Wednesday, September 22, 2021
Homeराजनीति'मोदी है तो मुमकिन है': आतंकी बुरहान वानी के अब्बा ने फहराया तिरंगा, गाया...

‘मोदी है तो मुमकिन है’: आतंकी बुरहान वानी के अब्बा ने फहराया तिरंगा, गाया जन-गण-मन, लोगों ने कहा – ‘यही तो है अच्छे दिन’

बुरहान वानी के अब्बा मुजफ्फर ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा के एक स्कूल में 75वें स्वतंत्रता दिवस समारोह में हिस्सा लेते हुए ध्वजारोहण किया। मुजफ्फर वानी त्राल के सरकारी कन्या उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं।

आपको हिज्बुल मुजाहिद्दीन का आतंकी बुरहान वानी याद है? हाँ, वही जिसे 6 जुलाई, 2016 को भारतीय सेना ने मार गिराया था। इसके बाद इस्लामी कट्टरपंथियों ने उसकी ‘अंतिम यात्रा’ निकाली थी, जिसमें भारत विरोधी नारे लगे थे और हजारों लोग जुट गए थे। ये तो बात थी पुराने जम्मू कश्मीर की। अब बुरहान वानी के अब्बा मुजफ्फर वानी ने जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय ध्वज फहराया है। मुजफ्फर वानी द्वारा तिरंगा फहराने की तस्वीरें व वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं।

ये नया जम्मू कश्मीर है, जहाँ अब आतंकियों की ‘अंतिम यात्राएँ’ नहीं निकाली जातीं और जहाँ श्रीनगर का लाल चौक भी तिरंगे से जगमग हुआ रहता है। जहाँ आतंकियों का सफाया होता है और आम लोगों की मदद की जाती है। लद्दाख में केंद्रीय विश्वविद्यालय बनने जा रहा है और जम्मू कश्मीर में इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास हो रहा है। ऐसे में आतंकियों व अलगाववादियों के लिए वहाँ कोई जगह नहीं है।

बुरहान वानी के अब्बा मुजफ्फर ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा के एक स्कूल में 75वें स्वतंत्रता दिवस समारोह में हिस्सा लेते हुए रविवार (15 अगस्त, 2021) को ध्वजारोहण किया। फिर उन्होंने राष्ट्रगान जन-गण-मन भी गाया। मुजफ्फर वानी त्राल के सरकारी कन्या उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं। दक्षिण कश्मीर में जब आतंकी बुरहान वानी को मार गिराया गया था, तब इस्लामी कट्टरपंथियों के 5 महीने तक राज्य में हिंसा की थी।

तब 100 से अधिक लोग मारे गए थे और कई घायल हुए थे। ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के तहत सभी शैक्षिक संस्थानों और शिक्षा विभाग से जुड़े दफ्तरों में तिरंगा फहराया जाना है। कई लोगों ने बुरहान वानी के अब्बा मुजफ्फर वानी द्वारा तिरंगा झंडा फहराए जाने पर प्रतिक्रिया दी। डॉक्टर विनायक दुबे ने लिखा, “भय बिनु होई न प्रीति – ऐसा भगवान श्रीराम ने कहा है।” एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि 2014 से यही बदलाव हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe