Sunday, May 29, 2022
Homeराजनीतिराहुल गाँधी ने चन्नी को घोषित किया पंजाब में कॉन्ग्रेस का CM चेहरा: सिद्धू...

राहुल गाँधी ने चन्नी को घोषित किया पंजाब में कॉन्ग्रेस का CM चेहरा: सिद्धू को झटका, सुनील जाखड़ के राजनीति छोड़ने के चर्चे

राहुल गाँधी ने लोगों को संबोधित करते हुए दावा किया कि पंजाब का मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने से पहले उन्होंने कार्यकर्ताओं, वर्किंग कमेटी के लोगों और सदस्यों से बात की थी।

पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election-2022) के मद्देनजर मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर जारी सियासी घमासान आखिरकार थम गया है। कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) ने रविवार (6 फरवरी, 2022) को लुधियाना में जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पंजाब के सीएम पद से सस्पेंस को खत्म करते हुए चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को राज्य के अगले मुख्यमंत्री के तौर पर सामने रखा। इस फैसले ने मुख्यमंत्री बनने की लालसा पाले नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की मंशाओं को करारा झटका दे दिया है।

राहुल गाँधी ने लोगों को संबोधित करते हुए दावा किया कि पंजाब का मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने से पहले उन्होंने कार्यकर्ताओं, वर्किंग कमेटी के लोगों और सदस्यों से बात की थी। सभी ने एक ‘गरीब व्यक्ति’ को सीएम पद पर बैठाने की माँग की। राहुल का कहना था कि चन्नी गरीब परिवार से आते हैं औऱ उन्होंने बहुत ही करीब से न केवल गरीबी देखी है, बल्कि उसे जिया भी है। उन्होंने कहा, सबसे बड़ी बात उनमें किसी भी तरह का अहंकार नहीं है और वो लोगों के बीच जाते हैं।” इससे पहले राहुल गाँधी को होटल में चन्नी और सिद्धू को मनाना पड़ा।

वहीं अपने नाम के ऐलान से पहले चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा था कि जिस किसी के भी नाम का ऐलान किया जाएगा, वो उसके साथ मिलकर पार्टी के लिए काम करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने अपनी पीठ थपथपाते हुए कहा कि मेरा 40 साल का राजनीतिक कैरियर बेदाग रहा और मुझपर किसी न उँगली तक नहीं उठाई। जबकि हकीकत ये है कि चन्नी महिला IAS अधिकारी को 2018 में अश्लील मैसेज भेजने का आरोप लगा था।

सिद्धू ने खुद को बताया अरबी घोड़ा

सीएम के तौर पर चन्नी के नाम का ऐलान होने पर सिद्धू ने इशारों में ही कॉन्ग्रेस को चेतावनी दे डाली है। उन्होंने खुद को अरबी घोड़ा करार देते हुए कहा कि मुझे पद की कोई लालसा नहीं है, लेकिन मुझे दर्शनी घोड़ा न बनने देना। फैसला लेने की ताकत देना। उल्लेखनीय है कि इससे पहले चन्नी को ही सीएम पद दिए जाने की खबरों के बीच सिद्धू ने बागी तेवर अपनाते हुए कहा था कि ऊपर वाले तो चाहते हैं कि कोई कमजोर मुख्यमंत्री हो, जिसे वो ता थैया, ता थैया नचा सकें और कहें कि नाच मेरी बुलबुल तुझे पैसा मिलेगा।

सुनील जाखड़ ने छोड़ी राजनीति

पंजाब में कॉन्ग्रेस के मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में से एक माने जा रहे सुनील जाखड़ (Sunil Jakhar) के सक्रिय राजनीति इस्तीफा देने की खबर है। रिपोर्ट के मुताबिक, जाखड़ ने कहा है वो सक्रिय राजनीति से संन्यास ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी के कुछ सहयोगियों के कारण काम करना मुश्किल हो गया है। हालाँकि, उन्होंने ये भी कहा कि वो कॉन्ग्रेस का हिस्सा बने रहेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप...

गाँधी जी ने लिखा था, "अगर ‘अ’ (हिन्दू) का कब्जा अपनी जमीन पर है और कोई शख्स उसपर कोई इमारत बनाता है, चाहे वह मस्जिद ही हो, तो ‘अ’ को यह अख्तियार है कि वह उसे गिरा दे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe