Sunday, September 26, 2021
Homeराजनीति30 अप्रैल तक 'कड़ी निगरानी' में रहेंगे ममता बनर्जी के करीबी TMC नेता अनुब्रत...

30 अप्रैल तक ‘कड़ी निगरानी’ में रहेंगे ममता बनर्जी के करीबी TMC नेता अनुब्रत मंडल, चुनाव आयोग का निर्देश

यह पहली बार नहीं है कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान अनुब्रत मंडल को निगरानी में रखा गया है। उन्हें 2019 के लोकसभा चुनाव और 2016 के विधानसभा चुनावों के दौरान भी निगरानी में रखा गया था।

चुनाव आयोग (EC) ने तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के नेता अनुब्रत मंडल को ​कड़ी निगरानी में रखने का निर्देश दिया है। वे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करीबी हैं। आयोग ने स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिए यह निर्देश दिया है। मंडल 27 अप्रैल की शाम 5 बजे से 30 अप्रैल की सुबह 7 बजे तक कार्यकारी मजिस्ट्रेट और सीएपीएफ को कड़ी निगरानी में रहेंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि यह निर्णय मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने ‘मंडल के खिलाफ कई शिकायतें’ मिलने के बाद लिया है। पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेजे पत्र में कहा गया है, “विभिन्न स्रोतों से प्राप्त फीडबैक और डीईओ तथा एसपी, बीरभूम की रिपोर्ट के अनुसार, आयोग ने निर्देश दिया है कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए AITC, बीरभूम के जिलाध्यक्ष मंडल को कार्यकारी मजिस्ट्रेट और सीएपीएफ की कड़ी निगरानी में रखा जाए।”

इसके अवधि के दौरान ‘तिथिके साथ’ वीडियोग्राफी की जाएगी। बीरभूम में गुरुवार को विधानसभा चुनाव के आठवें और अंतिम चरण में मतदान होगा।

यह पहली बार नहीं है कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान अनुब्रत मंडल को निगरानी में रखा गया है। उन्हें 2019 के लोकसभा चुनाव और 2016 के विधानसभा चुनावों के दौरान भी निगरानी में रखा गया था। 2019 में मंडल को मतदान के दौरान एक बूथ से दूसरे बूथ जाने पर कर्मियों को खतरा होने की आशंका के चलते निगरानी में रखा गया था।

गौरतलब है जुलाई 2013 में मंडल ने बीरभूम में एक सार्वजनिक सभा में समर्थकों को पुलिस पर बम फेंकने और पंचायत चुनावों में टीएमसी के बागी उम्मीदवारों के घरों को जलाने के लिए उकसाया था। सितंबर 2018 में वह कैमरे में कथित तौर पर टीएमसी कार्यकर्ताओं को पार्टी के एक बागी नेता और एक महिला भाजपा नेता को भांग रखने के झूठे मामले में फँसाने का निर्देश देते हुए पकड़े गए थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़कियों के कपड़े कैंची से काटे, राखी-गहने-चप्पल सब उतरवाए: राजस्थान में कुछ इस तरह हो रही REET की परीक्षा, रोते रहे अभ्यर्थी

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET 2021) की परीक्षा के दौरान सेंटरों पर लड़कियों के फुल बाजू के कपड़ों को कैंची से काट डालने का मामला सामने आया है।

11वीं से 14वीं शताब्दी की 157 मूर्तियाँ-कलाकृतियाँ, चोर ले गए थे अमेरिका… PM मोदी वापस लेकर लौटे

अमेरिका द्वारा भारत को सौंपी गई कलाकृतियों में सांस्कृतिक पुरावशेष, हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म से संबंधित मूर्तियाँ शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,458FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe