Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिमहाराष्ट्र के भयावह हालात के लिए संजय राउत ने दूसरों राज्यों को कोसा, कहा-...

महाराष्ट्र के भयावह हालात के लिए संजय राउत ने दूसरों राज्यों को कोसा, कहा- कुंभ मेले से आने वाले लोग और फैलाएँगे कोरोना

''महाराष्‍ट्र में कोरोना इसलिए बढ़ रहा है, क्‍योंकि और राज्‍यों से लोग यहाँ आते हैं। हमारे यहाँ आज गुड़ी पड़वा है, मुख्‍यमंत्री ने नियंत्रण लगाया है। हमें क्‍या आनंद मिलता है कि हमारे त्‍योहार पर इस तरह से नियंत्रण लगाया जाए? लोग भी गुस्‍सा करते हैं। लेकिन हमने किया है। ये हिम्‍मत है सरकार की।"

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए शिवसेना सांसद संजय राउत दूसरों राज्यों को कोस रहे हैं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना बढ़ रहा है, क्‍योंकि अन्य राज्‍यों से लोग यहाँ आ रहे हैं। कोरोना से राज्य में हालात बद से बदतर स्थिति में पहुँच रहे हैं। पिछले 24 घंटे में यहाँ कोरोना के 51,751 नए मामले सामने आए, जबकि 258 लोगों की मौत हुई।

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, ”महाराष्‍ट्र में कोरोना इसलिए बढ़ रहा है, क्‍योंकि और राज्‍यों से लोग यहाँ आते हैं। हमारे यहाँ आज गुड़ी पड़वा है, मुख्‍यमंत्री ने नियंत्रण लगाया है। हमें क्‍या आनंद मिलता है कि हमारे त्‍योहार पर इस तरह से नियंत्रण लगाया जाए? लोग भी गुस्‍सा करते हैं। लेकिन हमने किया है। ये हिम्‍मत है सरकार की।”

उन्होंने आगे दावा किया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। वह राज्य को बेहतर ढ़ंग से संचालित कर रहे हैं। राउत ने महाराष्ट्र के स्वास्थ्य ढाँचे को देश भर में सर्वश्रेष्ठ बताते हुए कहा कि यहाँ कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन इन सबके बावजूद स्थिति को जल्द से जल्द सीएम ठाकरे के नेतृत्व में नियंत्रण में लाया जाएगा।

संजय राउत ने कुंभ मेले की अनुमति देने के लिए जहाँ उत्तराखंड सरकार को दोषी ठहराया। वहीं दूसरी ओर गुड़ी पड़वा त्योहार पर नियंत्रण लगाने के लिए महाराष्ट्र सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि हमारे त्योहारों और धार्मिक समारोहों पर प्रतिबंध लगाना दुखद है। लेकिन लोगों की जान बचाने के लिए पार्टी ने ऐसा करने की हिम्मत की। हमारी प्राथमिकता है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों की जान बचाई जा सके। मेरा अनुमान है कि कुंभ मेले से आने वाले लोग COVID-19 मामलों को और फैलाएँगे, जो तबाही का कारण बनेगा।

महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री असलम शेख को भी यही राग अलापते हुए देखा गया है। एक वीडियो में बातचीत के दौरान उन्होंने कुंभ मेले में आने वाले तीर्थयात्रियों की तुलना तब्लीगी जमात से की। कुंभ मेले से लौटने वाले श्रद्धालुओं को संभावित खतरे के रूप में बताते हुए उन्होंने कहा, ”आगामी त्योहारों के लिए सख्त एसओपी (केंद्र से मानक प्रचालन प्रक्रिया) होंगे। अन्यथा, आप देख सकते हैं कि हरिद्वार कुंभ के लिए सरकार द्वारा अनुमति देने के कारण COVID-19 मामलों में कैसे वृद्धि हुई है। ये वही लोग हैं जिन्होंने तब्लीगी जमात को बदनाम किया और उन पर कोरोना महामारी फैलाने का आरोप लगाया।”

यहाँ गौर करें उत्तराखंड सरकार के तहत कुंभ मेला सख्त नियमों के साथ हो रहा है। अगर किसी व्यक्ति के पास कोविड-19 की RT-PCR नेगेटिव टेस्ट रिपोर्ट नहीं होगी अन्यथा 72 घंटे से अधिक पुरानी होगी, तो उसे हरिद्वार में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। कुंभ में भाग लेने के लिए यह अनिवार्य है।

ज्ञात हो कि देश में अन्य राज्यों की तुलना में कोविड-19 के सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से सामने आ रहे हैं। इसलिए, संजय राउत महाराष्ट्र की इस स्थिति के लिए दूसरों को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। वह बातों को इधर-उधर घुमाकर दूसरे राज्यों को दोष दे रहे हैं, जिसका कोई मतलब नहीं है।

बता दें कि नालासोपाड़ा विधानसभा क्षेत्र में 9 लोगों की मौत कथित तौर पर ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई थी, जिसके बाद कई लोग अस्पताल के बाहर विरोध करने गए थे। लेकिन वहाँ अस्पताल प्रशासन अपनी ढिलाई मानने को तैयार नहीं हुआ। अस्पताल ने बताया कि जितनी मौतें हुईं वह या तो मरीज की उम्र या उसकी तबीयत बिगड़ने के कारण हुई, ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं थी। इसके अलावा वसई विधानसभा क्षेत्र में भी कुल 10 लोगों की मौत का कारण ऑक्सीजन में कमी बताया जा रहा है। यहाँ 7 हजार संक्रमित केस हैं। इनमें से 3,000 को ऑक्सीजन की जरूरत है। पिछले 2 दिन में यहाँ 10 लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe