Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस को दुकान बंद कर देनी चाहिए: AAP की जीत पर ख़ुश चिदंबरम को...

कॉन्ग्रेस को दुकान बंद कर देनी चाहिए: AAP की जीत पर ख़ुश चिदंबरम को प्रणब मुखर्जी की बेटी ने लताड़ा

"केजरीवाल स्मार्ट पॉलिटिक्स खेल रहे हैं। हम क्या कर रहे हैं? हमारे नेताओं को अपने इको चैम्बरों से बाहर निकलना पड़ेगा। अब आत्ममंथन का समय गया। एक्शन का समय है।"

दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम क्या आए, कॉन्ग्रेस पार्टी का तो सूपड़ा ही साफ़ हो गया। 70 में से कुल 67 सीटों पर कॉन्ग्रेस उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई। चाँदनी चौक से अलका लाम्बा 4000 वोटों के लिए भी तरस गईं और उन्हें मात्र 5% वोटों से संतोष करना पड़ा। वहीं गाँधी नगर से लड़ रहे दिल्ली कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली को 21,913 वोट मिले। इन दोनों ही नेताओं को तीसरे स्थान से संतोष करना पड़ा। आम आदमी पार्टी और भाजपा के मुकाबले में कॉन्ग्रेस कहीं नहीं ठहरी।

पार्टी की बुरी हार के बावजूद कॉन्ग्रेस नेता ख़ुश नज़र आ रहे हैं। पी चिदंबरम और अधीर रंजन सरीखे नेताओं ने सीएम केजरीवाल की तारीफों के पुल बाँधे। चिदंबरम ने कहा कि आप की जीत हुई, बेवकूफ बनाने तथा फेंकने वालों की हार। उन्होंने केजरीवाल की जीत को ध्रुवीकरण, विभाजनकारी और खतरनाक एजेंडे की हार बताया। बकौल चिदंबरम, दिल्ली की जनता ने 2021 और 2022 में अन्य राज्यों जहाँ चुनाव होंगे, वहाँ के लिए मिसाल पेश की है। उन्होंने दिल्ली की जनता को सलाम किया।

कॉन्ग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता शर्मिष्ठा मुखर्जी को चिदंबरम की ये बातें पसंद नहीं आईं। कॉन्ग्रेस अपनी बुरी हार के बावजूद ख़ुश हो रही है, ये उन्हें नागवार गुजरा। उन्होंने पूर्व केन्दीय गृह मंत्री पी चिदंबरम से पूछ डाला कि क्या भाजपा ने क्षेत्रीय दलों को भाजपा को हराने का ठेका दे दिया है? उन्होंने पूछा कि वो इस सम्बन्ध में जानकारी चाहती हैं। शर्मिष्ठा ने कहा:

“अगर कॉन्ग्रेस ने क्षेत्रीय दलों को भाजपा को हराने का ठेका नहीं दिया है, तो फिर हम आम आदमी पार्टी की जीत पर ख़ुश क्यों हो रहे हैं? हमारी बुरी हार हुई है, उसे लेकर हम चिंतित क्यों नहीं हो रहे हैं? अगर कॉन्ग्रेस ने स्थानीय पार्टियों को भाजपा को हराने का ठेका दे दिया है, फिर हमें अपनी दुकान बंद कर देनी चाहिए। भाजपा विभाजनकारी राजनीति से काम कर रही है, केजरीवाल स्मार्ट पॉलिटिक्स खेल रहे हैं। हम क्या कर रहे हैं? हमारे नेताओं को अपने इको चैम्बरों से बाहर निकलना पड़ेगा। अब आत्ममंथन का समय गया। एक्शन का समय है। “

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा दिल्ली महिला कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष भी हैं। बता दें कि इस चुनाव में कॉन्ग्रेस का वोट शेयर मात्र 4.26% रह गया है। पार्टी के नेता आपस में लड़ते रहे और चुनाव की तैयारी भी नहीं की। कीर्ति झा आज़ाद और सुभाष चोपड़ा जैसों को चेहरा बनाया गया लेकिन वो निष्क्रिय रहे। लेकिन, फिर भी पार्टी नेता ख़ुश हो रहे हैं क्योंकि भाजपा की हार हुई है। भाजपा 38.51% वोट शेयर के साथ अभी भी राज्य में मजबूत पार्टी बनी हुई है।

क्या है कॉन्ग्रेस का भविष्य: सीट शून्य, वोट शेयर 4%, 67 की जमानत जब्त, दूसरों की हार पर ख़ुशी

दिल्ली की राजनीति में कॉन्ग्रेस की ‘दमदार’ वापसी, EVM पर दिग्विजय सिंह ने सवाल उठा किया एकमात्र काम

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe