Thursday, February 25, 2021
Home राजनीति राजस्थान की हालत भी ठीक नहीं, मंत्री खुद को राजा समझ रहे: कॉन्ग्रेस MLA...

राजस्थान की हालत भी ठीक नहीं, मंत्री खुद को राजा समझ रहे: कॉन्ग्रेस MLA का अपनी ही सरकार पर निशाना

मीणा पहले भी सरकार का कामकाज को लेकर सवाल उठा चुके हैं। इससे पहले उन्होंने कहा था कि अपनी ही सरकार में ही कॉन्ग्रेस के विधायकों का काम नहीं हो रहा। इतना ही नहीं विधायक ने लोकसभा में हार का जिम्मेदार उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ही ठहराया था।

जब से मध्य प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार पर संकट शुरू हुआ है तब से ही राजस्थान चर्चा के केंद्र में हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट भी अपनी उपेक्षा से नाराज हो देर-सबेर ज्योतिरादित्य सिंधिया के रास्ते पर बढ़ सकते हैं। कयासों के बीच प्रदेश में राजनीतिक हलचल भी तेजी है। कॉन्ग्रेस विधायक पीआर मीणा ने सरकार पर सवाल उठाकर प्रदेश की गहलोत सरकार में सब कुछ ठीक नहीं होने के दावों को और हवा दे दी है।

मीणा टोडाभीम से विधायक हैं। गुरुवार को विधानसभा पहुॅंचे मीणा ने कहा कि राजस्थान की स्थिति भी ज्यादा बेहतर नहीं है। मंत्री अपने को राजा समझ रहे। विधायकों की कोई सुन नहीं रहा है। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर भी कॉन्ग्रेस के विधायक अरसे से अपनी बातें नहीं सुने जाने का आरोप लगा रहे थे।

अब राजस्थान में भी ऐसे ही स्वर फूटने लगे हैं। मीणा ने प्रदेश सरकार की कार्यपद्धति पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि प्राकृतिक आपदा से किसानों की फसलें बर्बाद हो गई हैं। इसके बाद भी पीड़ित किसानों का दर्द नहीं सुना जा रहा है। उन्होंने कहा कि मंत्रियों को टाइट करने की जरूरत है। साथ ही उन दो-तीन विधायकों को भी जो खुद को मुख्यमंत्री से भी ऊपर समझ रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस हालत से ज्यादातर विधायक नाराज हैं।

मीणा पहले भी सरकार का कामकाज को लेकर सवाल उठा चुके हैं। इससे पहले उन्होंने कहा था कि अपनी ही सरकार में ही कॉन्ग्रेस के विधायकों का काम नहीं हो रहा। इतना ही नहीं विधायक ने लोकसभा में हार का जिम्मेदार उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ही ठहराया था। इसके बाद उन्हें कारण बताओ नोटिस भी भेजा गया था।

गौरतलब है कि राजस्थान में कॉन्ग्रेस सरकार बनने के ही अशोक गहलोत और सचिन पायलट के मतभेद सामने आ गए थे। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर दोनों के समर्थक रोड पर आ गए थे। इसके बाद अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री तो बन गए लेकिन सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री के पद से संतोष करना पड़ा। इसके बाद ऐसे कई मौके आए कि जब दोनों के मतभेद खुलकर जनता के सामने आए। चाहे फिर वह लोकसभा में टिकट बँटवारे का मामला हो या फिर राज्यसभा के उम्मीदवार को लेकर दोनों के बीच वर्चस्व की लड़ाई। इतना ही नहीं एक बार तो सचिन पायलट अपनी ही सरकार पर कानून-व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े कर चुके हैं।

राजस्‍थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं। 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस ने 99 सीटों पर जीत हासिल की थी। सहयोगी और निर्दलीय विधायकों की मदद से कॉन्ग्रेस ने आसानी से बहुमत का जादुई आँकड़ा पार कर लिया था। वहीं BJP को महज 73 सीटे ही मिल पाई थीं। इन दोनों दलों के अलावा बसपा के 6 विधायक जीतकर आए थे। माना जा रहा है कि सचिन पायलट के खेमे के ऐसे 20 विधायक हैं जो गहलोत के रवैए से नाराज हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

LoC पर युद्धविराम समझौते के लिए भारत-पाक तैयार, दोनों देशों ने जारी किया संयुक्त बयान

दोनों देशों ने तय किया कि आज, यानी 24-45 फरवरी की रात से ही उन सभी पुराने समझौतों को फिर से अमल में लाया जाएगा, जो समय-समय पर दोनों देशों के बीच हुए हैं।

यहाँ के CM कॉन्ग्रेस आलाकमान के चप्पल उठा कर चलते थे.. पूरे भारत में लोग उन्हें नकार रहे हैं: पुडुचेरी में PM मोदी

PM मोदी ने कहा कि पहले एक महिला जब मुख्यमंत्री के बारे में शिकायत कर रही थी, पूरी दुनिया ने महिला की आवाज में उसका दर्द सुना लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री ने सच बताने की बजाए अपने ही नेता को गलत अनुवाद बताया।

‘लोकतंत्र सेनानी’ आज़म खान की पेंशन पर योगी सरकार ने लगाई रोक, 16 सालों से सरकारी पैसों पर कर रहे थे मौज

2005 में उत्तर प्रदेश की मुलायम सिंह यादव की सपा सरकार ने आजम खान को 'लोकतंत्र सेनानी' घोषित करते हुए उनके लिए पेंशन की व्यवस्था की थी।

RSS कार्यकर्ता नंदू की हत्या के लिए SDPI ने हिन्दूवादी संगठन को ही बताया जिम्मेदार: 8 गुंडे पुलिस हिरासत में, BJP ने किया बंद...

BJP ने RSS कार्यकर्ता की हत्या के विरोध में अलप्पुझा जिले में सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक ‘हड़ताल’ का आह्वान किया है। 8 SDPI कार्यकर्ता हिरासत में हैं।

दिल्ली दंगों का 1 साल: मस्जिदों को राशन, पीड़ित हिन्दुओं को लंबी कतारें, प्रत्यक्षदर्शी ने किया खालसा व केजरीवाल सरकार की करतूत का खुलासा

ऑपइंडिया ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली के स्थानीय लोगों से बात की, जिन्होंने दंगों को लेकर अपने अनुभव साझा किए और AAP सरकार के दोहरे रवैए के बारे में बताया।

केजरीवाल की रैली में ₹500 देने का वादा कर जुटाई भीड़, रूपए ना मिलने पर मजदूरों का हंगामा

वीडियो में देखा जा सकता है कि रैली में आने के लिए तय किए गए रुपए न मिलने के कारण मजदूर भड़के हुए हैं और पैसों की माँग कर रहे हैं। उनमें महिलाएँ भी शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

उन्नाव मर्डर केस: तीसरी लड़की को अस्पताल में आया होश, बताई वारदात से पहले की हकीकत

विनय ने लड़कियों को कीटनाशक पिलाकर बेहोश किया और बाद में वहाँ से चला गया। बेहोशी की हालत में लड़कियों के साथ किसी तरह के सेक्सुअल असॉल्ट की बात सामने नहीं आई है।

ई-कॉमर्स कंपनी के डिलीवरी बॉय ने 66 महिलाओं को बनाया शिकार: फीडबैक के नाम पर वीडियो कॉल, फिर ब्लैकमेल और रेप

उसने ज्यादातर गृहणियों को अपना शिकार बनाया। वो हथियार दिखा कर रुपए और गहने भी छीन लेता था। उसने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

महिला ने ब्राह्मण व्यक्ति पर लगाया था रेप का झूठा आरोप: SC/ST एक्ट में 20 साल की सज़ा के बाद हाईकोर्ट ने बताया निर्दोष

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा, "पाँच महीने की गर्भवती महिला के साथ किसी भी तरह की ज़बरदस्ती की जाती है तो उसे चोट लगना स्वाभाविक है। लेकिन पीड़िता के शरीर पर इस तरह की कोई चोट मौजूद नहीं थी।”

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

UP: भीम सेना प्रमुख ने CM आदित्यनाथ, उन्नाव पुलिस के खिलाफ SC/ST एक्ट के तहत दर्ज की FIR

भीम सेना प्रमुख ने CM योगी आदित्यनाथ और उन्नाव पुलिस अधिकारियों पर गुरुग्राम में SC/ST एक्ट के तहत शिकायत दर्ज करवाई है।

लोगों को पिछले 10-15 सालों से थूक वाली रोटियाँ खिला रहा था नौशाद: पूरे गिरोह के सक्रीय होने का संदेह, जाँच में जुटी पुलिस

नौशाद के साथ शादी समारोह में लगे ठेकेदारों की जानकारी भी जुटाई जा रही है। वो शहर की कई मंडपों और शादियों में खाना बना चुका है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

291,994FansLike
81,854FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe