Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीति'राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह में शंकराचार्यों को नहीं, पूँजीपतियों को बुलाया?': लालू की बेटी...

‘राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह में शंकराचार्यों को नहीं, पूँजीपतियों को बुलाया?’: लालू की बेटी और RJD उम्मीदवार मीसा भारती का दावा

राम मंदिर जाने की क्या आवश्यकता है? जब हमारे सोनपुर में हरिहर बाबा का मंदिर है। वहाँ से मेरा पूरा परिवार पूजा करके अभी उनका आशीर्वाद लेकर निकला है। मैंने कहा कि अभी चुनाव चल रहा है। समय मिलेगा तो मैं मंदिर भी जाऊँगी, राम मंदिर इसी देश में है।

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता लालू प्रसाद यादव ने अपनी बड़ी बेटी मीसा भारती को बिहार के पाटलिपुत्र से लोकसभा चुनाव 2024 के लिए पार्टी का उम्मीदवार बनाया है। उनका मुकाबला बीजेपी के राम कृपाल यादव से होने वाला है, जो मीसा को साल 2014 और 2019 के दोनों लोकसभा चुनाव में हरा चुके हैं। पटना नगर निगम के पूर्व उपमहापौर रामकृपाल यादव पटना लोकसभा क्षेत्र से तीन बार सांसद भी रह चुके हैं। इस बीच, चुनाव प्रचार के दौरान मीसा भारती ने अयोध्या में हाल ही में बने राम मंदिर पर अपनी टिप्पणी से विवाद खड़ा कर दिया है।

मीसा भारती ने एक सभा में कहा, “राम मंदिर जाने की क्या आवश्यकता है? जब हमारे सोनपुर में हरिहर बाबा का मंदिर है। वहाँ से मेरा पूरा परिवार पूजा करके अभी उनका आशीर्वाद लेकर निकला है। मैंने कहा कि अभी चुनाव चल रहा है। समय मिलेगा तो मैं मंदिर भी जाऊँगी, राम मंदिर इसी देश में है और राम तो हमारे भी राम हैं। इसपे कोई मोदी जी का कोई नहीं लगा है, भाजपा के नेताओं का तो नहीं है।”

बता दें कि हरिहरनाथ मंदिर सोनपुर में स्थित है। मीसा भारती पहले भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जेल भेजने की बात कह चुकी हैं। मीसा भारती ने अपने भाषण में वही पुराना मोदी विरोधी बयान दोहराया। उन्होंने कहा कि राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह में चारों शंकराचार्यों को नहीं बुलाया गया और सभी पूँजीपतियों को वहाँ बुलाया गया।

गौरतलब है कि श्रृंगेरी और कांची मठ के शंकराचार्यों ने राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह की सराहना की है। कार्यक्रम में कई गरीब आम लोग, खासकर कारसेवक भी शामिल हुए। मीसा भारती ने अपने भाषण में पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र में ट्रॉमा सेंटर, गांधी आश्रम और लाइब्रेरी बनाने का भी वादा किया।

गौरतलब है कि राम नवमी के मौके पर बुधवार (17 अप्रैल 2024) को रामलला का सूर्य तिलक भी किया जाना है। इसके लिए आईआईटी रुड़की के विशेषज्ञों ने तकनीक तैयार की है। 2009 में पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में लालू यादव को अपने पूर्व सहयोगी रंजन यादव के हाथों हार का सामना करना पड़ा। इस सीट पर पिछले काफी समय से आरजेडी जीत नहीं पाई है। लालू यादव के बाद मीसा भारती भी दो बार यहाँ चुनाव हार चुकी है। ऐसे में तीसरी बार चुनाव लड़ रही मीसा भारती के बयान का इस साल के लोकसभा चुनाव पर क्या असर पड़ता है, ये देखने वाली बात होगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -