Saturday, April 20, 2024
Homeराजनीतिराजस्थान की हालत भी ठीक नहीं, मंत्री खुद को राजा समझ रहे: कॉन्ग्रेस MLA...

राजस्थान की हालत भी ठीक नहीं, मंत्री खुद को राजा समझ रहे: कॉन्ग्रेस MLA का अपनी ही सरकार पर निशाना

मीणा पहले भी सरकार का कामकाज को लेकर सवाल उठा चुके हैं। इससे पहले उन्होंने कहा था कि अपनी ही सरकार में ही कॉन्ग्रेस के विधायकों का काम नहीं हो रहा। इतना ही नहीं विधायक ने लोकसभा में हार का जिम्मेदार उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ही ठहराया था।

जब से मध्य प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार पर संकट शुरू हुआ है तब से ही राजस्थान चर्चा के केंद्र में हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट भी अपनी उपेक्षा से नाराज हो देर-सबेर ज्योतिरादित्य सिंधिया के रास्ते पर बढ़ सकते हैं। कयासों के बीच प्रदेश में राजनीतिक हलचल भी तेजी है। कॉन्ग्रेस विधायक पीआर मीणा ने सरकार पर सवाल उठाकर प्रदेश की गहलोत सरकार में सब कुछ ठीक नहीं होने के दावों को और हवा दे दी है।

मीणा टोडाभीम से विधायक हैं। गुरुवार को विधानसभा पहुॅंचे मीणा ने कहा कि राजस्थान की स्थिति भी ज्यादा बेहतर नहीं है। मंत्री अपने को राजा समझ रहे। विधायकों की कोई सुन नहीं रहा है। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर भी कॉन्ग्रेस के विधायक अरसे से अपनी बातें नहीं सुने जाने का आरोप लगा रहे थे।

अब राजस्थान में भी ऐसे ही स्वर फूटने लगे हैं। मीणा ने प्रदेश सरकार की कार्यपद्धति पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि प्राकृतिक आपदा से किसानों की फसलें बर्बाद हो गई हैं। इसके बाद भी पीड़ित किसानों का दर्द नहीं सुना जा रहा है। उन्होंने कहा कि मंत्रियों को टाइट करने की जरूरत है। साथ ही उन दो-तीन विधायकों को भी जो खुद को मुख्यमंत्री से भी ऊपर समझ रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस हालत से ज्यादातर विधायक नाराज हैं।

मीणा पहले भी सरकार का कामकाज को लेकर सवाल उठा चुके हैं। इससे पहले उन्होंने कहा था कि अपनी ही सरकार में ही कॉन्ग्रेस के विधायकों का काम नहीं हो रहा। इतना ही नहीं विधायक ने लोकसभा में हार का जिम्मेदार उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ही ठहराया था। इसके बाद उन्हें कारण बताओ नोटिस भी भेजा गया था।

गौरतलब है कि राजस्थान में कॉन्ग्रेस सरकार बनने के ही अशोक गहलोत और सचिन पायलट के मतभेद सामने आ गए थे। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर दोनों के समर्थक रोड पर आ गए थे। इसके बाद अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री तो बन गए लेकिन सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री के पद से संतोष करना पड़ा। इसके बाद ऐसे कई मौके आए कि जब दोनों के मतभेद खुलकर जनता के सामने आए। चाहे फिर वह लोकसभा में टिकट बँटवारे का मामला हो या फिर राज्यसभा के उम्मीदवार को लेकर दोनों के बीच वर्चस्व की लड़ाई। इतना ही नहीं एक बार तो सचिन पायलट अपनी ही सरकार पर कानून-व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े कर चुके हैं।

राजस्‍थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं। 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस ने 99 सीटों पर जीत हासिल की थी। सहयोगी और निर्दलीय विधायकों की मदद से कॉन्ग्रेस ने आसानी से बहुमत का जादुई आँकड़ा पार कर लिया था। वहीं BJP को महज 73 सीटे ही मिल पाई थीं। इन दोनों दलों के अलावा बसपा के 6 विधायक जीतकर आए थे। माना जा रहा है कि सचिन पायलट के खेमे के ऐसे 20 विधायक हैं जो गहलोत के रवैए से नाराज हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एक ही सिक्के के 2 पहलू हैं कॉन्ग्रेस और कम्युनिस्ट’: PM मोदी ने मलयालम तमिल के बाद मलयालम चैनल को दिया इंटरव्यू, उठाया केरल...

"जनसंघ के जमाने से हम पूरे देश की सेवा करना चाहते हैं। देश के हर हिस्से की सेवा करना चाहते हैं। राजनीतिक फायदा देखकर काम करना हमारा सिद्धांत नहीं है।"

‘कॉन्ग्रेस का ध्यान भ्रष्टाचार पर’ : पीएम नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक में बोला जोरदार हमला, ‘टेक सिटी को टैंकर सिटी में बदल डाला’

पीएम मोदी ने कहा कि आपने मुझे सुरक्षा कवच दिया है, जिससे मैं सभी चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हूँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe