Tuesday, April 13, 2021
Home राजनीति ये कॉन्ग्रेस की आखिरी सरकार, इसका लंबा भविष्य नहीं: राजस्थान के गाँवों में छाने...

ये कॉन्ग्रेस की आखिरी सरकार, इसका लंबा भविष्य नहीं: राजस्थान के गाँवों में छाने के बाद BJP प्रदेश अध्यक्ष का दावा

संघ की पृष्ठभूमि से आने वाले सतीश पूनिया का यह सांगठनिक कौशल ही है कि वसुंधरा राजे, गजेंद्र सिंह शेखावत, गुलाबचंद कटारिया जैसे नेताओं के बीच बँटी प्रदेश बीजेपी को न केवल वे एक साथ लेकर चलने में कामयाब रहे, बल्कि पार्टी को एक ऐसे चुनाव में सफलता दिलवाई जिसका अतीत प्रदेश की विपक्षी दल की हार को तय बताते हैं।

मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के पतन के बाद से ही राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कॉन्ग्रेस सरकार के भविष्य को लेकर अटकलें लगती रहती है। राज्य में जिला परिषद और पंचायत समिति चुनाव के नतीजों के बाद बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने ऑपइंडिया से बातचीत में दावा किया है कि यह राज्य में कॉन्ग्रेस की आखिरी सरकार है और इसका लंबा भविष्य नहीं है।

उन्होंने कहा, “हमने कभी अधिकृत तौर पर नहीं कहा कि कॉन्ग्रेस की सरकार को गिराएँगे। ये जरूर कहा था कि ये सरकार अपने कर्मों से गिरेगी। कर्मों का कारण कॉन्ग्रेस पार्टी खुद है। अशोक गहलोत अपना घर खुद सँभाल नहीं पाए।”

उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस में हुई महत्वाकांक्षा की लड़ाई से केवल कॉन्ग्रेस को ही नुकसान नहीं हुआ, बल्कि इससे राजस्थान को भी नुकसान हुआ। सचिन पायलट की नाराजगी का हवाला देते हुए कहा, “प्रदेश सरकार और कॉन्ग्रेस दोनों नैतिक रूप से कमजोर हो चुकी है। उनका मनोबल गिर चुका है। मुख्यमंत्री की भाषा देखें, उनकी कार्यशैली देखें, वे हमेशा विचलित दिखाई पड़ते हैं।” पूनिया ने कोरोना के कारण पैदा हुए संकट को कॉन्ग्रेस के लिए अवसर के समान बताते हुए कहा कि यदि सामान्य हालात होते तो राज्य की जो स्थिति है उसमें यह सरकार आंदोलन से ही गिर गई होती।

सतीश पूनिया के साथ ऑपइंडिया की पूरी बातचीत आप नीचे सुन सकते हैं;

गौरतलब है कि राजस्थान में अमूमन पंचायत और जिला परिषद चुनाव में सत्ताधारी दल की जीत होती रही है। इस बार बीजेपी की जीत ने इस मिथक को तोड़ने का काम किया है। राज्य के 21 जिलों में से 20 में जिला प्रमुख चुन लिए गए हैं। इनमें से 12 में बीजेपी का प्रमुख चुना गया है। प्रदेश की सत्ताधारी कॉन्ग्रेस के खाते में 5 तो निर्दलीयों के हिस्से में 3 जिलों में प्रमुख की कुर्सी आई है। जिला परिषदों की कुल 636 सीटों में से 353 पर बीजेपी को तो 252 कॉन्ग्रेस को सफलता मिली है। वहीं पंचायत समिति में भाजपा ने 1989 और कॉन्ग्रेस ने 1852 सीटें जीती हैं। अन्य को 525 सीटों पर सफलता मिली है।

बीजेपी की यह जीत इसलिए भी चौंकाने वाली है क्योंकि ये नतीजे किसान आंदोलन की पृष्ठभूमि में आए हैं। ग्रामीण इलाकों के इन चुनावों में किसान वोटर प्रभावशाली माने जाते हैं। पूनिया ने इस जीत का श्रेय केंद्र की मोदी सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में किए गए बुनियादी विकास के काम को दिया है।

हालाँकि जानकार इन नतीजों को पूनिया की सांग​ठनिक क्षमताओं की परिणति बता रहे हैं। असल में पूनिया को प्रदेश बीजेपी की जिम्मेदारी सँभाले करीब एक साल हुआ है। लेकिन, उन्होंने इस दौरान संगठन को सक्रिय करने के लिए संभाग, जिला और मंडल स्तर तक प्रभारी और सह प्रभारी लगाए। नगर निगम चुनाव से लेकर और पंचायतीराज चुनाव तक प्रभारी और सह प्रभारी की जिम्मेदारी ज्यादातर उन लोगों को दी गई जो 30 से 50 वर्ष के बीच के थे।

संघ की पृष्ठभूमि से आने वाले पूनिया का यह सांगठनिक कौशल ही है कि वसुंधरा राजे, गजेंद्र सिंह शेखावत, गुलाबचंद कटारिया जैसे नेताओं के बीच बँटी प्रदेश बीजेपी को न केवल वे एक साथ लेकर चलने में कामयाब रहे, बल्कि पार्टी को एक ऐसे चुनाव में सफलता दिलवाई जिसका अतीत प्रदेश की विपक्षी दल की हार को तय बताते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

कालीन के अंदर कब तक छिपाते रहेंगे मुहम्मदवाद के खतरे… आज एक वसीम रिजवी है, एक यति नरसिंहानंद हैं; कल लाखों होंगे

2021 में भी समाज को 600 ईस्वी की रिवायतों से चलाने की क्या जिद है, धरती को चपटा मानने की और बुराक घोड़े को जस का तस स्वीकारने की क्या जिद है।

‘कॉन्ग्रेस में शरीफ होना पाप, प्रशांत किशोर की फौज को खुश कर मिलता है टिकट’: पंजाब के पार्टी नेता ने खोले राज

बंगाल में ममता बनर्जी की संभावित हार से पीछे छुड़ाने की कोशिश में लगे प्रशांत किशोर के लिए पंजाब की राह भी आसान नहीं दिखती।

जलियाँवाला नरसंहार वाले जनरल डायर का स्वर्ण मंदिर में सिरोपा दे हुआ था सम्मान, अमरिंदर के पुरखे भी थे अंग्रेजों के वफादार

जलियाँवाला बाग़ नरसंहार के बारे में कौन नहीं जानता। यह नरसंहार अंग्रेज अधिकारी जनरल रेजिनाल्ड एडवर्ड डायर के आदेश पर हुआ था। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि अकाल तख़्त ने उसे सिरोपा देकर सम्मानित किया था।

लालू यादव की सलामती के लिए उनकी बेटी रखेंगी रोज़ा, अल्लाह-पाक से न्याय की भी दुआ करेंगी

लालू को कानून ने साबित कर दिया है कि वो अपराधी है, सजा दी जा चुकी है। लेकिन बेटी रोहिणी को यह मंजूर नहीं। वो पूरे महीने रोज़े रख कर...

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,171FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe