Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीति35 साल बाद कश्मीर के अनंतनाग में टूटा वोटिंग का रिकॉर्ड: जानें कितने मतदाताओं...

35 साल बाद कश्मीर के अनंतनाग में टूटा वोटिंग का रिकॉर्ड: जानें कितने मतदाताओं ने आकर डाले वोट, 58 सीटों का भी ब्यौरा

पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक 78.19% मतदाताओं ने वोट डाले। सबसे कम आंकड़ा जम्मू कश्मीर का रहा जहाँ 51.41 फीसदी वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, लेकिन यहाँ कश्मीर के अनंतनाग में पिछले 35 सालों का रिकॉर्ड टूटा है।

लोकसभा चुनाव 2024 के छठे चरण के लिए हुआ मतदान शनिवार (25 मई 2024) की शाम 6 बजे सम्पन्न हुआ। इस चरण में 7 राज्यों व 1 केंद्र शासित प्रदेश की कुल 58 सीटों के लिए वोट डाले गए। शाम 7 बजे जारी आँकड़ों के मुताबिक इस चरण में कुल 58.82% वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक 78.19% मतदाताओं ने वोट डाले। सबसे कम आँकड़ा जम्मू कश्मीर का रहा जहाँ 51.41 फीसदी वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। पश्चिम बंगाल में हुई कुछ घटनाओं को छोड़ कर इस चरण का मतदान शांतिपूर्ण रहा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लोकसभा चुनाव के छठें चरण के लिए 58 लोकसभा सीटों पर वोटिंग सुबह 7 बजे से शुरू हुई। यह वोटिंग 1 केंद्र शासित प्रदेश मिला कर कुल 8 राज्यों में हुई। इन राज्यों में सबसे अधिक उत्तर प्रदेश की 14 सीटें थीं। UP के अलावा हरियाणा की 10, बिहार और पश्चिम बंगाल की 8-8, दिल्ली की 7, ओडिशा की 6, झारखंड की 4 व जम्मू कश्मीर की 1 सीट के लिए वोट डाले गए। सभी राज्यों के मतदान का औसत 58.82 प्रतिशत रहा।

छठें चरण के मतदान प्रतिशत के लिहाज से पश्चिम बंगाल सबसे ऊपर रहा। यहाँ 78.19% वोटरों ने वोट डाले। दूसरे नंबर पर झारखंड रहा जहाँ 62.13% लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। तीसरे स्थान पर ओडिशा है जहाँ 59.72 प्रतिशत वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इसके अलावा हरियाणा में 58.06, दिल्ली में 54.31, उत्तर प्रदेश में 54.02, बिहार में 52.80 और जम्मू कश्मीर में 51.41 प्रतिशत लोगों ने अपना वोट डाला। हालाँकि कश्मीर के अनंतनाग इलाके में इस बार मतदान का प्रतिशत एक रिकॉर्ड रहा। यहाँ 35 साल बाद 51.35% मतदाताओं ने वोट डाले।

खासतौर पर पश्चिम बंगाल को छोड़ कर अधिकतर स्थानों पर मतदान शांतिपूर्ण रहा। पश्चिम बंगाल के झारग्राम में भाजपा प्रत्याशी पर भीड़ ने हमला किया। हमले में उनके सुरक्षाकर्मियों सहित मीडिया स्टाफ को भी निशाना बनाया गया। पश्चिम बंगाल के ही तमलुक में मतदान शुरू होने से पहले ही भाजपा और TMC के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए थे। इस दौरान तृणमूल कॉन्ग्रेस के एक समर्थक के घायल होने की खबर है। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में एक पोलिंग बूथ पर उपद्रव मचाने की फ़िराक में जमा भीड़ को हटाने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। जम्मू कश्मीर में महबूबा मुफ़्ती ने EVM में छेड़खानी का आरोप लगा कर धरना दिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शराब घोटाले में जेल में ही बंद रहेंगे दिल्ली के CM केजरीवाल, हाई कोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक: निचली अदालत के फैसले पर...

हाई कोर्ट ने कहा कि निचली अदालत ने मामले के पूरे कागजों पर जोर नहीं दिया जो कि पूरी तरह से अनुचित है और दिखाता है कि अदालत ने मामले के सबूतों पर पूरा दिमाग नहीं लगाया है।

NEET-UG विवाद: क्या है NTA, क्यों किया गया इसका गठन, किस तरह से कराता है परीक्षाओं का आयोजन… जानिए सब कुछ

सरकार ने परीक्षाओं के पारदर्शी, सुचारू और निष्पक्ष संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञों की एक उच्च स्तरीय समिति की घोषणा की है

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -