Wednesday, April 17, 2024
Homeराजनीतिअमित शाह की मौजूदगी में TMC, वामपंथी और कॉन्ग्रेस के 10 विधायकों ने थामा...

अमित शाह की मौजूदगी में TMC, वामपंथी और कॉन्ग्रेस के 10 विधायकों ने थामा BJP का दामन: यहाँ है पूरी लिस्ट

कई दिनों से चल रहे अटकलों के बाद आखिरकार ममता सरकार में मंत्री रहे शुभेन्दु अधिकारी भी मिदनापुर की रैली में अमित शाह की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए। टीएमसी, कॉन्ग्रेस और वाम दलों के कई विधायक और पार्टी नेता भी इस दौरान बीजेपी का दामन थाम लिया।

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) राजनीतिक उथल-पुथल की स्थिति में है। पिछले कुछ दिनों के भीतर ही ममता सरकार के कई दिग्गज विधायकों ने पार्टी से नाता तोड़ लिया है। आज (दिसंबर 19, 2020) मिदनापुर में भाजपा नेता अमित शाह की मौजदूगी में टीएमसी, वामपंथी और कॉन्ग्रेस के कई विधायकों ने बीजेपी का दामन थामा।

कई दिनों से चल रहे अटकलों के बाद आखिरकार ममता सरकार में मंत्री रहे शुभेन्दु अधिकारी भी मिदनापुर की रैली में अमित शाह की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए। टीएमसी, कॉन्ग्रेस और वाम दलों के कई विधायक और पार्टी नेता भी इस दौरान बीजेपी का दामन थाम लिया।

पश्चिम बंगाल में भाजपा में शामिल होने वाले प्रमुख नेता हैं:

◆बर्दवान पूर्बा सांसद सुनील मंडल, टीएमसी

◆पूर्व मंत्री और तमलुक विधायक शुभेन्दु अधकारी, टीएमसी

◆ उत्तर काठी की विधायक बानसरी मैती, टीएमसी

◆कलना विधायक बिस्वजीत कुंडू, टीएमसी

◆पूर्वी बर्धमान के विधायक सैकत पांजा, टीएमसी

◆बैरकपुर विधायक शीलभद्र दत्ता, टीएमसी

◆गाजोल की विधायक दीपाली विश्वास, टीएमसी

◆नागराकाटा के विधायक शुक्रा मुंडा, टीएमसी

◆तमलुक के विधायक अशोक डिंडा, सीपीआई

◆हल्दिया के विधायक तापसी मंडल, सीपीआईएम

◆पुरुलिया विधायक सुदीप मुखर्जी, कॉन्ग्रेस

◆पूर्व सांसद दशरथ तिर्की, टीएमसी

◆पूर्व मंत्री श्यामपद मुखर्जी, टीएमसी

◆पूर्व विधायक सत्येन रॉय, टीएमसी

इनके अलावा कई पंचायत स्तर के नेता और TMC विधायक शुभेन्दु अधिकारी के फॉलोवर्स भी बीजेपी में शामिल हुए। इनमें कबेरी चट्टोपाध्याय, स्नेहाशीष भौमिक, आकाशदीप सिंह, तन्मय रॉय, रंजन वैद्य, देव महापात्र और सुकुमार दास शामिल हैं। भगवा पार्टी में कॉन्ग्रेस नेता सुदीप कुमार मुखर्जी और सनमय बनर्जी भी शामिल हुए।

बता दें कि गौर बंग विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति गोपाल मिश्रा भी आज भाजपा में शामिल हो गए है। वहीं बड़ी संख्या में टीएमसी और अन्य दलों के राजनेता भी पार्टी से जुड़ गए हैं।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। वहीं सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के गुंडों द्वारा बीजेपी से जुड़े लोगों को निशाना बनाने के कई मामले सामने आए हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार 3 दिन के भीतर टीएमसी में कई इस्तीफे सामने आए। वहीं बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह का मानना है कि अगले साल जनवरी तक टीएमसी के 60 से 65 विधायक उनके साथ आ सकते हैं।

ममता सरकार को इस्तीफा देने वालों में शुभेन्दु अधिकारी, बैरकपुर विधानसभा क्षेत्र के टीएमसी विधायक शीलभद्र दत्ता, उत्तरी काठी से विधायक बनाश्री मैती, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के महासचिव टीएमसी नेता कबीरुल इस्लाम, टीएमसी के नेता और दक्षिण बंगाल राज्य परिवहन निगम (SBSTC) के अध्यक्ष (Rtd) कर्नल दिप्तांगशु चौधरी और अभिजीत आचार्य जैसे दिग्गज नेता शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि आज (दिसंबर 19, 2020) गृह मंत्री अमित शाह अपने दो दिवसीय पश्चिम बंगाल दौरे पर सुबह कोलकाता पहुँचे। शाह आगामी राज्य विधानसभा चुनाव से पहले राज्य की स्थिति का जायजा लेंगे। उन्होंने आज मिदनापुर में एक जनसभा को संबोधित किया। साथ ही गृह मंत्री ने रामकृष्ण आश्रम का दौरा किया, क्रांतिकारी खुदीराम बोस को श्रद्धांजलि दी, सिद्धेश्वरी मंदिर का दौरा किया और मिदनापुर में एक किसान के घर दोपहर का भोजन किया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नॉर्थ-ईस्ट को कॉन्ग्रेस ने सिर्फ समस्याएँ दी, BJP ने सम्भावनाओं का स्रोत बनाया: असम में बोले PM मोदी, CM हिमंता की थपथपाई पीठ

PM मोदी ने कहा कि प्रभु राम का जन्मदिन मनाने के लिए भगवान सूर्य किरण के रूप में उतर रहे हैं, 500 साल बाद अपने घर में श्रीराम बर्थडे मना रहे।

शंख का नाद, घड़ियाल की ध्वनि, मंत्रोच्चार का वातावरण, प्रज्जवलित आरती… भगवान भास्कर ने अपने कुलभूषण का किया तिलक, रामनवमी पर अध्यात्म में एकाकार...

ऑप्टिक्स और मेकेनिक्स के माध्यम से भारत के वैज्ञानिकों ने ये कमाल किया। सूर्य की किरणों को लेंस और दर्पण के माध्यम से सीधे राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला के मस्तक तक पहुँचाया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe