Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिबिना भाषण दिए सभा छोड़ भागे राहुल गाँधी और अखिलेश यादव: जहाँ से सांसद...

बिना भाषण दिए सभा छोड़ भागे राहुल गाँधी और अखिलेश यादव: जहाँ से सांसद रहे जवाहरलाल नेहरू, वहाँ कॉन्ग्रेस-सपा की घनघोर बेइज्जती

दोनों नेताओं की फूलपुर और प्रयागराज में संयुक्त रैली थी। फूलपुर से दोनों को बिना भाषण दिये ही वापस लौटना पड़ा। इसके बाद वे प्रयागराज पहुँचे और वहाँ दोनों ने सत्ताधारी भाजपा पर निशाना साधा। प्रयागराज से कॉन्ग्रेस के उज्ज्वल रमण सिंह खड़े हैं। उनके समर्थन में यमुना पार के कछार के मुंगारी गाँव में रैली का आयोजन किया गया था।

उत्तर प्रदेश में प्रयागराज के पास स्थित फूलपुर में रविवार (19 मई 2024) को आयोजित राहुल गाँधी और अखिलेश यादव की संयुक्त रैली में हंगामा हो गया। दोनों नेताओं के मंच पर पहुँचते ही समर्थक बेकाबू हो गए और सुरक्षा घेरा तोड़ दिया। धक्का-मुक्की के दौरान पुलिस ने लाठी चलाई तो भगदड़ मच गई। इसके बाद दोनों नेता वहाँ से चले गए। इस हंगामे में कई लोग चोटिल हो गए हैं।

जब मंच राहुल गाँधी और अखिलेश यादव पहुँचे तो उनके समर्थक सुरक्षा घेरा तोड़कर मंच की ओर बढ़ने लगे। इस दौरान अखिलेश ने समर्थकों से शांत रहने की भी अपील की, लेकिन उनकी बात का किसी ने ध्यान नहीं दिया। अखिलेश के साथ राहुल ने भी हाथ उठाकर लोगों से शांत रहने की अपील की। बेकाबू भीड़ को रोकने के दौरान पुलिस से भी धक्का-मुक्की की गई। इसके बाद लाठी भाँजनी पड़ी।

इतना ही नहीं, जब दोनों नेताओं की बात किसी ने नहीं सुनी तो अखिलेश यादव नाराज हो गए। वे उठे और मंच से जाने लगे। इस दौरान मंच पर मौजूद नेताओं ने उन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन वे रूके नहीं और मंच के पीछे बने हेलिपेड की तरफ चल पड़े। अखिलेश यादव के साथ राहुल गाँधी भी मंच से उतर आए। दोनों नेता रैली को संबोधित किए बिना ही वहाँ से रवाना हो गए।

दरअसल, फूलपुर से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अमरनाथ मौर्य मैदान में हैं। उनके प्रचार के लिए अखिलेश यादव और राहुल गाँधी पडिला पहुँचे थे। वहीं, फूलपुर से भाजपा ने प्रवीण पटेल को चुनावी मैदान में उतारा है। इस बार INDI गठबंधन के तहत समाजवादी पार्टी और कॉन्ग्रेस एक साथ मैदान में उतरी है। फूलपुर से कभी जवाहरलाल नेहरू सांसद चुने गए थे।

दोनों नेताओं की फूलपुर और प्रयागराज में संयुक्त रैली थी। फूलपुर से दोनों को बिना भाषण दिये ही वापस लौटना पड़ा। इसके बाद वे प्रयागराज पहुँचे और वहाँ दोनों ने सत्ताधारी भाजपा पर निशाना साधा। प्रयागराज से कॉन्ग्रेस के उज्ज्वल रमण सिंह खड़े हैं। उनके समर्थन में यमुना पार के कछार के मुंगारी गाँव में रैली का आयोजन किया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET-UG विवाद: क्या है NTA, क्यों किया गया इसका गठन, किस तरह से कराता है परीक्षाओं का आयोजन… जानिए सब कुछ

सरकार ने परीक्षाओं के पारदर्शी, सुचारू और निष्पक्ष संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञों की एक उच्च स्तरीय समिति की घोषणा की है

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -