Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतिबंगाल: प्रचार करने पर लगी 24 घंटे की रोक के विरोध में धरना देंगी...

बंगाल: प्रचार करने पर लगी 24 घंटे की रोक के विरोध में धरना देंगी ममता बनर्जी, मुर्शिदाबाद में मिले क्रूड बम

बंगाल में स्थिति के मद्देनजर चुनाव आयोग 8 चरणों में विधानसभा चुनाव करवा रहा है। इनमें से 4 चरण समाप्त हो चुके हैं। पाँचवे चरण के लिए मतदान 17 अप्रैल को होगा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर चुनाव आयोग ने 24 घंटों के लिए चुनाव प्रचार करने से रोक लगा दी है। प्रतिबंध सोमवार (अप्रैल 12, 2021) शाम 8 बजे से लेकर मंगलवार (अप्रैल 13, 2021) शाम 8 बजे तक प्रभावी रहेगा।

चुनाव आयोग ने अपने आदेश में ममता के बयानों की निंदा करते हुए कहा, “ममता बनर्जी ने पिछले कुछ दिनों में 2 ऐसे बयान दिए जो प्रदेश के माहौल को खराब कर सकते हैं लिहाजा यह कार्रवाई की जा रही है।” 

इससे पहले चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी को इसी संबंध में नोटिस भी जारी किए थे। पहले नोटिस में ममता बनर्जी से आयोग ने पूछा था कि उन्होंने हुगली में जो चुनावी रैली के दौरान सांप्रदायिक तर्ज पर वोटों के लिए अपील की थी, वह उस पर अपना पक्ष बताएँ। वहीं दूसरे नोटिस में चुनाव आयोग ने ममता के उस बयान पर जवाब माँगा, जिसमें उन्होंने केंद्रीय सुरक्षाबलों पर सवाल उठाया था और जनता से सीएपीएफ के जवानों पर हमला करने को कहा था।

चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी के खिलाफ़ अपनी यह कार्रवाई इन दो नोटिसों का जवाब मिलने के बाद में की है। आयोग को भेजे गए जवाब में ममता बनर्जी ने कहा था कि उन्होंने वोटों को बाँटने की बात नहीं कही, बल्कि उल्टा हिंदू-मुसलमान सब को एक साथ रहने की बात कही थी। ममता बनर्जी ने अपने जवाब में कहा था कि यह उन लोगों को कड़ा संदेश था जो लोग समाज को बाँट कर राजनीति करने की कोशिश कर रहे हैं।

इसके बाद केंद्रीय सुरक्षा बलों के ऊपर हमले वाले बयान पर ममता बनर्जी ने जवाब दिया कि उन्होंने हमला करने की बात नहीं कही, लेकिन इतना जरूर कहा था कि अगर कोई आपको वोट करने से रोके तो आप वहाँ पर शांतिपूर्वक प्रदर्शन कीजिए और अपने मत का इस्तेमाल कीजिए।

हालाँकि, चुनाव आयोग इन दोनों जवाबों से संतुष्ट नहीं दिखा। आयोग ने ममता पर कार्रवाई करते हुए उन्हें चेतावनी दी कि वह ऐसे भड़काऊ भाषण देने से बचें, क्योंकि वह राज्य की मुख्यमंत्री हैं और इस तरह के भड़काऊ भाषण से राज्य की कानून व्यवस्था खराब हो सकती है। आयोग ने बताया कि उसकी कोशिश राज्य में चुनाव प्रक्रिया निष्पक्ष तरीके से संपन्न कराने की है, जबकि ऐसे भाषण चुनाव आयोग के प्रयास में बाधा उत्पन्न करेंगे।

चुनाव आयोग की इस कार्रवाई के बाद तृणमूल कॉन्ग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने विरोध-प्रदर्शन करने की बात कही है। ममता ने ट्वीट कर कहा, ”निर्वाचन आयोग के अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक निर्णय के विरोध में, मैं कल दोपहर (मंगलवार) 12 बजे कोलकाता के गाँधी मूर्ति के पास धरने पर बैठूँगी।”

बता दें कि बंगाल में स्थिति के मद्देनजर चुनाव आयोग 8 चरणों में विधानसभा चुनाव करवा रहा है। इनमें से 4 चरण समाप्त हो चुके हैं। पाँचवे चरण के लिए मतदान 17 अप्रैल को होगा। लेकिन हालातों को देखते हुए EC ने चुनाव प्रचार 48 घंंटे की जगह 72 घंटे पहले खत्म करने को कहा है।

इस बीच पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के शमशेरगंज इलाके में सोमवार को 14 क्रूड बम बरामद किए गए हैं। सुरक्षा बलों को शक है कि इन बमों का इस्तेमाल वोटिंग के दिन किया जाना था। मुर्शिदाबाद में मिले 14 बमों को बम स्पोजल स्क्वाड द्वारा डिस्पोज्ड कर दिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe