Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीति'राजस्थान में बुरी तरह हार रही कॉन्ग्रेस': अशोक गहलोत के बेटे ने ही लाल...

‘राजस्थान में बुरी तरह हार रही कॉन्ग्रेस’: अशोक गहलोत के बेटे ने ही लाल डायरी में की भविष्यवाणी, कहा- ‘पापा सरकार रिपीट नहीं कर पाएँगे लिखकर देता हूँ’

राजेंद्र गुढ़ा ने दावा किया था कि इस लाल डायरी में विधायकों की खरीद-फरोख्त के साथ-साथ क्रिकेट के चुनाव में किसे कितने रुपए दिए और क्या काले कारनामे हुए गए इन सबका हिसाब है।

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2023 में कॉन्ग्रेस को बुरी हार मिल रही है। ये भविष्यवाणी कॉन्ग्रेसी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत ने 2020 में ही कर दी थी। उनकी भविष्यवाणी का खुलासा हुआ है लाल डायरी के उन चार नए पन्नों से, जिसे मीडिया के सामने रखा है गहलोत के बर्खास्त मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने। दावा किया जाता है कि यह लाल डायरी राजस्थान पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष धर्मेंद्र राठौड़ के घर से कुछ महीनों पहले बर्खास्त किए गए मंत्री राजेंद्र गुढ़ा लेकर आए थे।

राजेंद्र गुढ़ा ने अशोक गहलोत के उदयपुरवाटी दौरे से ठीक पहले इस डायरी के चार पन्ने जारी किए हैं, इसके एक पन्ने में कथित रूप से राजेंद्र राठौड़ वैभव गहलोत के एक फोन का जिक्र कर रहे हैं। इसमें वैभव गहलोत ने कहा- “पापा सरकार रिपीट नहीं कर पाएँगे ये लिखकर दे देता हूँ।”

भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, इस पन्ने पर लिखा है, ”वैभव गहलोत का फोन आया कि पापा इसलिए वापिस सरकार नहीं बना पाते हैं… हर बार… इस बार भी… मैं इसलिए लिख के दे सकता हूँ। सरकार बुरी तरह हारेगी। इसका कारण वे स्वंय हैं। अधिकारियों से ऐसे घिर जाते हैं। उन्हें राजनैतिक व्यक्ति बहुत बुरा लगने लग जाता है। वैभव जी के कहने पर सवाईमाधोपुर में एक स्वीपर का भी ट्रांसफर नहीं किया। जिला के अधिकारियों में मेरा बहुत गलत मैसेज गया है। दानिश के सीएम साहब के भारी खिलाफ होते हुए भी उसके कहने पर मेरी बेईज्जती की। तब मैंने वैभव जी द्वारा भेजे ह्वाट्सऐप मैसेज सीएम साब के ओएसडी शशिकांत को भेजकर कहा कि सीएम साहब को कहना वैभव जी बहुत नाराज हैं।”

लाल डायरी का पन्ना, जिसमें वैभव कॉन्ग्रेस के हार की वजह बता रहे हैं। फोटो साभार : भास्कर

राजेंद्र गुढ़ा को मंत्रिमंडल से कर दिया गया था बर्खास्त

बता दें कि राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने राजस्थान विधानसभा में इस डायरी को लहराया था। उन्होंने राजस्थान सरकार को आईना दिखाते हुए कहा था कि राजस्थान सरकार पहले राजस्थान की समस्याओं पर बात करे, बाद में किसी और जगह की। इसके बाद उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था। राजेंद्र गुढ़ा ने कहा था कि वो लाल डायरी को विधानसभा स्पीकर की टेबल पर रखना चाहते थे, लेकिन कॉन्ग्रेसी विधायकों ने उसका आधा हिस्सा उनसे छीन लिया। राजेंद्र गुढ़ा ने दावा किया था कि इस लाल डायरी में विधायकों की खरीद-फरोख्त के साथ-साथ क्रिकेट के चुनाव में किसे कितने रुपए दिए और क्या काले कारनामे हुए गए इन सबका हिसाब है।

प्रधानमंत्री मोदी ने भी किया था इस डायरी का जिक्र

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी 27 जुलाई 2023 को इस लाल डायरी का जिक्र अपनी एक सभा में किया था। उन्होंने कहा था, “कॉन्ग्रेस ने राजस्थान में सरकार चलाने के नाम पर सिर्फ लूट की दुकान चलाई है और झूठ का बाजार चलाया है। झूठ की दुकान का सबसे ताजा प्रोजेक्ट है, राजस्थान की ‘लाल डायरी’। कहते हैं इस ‘लाल डायरी’ में कॉन्ग्रेस सरकार के काले कारनामे दर्ज हैं। लोग कह रहे हैं कि ‘लाल डायरी’ के पन्ने खुले तो अच्छे-अच्छे निपट जाएँगे। कॉन्ग्रेस के बड़े से बड़े नेताओं की इस ‘लाल डायरी’ का नाम सुनते ही बोलती बंद हो रही है। ये लोग भले ही मुँह पर ताला लगा लें, लेकिन ये ‘लाल डायरी’ इस चुनाव में कॉन्ग्रेस का डिब्बा गोल करने जा रही है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -