Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिलॉकडाउन नहीं, कोरोना के टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट की रणनीति पर करना होगा काम: मुख्यमंत्रियों...

लॉकडाउन नहीं, कोरोना के टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट की रणनीति पर करना होगा काम: मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा में पीएम मोदी के सुझाव

महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पंजाब, मध्यप्रदेश और गुजरात समेत कई राज्यों पर पीएम मोदी ने कहा कि ये राज्य फ़र्स्ट वेव की पीक को भी क्रॉस कर चुके हैं। कुछ और राज्य भी इस ओर बढ़ रहे हैं। हम सबके लिए ये चिंता का विषय है। इसके लिए हमें माइक्रो कन्टेनमेंट जोन पर फोकस करना होगा।

देश में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत की और कोविड-19 के संबंधों में राज्यों की स्थिति का जायजा लिया। साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों को कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए कुछ सुझाव भी दिए। यह बैठक वर्चुअली आयोजित हुई।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज की समीक्षा में कुछ बातें हमारे सामने स्पष्ट हैं। उन पर हमें विशेष ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि देश फ़र्स्ट वेव के समय की पीक को क्रॉस कर चुका है, और इस बार ये ग्रोथ रेट पहले से भी ज्यादा तेज है।

महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पंजाब, मध्यप्रदेश और गुजरात समेत कई राज्यों पर पीएम मोदी ने कहा कि ये राज्य फ़र्स्ट वेव की पीक को भी क्रॉस कर चुके हैं। कुछ और राज्य भी इस ओर बढ़ रहे हैं। हम सबके लिए ये चिंता का विषय है। इसके लिए हमें माइक्रो कन्टेनमेंट जोन पर फोकस करना होगा।

लोगों के व्यवहार में हुए परिवर्तन के विषय में पीएम मोदी ने कहा कि इस बार लोग पहले की अपेक्षा बहुत अधिक कैजुअल हो गए हैं। अधिकतर राज्यों में प्रशासन भी कैजुअल नज़र आ रहा है। ऐसे में कोरोना केस की इस अचानक बढ़ोत्तरी ने मुश्किलें पैदा की हैं।

हालाँकि, उन्होंने यह भी कहा कि इन तमाम चुनौतियों के बावजूद हमारे पास पहले की अपेक्षा बेहतर अनुभव है, संसाधन हैं और वैक्सीन भी है। जनभागीदारी के साथ-साथ हमारे परिश्रमी डॉक्टर्स और हेल्थ-केयर स्टाफ ने स्थिति को संभालने में बहुत मदद की है और आज भी कर रहे हैं।

देश के युवाओं से सहयोग की अपेक्षा करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि युवा अपने आसपास जो भी व्यक्ति 45 साल के ऊपर के हैं, उन्हें वैक्सीन लगवाने में हर संभव मदद करें। उन्होंने 11 अप्रैल से 14 अप्रैल की अवधि को टीका उत्सव के रूप में मनाने की सलाह दी।

पीएम मोदी ने कहा कि टेस्टिंग को बढ़ाकर ही कोरोना वायरस के संकट से बाहर निकला जा सकता है। उन्होंने कहा कि आरटी-पीसीआर टेस्ट को अधिक मात्रा में बढ़ाए जाने की आवश्यकता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें कोरोना वायरस से लड़ने में टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट की रणनीति पर बल देना होगा। हालाँकि उन्होंने लॉकडाउन की संभावनाओं से पूरी तरह इनकार किया है। उन्होंने कहा कि इसके स्थान पर टेस्टिंग बढ़ाने की ओर ध्यान दिया जाए।

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को देश भर में 1,26,789 नए संक्रमण के मामले सामने आए। इसके साथ ही भारत में केसों की कुल संख्या बढ़कर 12,928,574 हो गई है। देश में ऐक्टिव केसों की संख्या भी बढ़कर लगभग नौ लाख हो चुकी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

छात्र झारखंड के, राष्ट्रगान बांग्लादेश-पाकिस्तान का, जनजातीय लड़कियों से ‘लव जिहाद’, फिर ‘लैंड जिहाद’: HC चिंतित, मरांडी ने की NIA जाँच की माँग

झारखंड में जनजातीय समाज की समस्या पर भाजपा विरोधी राजनीतिक दल भी चुप रहते हैं, जबकि वो खुद को पिछड़ों का रहनुमा कहते नहीं थकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -