Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिपंजाब कॉन्ग्रेस में बड़ी हलचल, पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने छोड़ी पार्टी: कहा -...

पंजाब कॉन्ग्रेस में बड़ी हलचल, पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने छोड़ी पार्टी: कहा – चापलूसों से घिरा है गाँधी परिवार; सिद्धू भी समर्थन में उतरे

पंजाब को धार्मिक रूप से बाँटने का आरोप लगाते हुए सुनील जाखड़ ने 1984 के उस दौर का जिक्र किया जब पंजाब आतंकवाद की आग से झुलस रहा था।

पंजाब कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कॉन्ग्रेस को गुडबॉय कर दिया है। उनके इस कदम ने पार्टी के सभी लोगों को चौंका कर रख दिया है। लोग चौंके भी क्यों न। जाखड़ परिवार करीब 50 साल से कॉन्ग्रेस के साथ जुड़ा हुआ था। जाखड़ की तीसरी पीढ़ी कॉन्ग्रेस के साथ है। लेकिन अब उन्होंने कॉन्ग्रेस को चापलूसों से घिरी हुई पार्टी करार देते हुए सभी पदों से अपना इस्तीफा दे दिया है।

उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस का शीर्ष नेतृत्व चापलूसों से घिरा हुआ है, जिसके कारण पार्टी को खासा नुकसान उठाना पड़ रहा है। इसके साथ ही सोनिया गाँधी को नसीहत दे दी है कि वो देशभर में राजनीति करें, लेकिन इससे पंजाब को छोड़ दें। इसके साथ ही उन्होंने उदयपुर में कॉन्ग्रेस के चिंतन शिविर का जिक्र कर कहा कि पार्टी की हालत देखकर तरस आ रहा है। सुनील जाखड़ ने इसे एक औपचारिकता मात्र करार दिया।

सुनील जाखड़ कॉन्ग्रेस का चिंतन शिविर उदयपुर में लगाए जाने पर भी सवाल उठाते हैं। वे कहते हैं कि कॉन्ग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को पार्टी की कोई चिंता नहीं है। क्योंकि अगर चिंता होती तो चिंतन शिविर उदयपुर की जगह उत्तर प्रदेश में लगाती। ऐसा इसलिए क्योंकि यूपी की 403 सीटों में 300 सीटों पर कॉन्ग्रेस को करारी हार मिली है। उनका कहना है कि जितना वोट कॉन्ग्रेस के उम्मीदवारों को मिला, उससे कहीं अधिक तो एक पंचायत के कैंडिडेट को ही मिल जाता। उन्होंने पार्टी की इस हालत के लिए सीधे तौर पर पार्टी के शीर्ष नेतृत्व, यानी राहुल गाँधी, सोनिया गाँधी और प्रियंका गाँधी को जिम्मेदार ठहराया है।

जो AK-47 नहीं कर पाई वो अंबिका सोनी ने कर दिया

पंजाब को धार्मिक रूप से बाँटने का आरोप लगाते हुए सुनील जाखड़ ने 1984 के उस दौर का जिक्र किया जब पंजाब आतंकवाद की आग से झुलस रहा था। उन्होंने कहा कि एके-47 भी हिंदुओं और सिखों को अलग नहीं कर पाया, लेकिन कॉन्ग्रेस की अंबिका सोनी ने वो कर दिखाया। उन्होंने हिंदुओं और सिखों को आपस में लड़ा दिया। सोनी ने ही ये अफवाह फैलाई थी कि अगर पंजाब में हिंदू व्यक्ति सीएम बन गया तो वो यहाँ आग लगा देगा।

जाखड़ के समर्थन में उतरे सिद्धू

इस बीच नवजोत सिंह सिद्धू ने सुनील जाखड़ का समर्थन करते हुए उनके पार्टी छोड़ने पर कहा कि सिद्धू को जाखड़ को पार्टी को नहीं गंवाना चाहिए। वे पार्टी की संपत्ति उन्होंने कहा कि जो भी मतभेद हैं, उन्हें आपसी सहमति से ,सुलझाया जा सकता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -