Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीति'किसानों के लिए डेथ वारंट है ये तीनों कृषि कानून, दिल्ली हिंसा में बीजेपी...

‘किसानों के लिए डेथ वारंट है ये तीनों कृषि कानून, दिल्ली हिंसा में बीजेपी के लोग शामिल’: महापंचायत में केजरीवाल

"जब किसान आंदोलन के दौरान राकेश टिकैते रो रहे थे तो मुझसे यह देखा नहीं गया। किसानों पर लाठियाँ बरसाई जा रही है, कीलें ठोकी जा रही है। ऐसा तो अंग्रेज़ो ने हमारे किसानों पर इतने जुल्म नहीं किए थे, भाजपा ने तो अंग्रेज़ो को भी पीछे छोड़ दिया।अब ये हमारे किसानों पर झूठे मुकदमे कर रहे हैं।"

उत्तर प्रदेश के मेरठ में किसान महापंचायत में पहुँचे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मोदी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने तीनों कृषि कानूनों को डेथ वारंट बताया। केजरीवाल ने कहा कि पीएम मोदी ने अपने पूँजीपति मित्रों को फायदा पहुँचाने के लिए ये कानून पास कराया है। इस कानून के चलते सबकी खेती इन पूँजीपतियों के हाथ में चली जाएगी।

राकेश टिकैत के आँसू देख मन दुखित हुआ

केजरीवाल ने किसान नेता राकेश टिकैत के रोने का जिक्र करते हुए कहा, “जब किसान आंदोलन के दौरान राकेश टिकैते रो रहे थे तो मुझसे यह देखा नहीं गया। किसानों पर लाठियाँ बरसाई जा रही है, कीलें ठोकी जा रही है। ऐसा तो अंग्रेज़ो ने हमारे किसानों पर इतने जुल्म नहीं किए थे, भाजपा ने तो अंग्रेज़ो को भी पीछे छोड़ दिया।अब ये हमारे किसानों पर झूठे मुकदमे कर रहे हैं।”

केजरीवाल ने अपने संबोधन के दौरान कहा, ”आज अपने देश का किसान बहुत ज्यादा पीड़ा में है। किसान भाई परिवार समेत 95 दिनों से कड़कती ठंड में दिल्ली के बॉर्डर पर धरने पर बैठा है। 250 से ज्यादा किसान भाइयों की शहादत हो चुकी है। लेकिन सरकार के कान पर जूँ नहीं रेंग रहा है। उन्होंने कहा कि सभी पार्टी की सरकारों ने 70 सालों तक किसानों को धोखा दिया है। किसान 70 साल से अपनी फ़सल का सही दाम माँग रहा है। सभी के चुनावी घोषणापत्र में लिखा होगा कि हमें जीता दो हम सही दाम दे देंगे। लेकिन अगर सही दाम दे देते तो किसान आत्महत्या नहीं करता।”

बीजेपी पर निशाना साधते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि भाजपा ने 2014 के घोषणा पत्र में कहा था कि हम स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करेंगे। किसानों ने इन्हें जमकर वोट दिया। 3 साल बाद भाजपा ने सुप्रीम कोर्ट के एफिडेविट में लिखा कि वो MSP नहीं देंगे। इन्होंने किसानों की पीठ में छुरा मार दिया। केजरीवाल ने कहा कि सरकार के पास पैसे की कमी नहीं है नीयत की कमी है। उन्होंने कहा कि अच्छी नीयत वाली सरकार होगी तो किसान ट्रैक्टर लेकर मिल में जाएँगे और उनके घर पहुँचते ही गन्ने का भुगतान हो जाएगा।

दिल्‍ली की घटना केंद्र सरकार की साजिश 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किसानों के उपर लाठियाँ बरसाई गई। यह केंद्र सरकार का ही प्‍लान था। भाजपा समर्थक ही दिल्‍ली की घटना (ट्रैक्टर रैली हिंसा) में शामिल थे। केंद्र सरकार का प्‍लान था कि किसानों का रुट डायवर्ट कराकर दिल्‍ली में भेजा जाए। ताकि इन पर मुकदमा कर आंदोलन समाप्‍त किया जा सके और हिंसा होते ही किसानों को बदनाम किया। उन्‍होंने कहा कि उस समय अगर किसानों को स्‍टेडियम जाने देते तो ये सभी को जेल में डाल देते। इस कारण हमने किसानों को रोका। 

पार्टी के कार्यकर्ता कर रहे किसानों की सेवा

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मेरे पार्टी के कार्यकर्ता और विधायक बार्डर पर बैठे किसानों की सेवा कर रहे हैं। उनकी सभी जरुरतों को आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता पूरा कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि 28 जनवरी की रात जो कुछ हमने देखा वे बड़ा ही दुखद था। 

योगी पर साधा निशाना

योगी सरकार पर निशाना साधते हुए केजरीवाल ने कहा कि योगी की ऐसी क्या कमजोरी है कि ये मिल मालिकों को ठीक नहीं कर सकते। जब मैं दिल्ली में सत्ता में आया तो पाँच साल बाद बिजली कंपनियों को ठीक कर दिया। पहले दिल्ली में 20-20 हजार बिल आते थे आज दिल्ली में मुफ्त में बिजली मिलती है और 24 घंटे बिजली मिलती है। उन्होंने कहा कि योगी सरकार अगर किसानों को उनकी फसल के पैसे नहीं दिला सकती तो लानत है आप (योगी) पर।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,101FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe