Monday, April 15, 2024
Homeराजनीतिशरद पवार से आर-पार के मूड में उद्धव ठाकरे, बता दिया- देशद्रोह के मामले...

शरद पवार से आर-पार के मूड में उद्धव ठाकरे, बता दिया- देशद्रोह के मामले में घुटने नहीं टेकेंगे

भीमा-कोरेगॉंव के मसले से पवार के सारे मंसूबे धरे के धरे रह गए। उन्होंने नाराजगी भी दिखाई, आनन-फानन में अपने मंत्रियों की बैठक भी बुलाई। बावजूद इसके उद्धव इस मसले पर दबाव में आते नहीं दिख रहे हैं।

भाजपा की स्वभाविक साझेदार शिवसेना के साथ महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी की सरकार बनाकर एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने राज्य का सुपर सीएम बनने के सपने बुन रखे थे। उन्होंने सोचा था कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भले सरकार का चेहरा रहें, लेकिन पर्दे के पीछे से बागडोर उन्हीं के हाथों में रहेगी। महाराष्ट्र कैबिनेट के मलाईदार विभागों को झपट उन्होंने इसकी बानगी भी पेश की थी।

लेकिन, भीमा-कोरेगॉंव के मसले से उनके सारे मंसूबे धरे के धरे रह गए। उन्होंने नाराजगी भी दिखाई, आनन-फानन में अपने मंत्रियों की बैठक भी बुलाई। बावजूद इसके उद्धव इस मसले पर दबाव में आते नहीं दिख रहे हैं। इस मामले में अब तक उद्धव ने जो स्टैंड दिखाया है उससे जाहिर है कि सत्ता में साझेदारी को लेकर भले वे सहयोगी कॉन्ग्रेस और एनसीपी के दबाव में आ जाएँ, लेकिन देशद्रोह के मामले में वे घुटने टेक खुद को कमजोर पड़ते नहीं दिखा सकते।

यही कारण है कि तीन महीने पुरानी गठबंधन सरकार के मतभेद एल्गार परिषद और भीमा-कोरेगाँव की हिंसा मामले में जाँच को लेकर खुलकर सामने आ गए हैं। उद्धव ठाकरे ने एल्गार परिषद की जाँच NIA को सौंपने को मँजूरी दे देशद्रोह और सामान्य हिंसा के मामले के बीच एक लकीर खींचने का काम किया है। ऐसा कर उन्होंने संदेश दिया है कि वे देशद्रोह के मामले में नहीं झुकेंगे। दूसरी तरफ पवार इस बात पर अड़े हैं कि इसकी जाँच एसआईटी से भी समानांतर रूप से करवाई जाए।

गौरतलब है कि इससे पहले एल्गार मामले पर पवार सहित एनसीपी के ज्यादातर नेता SIT जाँच पर अपनी सहमति दे चुके थे। लेकिन, उद्धव ठाकरे का पक्ष जानने के बाद वह इस बात से नाराज हैं कि मुख्यमंत्री ने एनआईए जाँच को मंजूरी क्यों दी?

बता दें, शरद पवार ने एल्गार परिषद की जाँच एनआईए से करवाने के उद्धव के फैसले पर कड़ी आलोचना की थी। शरद पवार ने एनआईए एक्ट की धारा 10 का हवाला देते हुए यह माँग की थी कि एनआईए जाँच के अलावा राज्य सरकार एल्गार परिषद केस की समानांतर जाँच कराए।

यहाँ साफ कर दें कि एल्गार परिषद की जाँच NIA को सौंपने और भीमा-कोरेगॉंव हिंसा की जाँच एसआईटी से कराने के उद्धव के फैसले के पीछे माना जा रहा है कि वह इसके जरिए यह संदेश देना चाहते हैं कि उनकी पार्टी देशद्रोह के मुद्दे पर नहीं झुकेगी। इसके चलते ही उन्होंने एल्गार परिषद और भीमा-कोरेगाँव को अलग-अलग मामला बताते हुए साफ किया है कि एल्गार परिषद का केस देशद्रोह की साजिशों से संबंधित है इसलिए सरकार को इसे NIA को सौंपने में कोई ऐतराज नहीं है।

उधर, NCP चीफ शरद पवार ने एसआईटी गठन के मुद्दे पर मुख्यमंत्री से समन्वय की जिम्मेदारी अपने नेता गृह मंत्री अनिल देशमुख को सौंपी है। देशमुख का काम इस बारे में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से सलाह कर जल्द ही एसआईटी गठन की घोषणा करना है। इसके अलावा नागरिकता संशोधन कानून CAA को लेकर भी पवार और उद्धव के मतभेद सामने आ चुके हैं। उद्धव ने राज्य में सीएए लागू करने का इशारा करते हुए कहा था, “CAA और NRC दोनों अलग है। NPR भी अलग है। अगर CAA लागू होता है तो इसके लिए किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है। NRC अभी नहीं है और इसे राज्य में लागू नहीं किया जाएगा।” इसे खारिज करते हुए शरद पवार ने कहा था, “ये महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे का अपना नजरिया है, लेकिन जहाँ तक एनसीपी की बात है, हमने इसके खिलाफ वोट किया है।”

शरद पवार की 2 डिमांड पूरी कर देते मोदी-शाह तो उद्धव ठाकरे नहीं बनते महाराष्ट्र के सीएम

…वो मामला, जिससे ढाई महीने पुरानी ठाकरे सरकार संकट में: NCP और कॉन्ग्रेस के सीनियर नेता हुए नाराज

महाराष्ट्र के सुपर CM हैं पवार! CAA लागू करने पर उद्धव ठाकरे के बयान को निजी बता किया खारिज

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में मनोज तिवारी Vs कन्हैया कुमार के लिए सजा मैदान: कॉन्ग्रेस ने बेगूसराय के हारे को राजधानी में उतारा, 13वीं सूची में 10...

कॉन्ग्रेस की ओर से दिल्ली की चांदनी चौक सीट से जेपी अग्रवाल, उत्तर पूर्वी दिल्ली से कन्हैया कुमार, उत्तर पश्चिम दिल्ली से उदित राज को टिकट दिया गया है।

‘सूअर खाओ, हाथी-घोड़ा खाओ, दिखा कर क्या संदेश देना चाहते हो?’: बिहार में गरजे राजनाथ सिंह, कहा – किसने अपनी माँ का दूध पिया...

राजनाथ सिंह ने गरजते हुए कहा कि किसने अपनी माँ का दूध पिया है कि मोदी को जेल में डाल दे? इसके बाद लोगों ने 'जय श्री राम' की नारेबाजी के साथ उनका स्वागत किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe