका गाँधी ने सोचा होगा कि अमेठी के ‘गरीब’ लोग और उनके पिता राजीव गाँधी के बीच बातचीत वाली कहानी सुना कर वो सहानुभूति लूट लेंगी, लेकिन हुआ इसके उल्टा। उल्टा इसलिए क्योंकि इतने साल सत्ता में रहने के बाद भी अमेठी में लोगों को कॉन्ग्रेस बुनियादी सुविधाएँ मुहैया कराने में नाकाम रही।

उत्तर प्रदेश या अमेठी के वोटरों को लेकर प्रियंका गाँधी की सोच क्या है, यह पिछले महीने के उनके एक भाषण से समझा जा सकता है। 2019 में स्मृति ईरानी से राहुल गाँधी अमेठी सीट से ही हारे थे। इस हार के लिए प्रियंका गांधी ने अमेठी के वोटरों को दोषी ठहराया था। उन्होंने दावा किया था अमेठी के वोटरों ने 2019 में आंख मूँद कर वोट किया था और अब अपनी स्थिति के लिए वो (वोटर) खुद जिम्मेदार हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -