Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'मैंने ढाँचा तोड़ा था, हम वहाँ जाएँगे और मंदिर बनाएँगे': साध्वी प्रज्ञा ठाकुर

‘मैंने ढाँचा तोड़ा था, हम वहाँ जाएँगे और मंदिर बनाएँगे’: साध्वी प्रज्ञा ठाकुर

साध्वी प्रज्ञा ने कहा, “हम बाबरी ढाँचे के विध्वंस पर क्यों पछताएँगे? वास्तव में, हमें इस पर गर्व है। राम मंदिर के पास कुछ बेकार का कचरा था जिसे हमने साफ़ कर दिया। इससे हमारे देश का स्वाभिमान जागृत हुआ है और हम एक भव्य राम मंदिर का निर्माण करेंगे।”

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर से अपने निर्भीक अंदाज़ से देश की जनता को परिचित कराया। उन्होंने कहा कि वह राम मंदिर के निर्माण में मदद करेंगी और हमें ऐसा करने से कोई नहीं रोक सकता। साध्वी ने कहा, “राम राष्ट्र हैं, राष्ट्र राम हैं।”

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के अनुसार उन्होंने अयोध्या में ढाँचे को ध्वस्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और स्वीकार किया कि अब वह विवादित जगह पर राम मंदिर बनाने में मदद करेंगी। इंडिया टुडे को दिए एक विशेष साक्षात्कार में साध्वी प्रज्ञा ने कहा, “हम बाबरी ढाँचे के विध्वंस पर क्यों पछताएँगे? वास्तव में हमें इस पर गर्व है। राम मंदिर पर कुछ बेकार का कचरा था जिसे हमने साफ़ कर दिया। इससे हमारे देश का स्वाभिमान जागृत हुआ है और हम एक भव्य राम मंदिर का निर्माण करेंगे।”

भोपाल में चुनाव प्रचार के दौरान, उन्होंने दावा किया था कि वह विवादित ढाँचे के ऊपर चढ़ गई थी और उसे ध्वस्त करने में मदद की। उन्होंने कहा, “मैंने ढाँचे पर चढ़कर तोड़ा था। मुझे गर्व है कि ईश्वर ने मुझे अवसर दिया और शक्ति दी और मैंने यह काम कर दिया। अब वहीं राम मंदिर बनाएँगे।”

साध्वी प्रज्ञा द्वारा भाजपा से उनकी उम्मीदवारी की घोषणा किए जाने के बाद यह उनका दूसरा विवादास्पद बयान है। इस बीच, 1992 के बाबरी ढाँचे विध्वंस पर उनकी टिप्पणी के लिए चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस दिया था। इससे पहले दिन में उन्हें मुंबई एटीएस के पूर्व प्रमुख हेमंत करकरे पर उनकी टिप्पणी के लिए चुनाव आयोग द्वारा एक और नोटिस मिला था।

2008 के मालेगाँव ब्लास्ट मामले में शामिल होने के आरोपों के लिए उन्हें अकल्पनीय यातनाओं से गुजरना पड़ा, इस बारे में अपना पक्ष साझा करते हुए, उन्होंने कहा कि हेमंत करकरे आतंकवादियों के हाथों मारे गए क्योंकि उन्होंने एक साध्वी को प्रताड़ित किया था। स्वर्गीय हेमंत करकरे के बारे में उनकी टिप्पणी के लिए इंदौर में एक कॉन्ग्रेस नेता देवेंद्र सिंह द्वारा साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई थी। साध्वी ने बाद में अपना बयान वापस ले लिया था और हेमंत करकरे के बारे में अपनी टिप्पणी के लिए माफ़ी माँगते हुए कहा था कि वो अपना व्यक्तिगत अनुभव साझा कर रही थीं।

साध्वी प्रज्ञा को अप्रैल 2017 में मालेगाँव ब्लास्ट मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) द्वारा उनके ख़िलाफ़ कोई भी निर्णायक सबूत देने में विफल रहने के बाद अप्रैल 2017 में जमानत दी गई थी। वह काँग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के ख़िलाफ़ भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रही हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -