Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतिशिवसेना वालों की भी बहुत कहानी है, सुशांत की मौत पर टुच्चापन मत दिखाओ:...

शिवसेना वालों की भी बहुत कहानी है, सुशांत की मौत पर टुच्चापन मत दिखाओ: संजय राउत पर भड़के निरुपम

"शिवसेना के सांसद सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के बारे में ओछी बातें कर रहे हैं। हर परिवार की कुछ कहानी होती है। शिवसेना वालों की भी बहुत हैं। लेकिन सुशांत की मृत्यु एक संवेदनशील विषय है। शिवसेना को संवेदनशीलता दिखानी चाहिए, न कि टुच्चापन।"

शिवसेना सांसद संजय राउत ने पार्टी मुखपत्र सामना के एक लेख में सुशांत सिंह राजपूत के परिवार को लेकर कई गंभीर दावे किए थे। इस मसले पर कॉन्ग्रेस के पूर्व सांसद संजय निरुपम ने उन्हें आड़े हाथों लिया है।

राउत का नाम लिए बिना निरुपम ने ट्वीट किया, “शिवसेना के सांसद सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के बारे में ओछी बातें कर रहे हैं। हर परिवार की कुछ कहानी होती है। शिवसेना वालों की भी बहुत हैं। लेकिन सुशांत की मृत्यु एक संवेदनशील विषय है। शिवसेना को संवेदनशीलता दिखानी चाहिए, न कि टुच्चापन।”

राउत ने दावा किया था कि सुशांत के पिता केके सिंह ने दो शादी की थी। सुशांत ने उनकी दूसरी शादी कभी स्वीकार नहीं की और उनका भावनत्मक लगाव नहीं था। राउत ने परिवार के साथ सुशांत के संबंध अच्छे नहीं होने की भी बात की थी।

राउत के दावे को गलत बताते हुए सुशांत के मामा आरसी सिंह ने कहा था कि बिहार में रहने वाले जानते हैं कि सुशांत के पिता ने एक ही शादी की थी। संजय राउत झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा था, “संजय राउत ने उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे के इशारे पर गलत बयान दिया है। संजय राउत इस तरह की बात बोलकर उनकी छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसी बात बोलकर किसी की छवि खराब करना क्या अच्छी बात है।”

सोमवार (अगस्त 10, 2020) को सुशांत के रिश्ते के भाई नीरज बबलू ने इस मामले पर अपना पक्ष रखते हुए कहा कि संजय राउत को इस बेबुनियाद बयान के लिए माफी माँगनी चाहिए। नीरज का कहना है कि संजय राउत द्वारा किया गया यह दावा पूरी तरह फर्जी है। सुशांत के पिता ने कोई दूसरी शादी नहीं की है। अगर संजय राउत अपने इस बयान के लिए वह सुशांत सिंह राजपूत के परिवार से सार्वजनिक तौर पर माफी नहीं माँगते हैं, तो सुशांत का परिवार उनके खिलाफ न्यायिक कार्रवाई करेगा। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe