Thursday, July 29, 2021
Homeबड़ी ख़बरजमानत पर चल रहे रॉबर्ट वाड्रा का पत्नी प्रियंका के नाम 'अश्रुपूरित' पोस्ट

जमानत पर चल रहे रॉबर्ट वाड्रा का पत्नी प्रियंका के नाम ‘अश्रुपूरित’ पोस्ट

पिछले चुनावों में कॉन्ग्रेस पूरे देश में केवल 44 सीटों पर ही सिमट गई थी। उत्तर प्रदेश की बात करें तो मोदी लहर के कहर में कॉन्ग्रेस वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में सिर्फ़ अपनी परंपरागत सीटें यानी अमेठी और रायबरेली ही बचा सकी थी।

कॉन्ग्रेस के पूर्वी उत्तर प्रदेश मामलों की प्रभारी महासचिव नियुक्त की गई रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी प्रियंका गाँधी वाड्रा ने आज लखनऊ में पहला रोड शो किया। इसी बीच जमानत पर चल रहे उनके पति रॉबर्ट वाड्रा ने उनके नाम एक बेहद भावुक फेसबुक पोस्ट लिख कर उन्हें शुभकामनाएँ दी हैं।

रॉबर्ट द्वारा फेसबुक पर किए गए इस पोस्ट में उन्होंने अपनी पत्नी प्रियंका गाँधी वाड्रा को अपनी सबसे अच्छी दोस्त और परफेक्ट पत्नी बताया है। फेसबुक पोस्ट पर उन्होंने लिखा, “भारत के लोगों की सेवा और यूपी में कार्य करने की नई यात्रा के लिए ‘P’ तुम्हें मेरी शुभकामनाएँ। तुम मेरी सबसे अच्छी दोस्त, परफेक्ट पत्नी और हमारे बच्चों के लिए सबसे बेहतरीन माँ हो। देश के राजनैतिक माहौल की स्थिति अच्छी नहीं है। लेकिन, मैं जानता हूँ देश की सेवा करना उनका (प्रियंका) कर्तव्य है। अब हमने उन्हें देश के लोगों को सौंप दिया है, प्लीज़ उन्हें सुरक्षित रखना।”

रॉबर्ट वाड्रा ने अपने इस पोस्ट में प्रियंका गाँधी वाड्रा को ‘P’ कहकर संबोधित किया है। इससे पहले भी जब प्रियंका गाँधी वाड्रा ने राजनीति में कदम रखा था, तब रॉबर्ट वाड्रा ने उन्हें ‘P’ कहकर ही शुभकामनाएँ दी थी।

बता दें कि प्रियंका गाँधी वाड्रा को लोकसभा चुनाव में पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान सौंपी गई है। प्रियंका के जिम्मे राज्य की 80 में से 42 सीटें हैं। कॉन्ग्रेस की महासचिव होने के नाते उनके पास काफ़ी बड़ी चुनौती है क्योंकि पूर्वी यूपी में भाजपा के कई बड़े नेताओं के निर्वाचन क्षेत्र भी आते हैं। इसमें यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ और पीएम मोदी का क्षेत्र भी शामिल है।

अब यह देखना दिलचस्प होगा कि रॉबर्ट वाड्रा द्वारा मिली शुभकामनाओं के साथ प्रियंका गाँधी वाड्रा अपने लक्ष्य के कितने निकट पहुँच पाती हैं। पिछले चुनावों में कॉन्ग्रेस पूरे देश में केवल 44 सीटों पर ही सिमट गई थी। उत्तर प्रदेश की बात करें तो मोदी लहर के कहर में कॉन्ग्रेस वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में सिर्फ़ अपनी परंपरागत सीटें यानी अमेठी और रायबरेली ही बचा सकी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe