Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिगहने चुराए, तोड़फोड़: बंगाल में चुनावी जीत के बाद एक और BJP कार्यकर्ता के...

गहने चुराए, तोड़फोड़: बंगाल में चुनावी जीत के बाद एक और BJP कार्यकर्ता के घर पर TMC गुंडों का हमला

"सब कुछ रिकॉर्ड करो और पुलिस को भेजो। हमारे ऊपर ऐसा अत्याचार! किसी अन्य घर को इस तरह की बर्बरता का सामना नहीं करना पड़ा। क्या कोई इस तरह किसी और के घर को नुकसान पहुँचाता है?"

पश्चिम बंगाल में रविवार (मई 2, 2021) को विश्वनाथ धर नाम के एक भाजपा कार्यकर्ता के घर पर टीएमसी के गुंडों ने हमला किया। यह घटना पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में पनिहाटी नगरपालिका के घोला मल्लिकपारा में हुई।

पश्चिम बंगाल राज्य विधानसभा चुनावों में तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) की जीत के बाद, पार्टी के उपद्रवियों ने कई भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों को निशाना बनाया। रविवार को टीएमसी के गुंडों ने धर के घर में तोड़फोड़ की और उनकी संपत्ति को नुकसान पहुँचाया। बताया जा रहा है कि उपद्रवियों ने पहले सीसीटीवी कैमरों को नष्ट किया और फिर भाजपा कार्यकर्ता के घर को लूटना शुरू कर दिया। उन्होंने आलमीरा खोला और उसमें से नकदी एवं आभूषण चुरा लिए। बाहर जाते समय, उन्होंने उनकी मारुति कार और एक रॉयल एनफील्ड (बुलेट) बाइक को भी क्षतिग्रस्त कर दिया।

घटना से संबंधित एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उपद्रवियों द्वारा किए गए नुकसान और लूटपाट को देखा जा सकता है। वीडियो में घरेलू सामान इधर-उधर फेंके देखे जा सकते हैं। यह भी देखा जा सकता है कि खिड़की के शीशे टूटे हुए हैं और काँच के छोटे टुकड़े फर्श पर बिखरे पड़े हैं। उपद्रवियों ने घर पर पथराव किया था, जिसके प्रमाण वीडियो में स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं।

(Video Courtesy: Youtube/Opindia)

वीडियो के बैकग्राउंड में एक महिला को रोते हुए यह कहते हुए सुना जा सकता है, “सब कुछ रिकॉर्ड करो और पुलिस को भेजो। हमारे ऊपर ऐसा अत्याचार! किसी अन्य घर को इस तरह की बर्बरता का सामना नहीं करना पड़ा। क्या कोई इस तरह किसी और के घर को नुकसान पहुँचाता है?”

TMC द्वारा BJP कार्यकर्ताओं और नेताओं पर अत्याचार

चुनाव जीतने के कुछ ही घंटों के भीतर, टीएमसी ने हेस्टिंग्स में बीजेपी के पार्टी कार्यालय का घेराव किया, आरामबाग में पार्टी कार्यालय को जला दिया और बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी के वाहन पर हमला किया, जिन्होंने ममता बनर्जी को हराया है। 

News18 की पत्रकार पायल मेहता ने ऐसे ही एक हमले का सीसीटीवी फुटेज शेयर किया था। कैमरे में कैद हुए दृश्यों में देखा जा सकता है कि हिंसक भीड़ ने दक्षिण कोलकाता के कस्बा इलाके में रविवार शाम एक भाजपा कार्यकर्ता के घर पर हमला किया। लगभग 15 सेकंड के वीडियो में, तृणमूल कॉन्ग्रेस का झंडा देखा जा सकता है। गुंडों ने शुरू में घर का दरवाजा खोलने की कोशिश की। हालाँकि, जब वे विफल रहे तो उन्होंने ईंटों और डंडों से हमला किया।

2 मई को बीजेपी कार्यकर्ता अभिजीत सरकार को कथित तौर पर टीएमसी की भीड़ द्वारा मौत के घाट उतार दिया गया। बता दें कि हत्या से कुछ देर पहले अभिजीत सरकार ने फेसबुक लाइव के माध्यम से अपनी बात रखी थी। उन्हें पता भी नहीं था कि फेसबुक पर लाइव कैसे आते हैं, लेकिन उन्होंने किसी तरह वीडियो बनाया और बताया कि TMC के गुंडे लगातार बमबारी कर रहे थे और उन्होंने उनके घर और दफ्तर को तहस-नहस कर डाला। उन्होंने कहा कि उनकी एक ही गलती है कि वे भाजपा कार्यकर्ता हैं। एक अन्य वीडियो में उन्होंने बताया कि उनके घर और NGO दफ्तर को तोड़ डाला गया है। कुत्ते के 5 बच्चे को मार डाला गया।

अभिजीत ने कहा था कि उन्हें किसी भी पार्टी के जीतने से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन बेरहम तरीके से उनके घर को ध्वस्त किया जा रहा है। इन दोनों वीडियो के अपलोड करने के बाद पीट-पीटकर उनकी हत्या कर दी गई। कई भाजपा कार्यकर्ताओं ने विभिन्न माध्यमों से डर जताया है कि ममता के तीसरी बार सत्ता में लौटने से उनका जीना दूभर हो सकता है और उनकी जान को TMC वालों से खतरा हो सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,739FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe