Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिप्रियंका गाँधी ने सरेआम कॉन्ग्रेस जिलाध्यक्ष को बेइज़्ज़त किया, कई नेताओं ने छोड़ी पार्टी

प्रियंका गाँधी ने सरेआम कॉन्ग्रेस जिलाध्यक्ष को बेइज़्ज़त किया, कई नेताओं ने छोड़ी पार्टी

नीलम का आरोप है कि प्रियंका ने भीड़ के सामने ही उनसे तेज आवाज में बात की और कहा कि अगर आप लोग अपमानित महसूस कर रहे हैं, तो करते रहिए। प्रियंका ने भीड़ के सामने कई कटु शब्द कहकर उन्हें और पार्टी जिला इकाई के पदाधिकारियों को अपमानित किया।

शनिवार (मई 11, 2019) को उत्तर प्रदेश के भदोही जिले की कॉन्ग्रेस जिलाध्यक्ष नीलम मिश्रा ने इस्तीफा दे दिया। नीलम मिश्रा के साथ ही पार्टी के कई अन्य कार्यकर्ताओं ने भी पार्टी छोड़ दी। नीलम ने बताया कि कॉन्ग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गाँधी द्वारा सरेआम अपमानित किए जाने से नाराज होकर उन्होंने और जिला कॉन्ग्रेस कमेटी के कई पदाधिकारियों और नेताओं ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देकर कॉन्ग्रेस का साथ छोड़ दिया है।

नीलम का कहना है कि शुक्रवार (मई 10, 2019) को भदोही में हुई चुनावी सभा के बाद उन्होंने प्रियंका से शिकायत की थी कि भदोही से पार्टी के प्रत्याशी रमाकांत यादव जिला कॉन्ग्रेस के साथ बिल्कुल भी तालमेल नहीं रख रहे हैं और रैली में पार्टी के कई जिला पदाधिकारियों को पास नहीं दिया गया। नीलम का आरोप है कि इस बात पर प्रियंका ने भीड़ के सामने ही उनसे तेज आवाज में बात की और कहा कि अगर आप लोग अपमानित महसूस कर रहे हैं, तो करते रहिए। इसके अलावा प्रियंका ने भीड़ के सामने कई कटु शब्द कहकर उन्हें और पार्टी जिला इकाई के पदाधिकारियों को अपमानित किया।

कॉन्ग्रेस पार्टी का साथ छोड़ने के बाद अब नीलम मिश्रा आज (मई 12, 2019) भदोही लोकसभा सीट के लिए होने वाले चुनाव में गठबंधन के प्रत्याशी रंगनाथ मिश्र का समर्थन करेंगी। वहीं, जब इस बारे में कॉन्ग्रेस के जिला उपाध्यक्ष मुशीर इकबाल से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जिला अध्यक्ष नीलम मिश्रा सहित कई पदाधिकारियों ने जल्दबाजी में यह कदम उठाया है। उनका कहना है कि उन्हें चुनाव के खत्म होने तक का इंतजार करना चाहिए था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -