Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिकाली नागिन के काटने से जैसे मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के...

काली नागिन के काटने से जैसे मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे: TMC सांसद कल्याण बनर्जी

''काली नागिन के काटने से जिस तरह लोगों की मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे हैं। उसने अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया है। उसे शर्म आनी चाहिए और अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। वह सबसे खराब वित्त मंत्री है।''

पश्चिम बंगाल में टीएमसी नेता कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को लेकर विवादित बयान दिया है। टीएमसी नेता ने निर्मला सीतारमण की तुलना ‘काली नागिन’ से की है। बनर्जी ने सीतारमण पर अर्थव्यवस्था को तबाह करने का आरोप लगाया है। उन्होंने दावा किया कि निर्मला सीतारमण देश की सबसे खराब वित्त मंत्री हैं।

TMC नेता कल्याण बनर्जी ने शनिवार (जुलाई 4, 2020) को अपने संसदीय क्षेत्र बांकुड़ा में एक रैली के दौरान कहा, ”काली नागिन (विषैला साँप) के काटने से जिस तरह लोगों की मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे हैं। उसने अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया है। उसे शर्म आनी चाहिए और अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। वह सबसे खराब वित्त मंत्री है।”

इसके अलावा पीएम पर निशाना साधते हुए कल्याण बनर्जी ने कहा, “यह नरेंद्र मोदी 2019 से पहले यहाँ आए थे। उन्होंने वादा किया था कि बेहतर भारत बनाएँगे। हाँ, उन्होंने अपना वादा निभाया। जीडीपी ग्रोथ गिरकर 1 फीसदी हो गई है। नरेंद्र मोदी और उनकी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की जय हो।”

टीएमसी ने यह रैली पेट्रो कीमतों में हुई बढ़ोत्तरी और रेलवे के निजीकरण के विरोध में आयोजित की थी। टीएमसी नेता के इस बयान पर बीजेपी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। बीजेपी ने कहा है कि ममता बनर्जी का अपनी पार्टी के नेताओं पर नियंत्रण नहीं है, जो निराशा से ‘बकवास’ कर रहे हैं। राज्य के पार्टी अध्यक्ष दिलीप घोष ने दावा किया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने पार्टी के नेताओं पर अपनी पकड़ खो दी है। 

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, “टीएमसी में ऊपर से नीचे तक भ्रष्टाचार फैला है। वे आंतरिक झगड़े से भयभीत हो गई हैं और उनमें से कई सत्ताधारी पार्टी में व्याप्त स्थिति से ध्यान हटाने के लिए बेहूदा टिप्पणियाँ कर रहे हैं। हम इस तरह की टिप्पणियों को ज्यादा महत्व नहीं देते। वे इस तरह की बकवास हताशा में कर रहे हैं।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe