Tuesday, April 16, 2024
Homeराजनीति'नमक हराम' बागियों को TMC विधायक हमीदुल रहमान ने दी खुलेआम 'धमकी', कहा- चुनाव...

‘नमक हराम’ बागियों को TMC विधायक हमीदुल रहमान ने दी खुलेआम ‘धमकी’, कहा- चुनाव बाद उनके साथ ‘खेला होबे’

“हुबली में ममता बनर्जी ने कहा कि हम तो खेला करेंगे, खेला क्या होता है मतलब पोलिंग बूथ पर कब्जा, मतदाताओं को डराना, निष्पक्ष चुनाव न होना। ये सब खेला करने की कोशिश टीएमसी करना चाहती है और इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने सारी जानकारियों से चुनाव आयोग को अवगत कराया।”

पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में चुनाव ऐलान के साथ ही पश्चिम बंगाल में सियासी गर्मी बढ़ गई है। अलग-अलग दलों के नेता एक दूसरे के ऊपर जमकर हमले कर रहे हैं, इन सबके बीच टीएमसी के एक विधायक हमीदुल रहमान का धमकी भरा बयान चर्चा में है जिसके खिलाफ बीजेपी के बड़े नेताओं ने चुनाव आयोग से मिलकर शिकायत की है। इसके लिए टीएमसी विधायक रहमान ने धमकी भरे अंदाज में क्या कुछ कहा था उसे जान लेते हैं।

टीएमसी विधायक हमीदुल रहमान ने खुले मंच से विवादित भाषण के क्रम में वोटरों को खुलेआम धमकी देते हुए कहा कि जिसका नमक खाते हैं, उसकी नमकहरामी नहीं करते हैं। चुनाव बाद हम उन लोगों से निपट लेंगे, जो हमें धोखा देंगे। बेईमान लोगों के साध खेला होबे। हम सभी चाहते हैं राज्य में ममता बनर्जी एक बार फिर मुख्यमंत्री बनें।

दरअसल, टीएमसी विधायक हमीदुल रहमान ने कहा, “हमारे पूर्वजों का कहना है कि जिसका नमक खाते हैं उसके साथ नमकहरामी नहीं करते हैं। चुनावों के बाद, हमें उन लोगों से मिलना होगा जो हमें धोखा देंगे। बेईमान लोगों के साथ खेला होबे (खेल खेला जाएगा)। हम सभी दीदी को हमारे सीएम के रूप में देखना चाहते हैं।” यहाँ पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा का लम्बा इतिहास देखते हुए लोग ‘खेला होबे’ को किसी संभावित हिंसा भरे धमकी के रूप में देख रहे हैं।

टीएमसी विधायक ने इसके साथ ही कहा, “इस महागठबंधन (कॉन्ग्रेस, लेफ्ट) को वोट देना, बीजेपी को रास्ता देने के समान है। अपना वोट खराब मत करना। हर घर ने दीदी (ममता बनर्जी) के विकास के विज़न को महसूस किया है।”

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने टीएमसी विधायक हमीदुल रहमान के खिलाफ चुनाव आयोग पर शिकायत दर्ज कराई है। भाजपा के धर्मेंद्र प्रधान, भूपेंद्र यादव, ओम पाठक, नीरज कुमार और डॉ संजय मयूख आदि कई बड़े नेता शिकायत दर्ज कराने शाम करीब पाँच बजे चुनाव आयोग के पास पहुँचे थे।

बंगाल बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी के विधायक की धमकियों का जवाब देते हुए कहा, “हुबली में ममता बनर्जी ने कहा कि हम तो खेला करेंगे, खेला क्या होता है मतलब पोलिंग बूथ पर कब्जा, मतदाताओं को डराना, निष्पक्ष चुनाव न होना। ये सब खेला करने की कोशिश टीएमसी करना चाहती है और इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने सारी जानकारियों से चुनाव आयोग को अवगत कराया।”

यहाँ गौर करने वाली बात यह भी है कि इस तरह के बयान सिर्फ टीएमसी की तरफ से ही नहीं दिए जा रहे हैं। सभी दलों के नेता समय-समय पर ऐसे जहरीले बोल बोल रहे हैं। लेकिन जानकार की माने तो यह कहा जा रहा है कि ममता बनर्जा को लगता है- इस दफा चुनावी मुकाबले में सिर्फ बीजेपी है। लेफ्ट और कॉन्ग्रेस हारी हुई जंग लड़ रहे हैं। लिहाजा बीजेपी और टीएमसी के कार्यकर्ताओं के बीच एक तरफ सड़क पर झड़प होती है तो नेता जुबानी जंग के जरिए एक दूसरे को नीचा दिखाने में जुट जाते हैं। इसके अलावा भी हम सभी बंगाल की राजनीति में हिंसा की खबरें लम्बे समय से देखते सुनते आ रहे हैं। ऐसे में किसी भी तरह की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल की 294 विधानसभा सीटों पर आठ चरणों में विधानसबा चुनाव होंगे। पहले चऱण के मतदान 27 मार्च को शुरू होगा। इसके बाद 1 अप्रैल, 6 अप्रैल, 10 अप्रैल, 17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल और 29 अप्रैल को वोटिंग होगी। नतीजे 2 मई को घोषित किए जाएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अरविंद केजरीवाल नं 1, दिल्ली CM की बीवी सुनीता नं 2… AAP की स्टार प्रचारकों की लिस्ट जिसने देखी वही हैरान, पूछ रहे- आत्मा...

आम आदमी पार्टी के स्टार प्रचारकों की लिस्ट में तिहाड़ जेल में ही बंद मनीष सिसोदिया का भी नाम है, तो हर जगह से जमानत खारिज करवाकर बैठे सत्येंद्र जैन का भी।

‘कन्हैया लाल तेली का क्या?’: ‘मुस्लिमों की मॉब लिंचिंग’ पर याचिका लेकर पहुँचा वकील निजाम पाशा तो सुप्रीम कोर्ट ने दागा सवाल, कहा –...

इस याचिका में अल्पसंख्यकों के खिलाफ मॉब लिंचिंग के अपराध बढ़ने का दावा करते हुए गोरक्षकों पर निशाना साधा गया था और तथाकथित पीड़ितों के लिए त्वरित वित्तीय मदद की व्यवस्था की माँग की गई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe