​गुर्जरों के कोटे से मुसलमानों को आरक्षण दे सकती है राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

मांगणियार, ढाढ़ी, लंगा, दमामी, मीर, नगारची, राणा, बायती, बारोटा आदि जातियों को भी विशेष पिछड़ा वर्ग में शामिल किया जाएगा। मौजूदा वक़्त में ये सारी जातियाँ ओबीसी में आती हैं।

राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार ने मुसलमानों को आरक्षण देने के लिए एक विशेष सर्वे शुरू किया है। राज्य की गहलोत सरकार गुर्जरों के कोटे से मुसलमानों को आरक्षण देना चाहती है। फिलहाल मुसलमान पिछड़ा वर्ग के कोटे से आरक्षण का फायदा उठा रहे थे। लेकिन, अब उन्हें विशेष पिछड़ा वर्ग में शामिल कर इस कोटे से लाभ देने की योजना सरकार ने बनाई है।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक अपने कदम का बचाव करते हुए सरकार का कहना है कि राजस्थान में मुसलमानों की आर्थिक हालत खराब है। प्रदेश सरकार के आदेश के बाद सभी जिलों में डीएम ने इस सम्बन्ध में सर्वे कराने के आदेश जारी कर दिए हैं।

बता दें कि प्रदेश सरकार के इस फैसले के बाद मुस्लिमों को विशेष पिछड़ा वर्ग कोटे में शामिल कर लिया जाएगा। इस फैसले पर गुर्जरों ने कड़ी आपत्ति जताई है। आरक्षण की लड़ाई लड़ रहे गुर्जरों ने साफ़ कर दिया कि एमबीसी (मोस्ट बैकवर्ड कास्ट) कोटे में किसी भी अन्य जाति या समुदाय को आरक्षण देने का सवाल ही नहीं पैदा होता।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यह भी पढ़ें: सपा नेता आज़म ख़ान ने की मुसलमानों के लिए 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग

प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार पर गुर्जर समाज के एक नेता हिम्मत सिंह ने हमला बोलते हुए कहा है कि किसी भी परिस्थिति में गुर्जर कोटे से किसी अन्य को हिस्सेदारी नहीं दी जा सकती, ऐसा करना गुर्जर समाज के साथ अन्याय होगा।

एक रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार के इस फैसले के तहत मुसलमानों के अलावा मांगणियार, ढाढ़ी, लंगा, दमामी, मीर, नगारची, राणा, बायती, बारोटा आदि जातियों को भी विशेष पिछड़ा वर्ग में शामिल किया जाएगा। मौजूदा वक़्त में यह सारी जातियाँ ओबीसी में आती हैं।

यह भी पढ़ें: …अगर मुसलमान गटर में हैं तो आरक्षण देकर उन्हें वहाँ से बाहर निकालना चाहिए

इस मुद्दे पर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक ने किरोड़ी सिंह बैंसला कहा “आरक्षण का हक लेने के लिए हमारे समाज ने काफी संघर्ष किया। 73 लोगों ने अपनी जान गँवा दी थी। हम किसी भी हाल में दूसरी जातियों को इसमें (विशेष पिछड़ा वर्ग) आरक्षण नहीं लेने देंगे।” उन्होंने कहा कि यदि सरकार उन्हें आरक्षण देना ही चाहती है तो ओबीसी में से ही वर्गीकरण करे। लेकिन एमबीसी कोटे से आरक्षण देना कतई संभव नहीं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

उद्धव ठाकरे-शरद पवार
कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी के सावरकर को लेकर दिए गए बयान ने भी प्रदेश की सियासत को गरमा दिया है। इस मसले पर भाजपा और शिवसेना के सुर एक जैसे हैं। इससे दोनों के जल्द साथ आने की अटकलों को बल मिला है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,575फैंसलाइक करें
26,134फॉलोवर्सफॉलो करें
127,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: