Monday, November 29, 2021
Homeराजनीति'अगली कारसेवा में राम और कृष्णभक्तों पर गोलियाँ नहीं, पुष्प बरसेंगे': अयोध्या में बोले...

‘अगली कारसेवा में राम और कृष्णभक्तों पर गोलियाँ नहीं, पुष्प बरसेंगे’: अयोध्या में बोले CM – उन्हें कब्रिस्तान प्यारा था, हमें संस्कृति

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तंज कसा कि अब लगता है कि अगर कुछ और वर्ष आप इसी तरीके से ले चले, तो रामभक्तों पर गोलियाँ चलाने वाले और उनका पूरा खानदान अगली कारसेवा के लिए लाइन में लगा होगा।

भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या में दीवाली के कार्यक्रमों के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक जनसभा को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि पाँच वर्ष पहले जब अयोध्या में दीपोत्सव की चर्चा सामने आई थी, तो अयोध्या में ही आज के दिन ये आयोजन नहीं हो रहा था। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार ने तय किया कि अगर अयोध्या को उसकी नई पहचान दिलवानी है, तो दीपोत्सव कार्यक्रम उसका एक माध्यम बनेगा। कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा “मुझे याद है कि 2017, 2018, 2019 में भी एक ही नारा गूँज रहा था- ‘योगी जी एक काम करो, मंदिर का निर्माण करो’ – मैं तब भी कह रहा था कि मंदिर निर्माण के लिए आधारशिला तैयार की जा रही है। 31 साल पहले अयोध्या में क्या हो रहा था? 30 अक्टूबर और 2 नवंबर 1990 को रामभक्तों पर बर्बर तरीके से गोलियाँ चलाई गई थीं। बर्बर लाठीचार्ज हो रहा था। तब ‘जय श्रीराम’ बोलना अपराध माना जा रहा था।”

सपा पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जो लोग 31 साल पहले रामभक्तों पर गोलियाँ चला रहे थे, वो आपकी ताकत के आगे झुके हैं। उन्होंने तंज कसा कि अब लगता है कि अगर कुछ और वर्ष आप इसी तरीके से ले चले, तो अगली कारसेवा के लिए वो और उनका पूरा खानदान लाइन में लगा होगा। सीएम योगी ने कहा, “आप देखना कि अगर अगली कारसेवा होगी, तो गोली नहीं चलेगी। रामभक्तों व कृष्णभक्तों पर पुष्पों की वर्षा होगी”

सीएम योगी ने आगे कहा, “पिछली सरकारों में ये पैसा कब्रिस्तान की दीवार बनाने में खर्च होता था, आज मंदिरों के पुनर्निर्माण और सुंदरीकरण पर खर्च हो रहा है। जिन्हें कब्रिस्तान प्यारा था, वो जनता का पैसा वहाँ लगाते थे। जिन्हें धर्म और संस्कृति प्यारी है, वो पैसा उनके उत्थान के लिए लगा रहे हैं। अयोध्या में जब भव्य श्रीराम मंदिर बनेगा, उसके साथ ही अयोध्या देश व दुनिया की सबसे अच्छी धार्मिक और आध्यात्मिक नगरी होगी। पहले लोग बोलते थे, परिंदा भी पर नहीं मार सकता था। 31 साल पहले हुआ था, वह मंजर कोई रामभक्त और कोई अयोध्यावासी उसे कभी भूल नहीं सकता है।”

सीएम योगी ने कहा कि सबसे बड़ा है श्रीराम की मर्यादा के अनुरूप धैर्य, जिससे हमें सफलता मिली है। मुख्यमंत्री ने याद किया कि उन्होंने 2019 के कार्यक्रम में भी मैंने यही अनुरोध किया था कि धैर्य के साथ इंतजार करिए, अयोध्या में वह सब होगा जो आपकी भावनाएँ हैं। कई बड़े ऐलान करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मुफ्त राशन वाली योजना को होली तक बढ़ाया जाएगा। 15 करोड़ लोग हर महीने इसका लाभ लेंगे। साथ ही अंत्योदय कार्ड धारक को राशन में 35 किलो चावल, गेहूँ के साथ-साथ दाल, तेल और नमक भी मिलेगा।

उन्होंने ऐलान किया कि अंत्योदय कार्ड धारक को हर महीने चीनी भी मिलेगी। सीएम ने याद दिलाया कि लोकतंत्र की ताकत कितनी मज़बूत होती है कि जो 31 वर्ष पहले राम भक्तों पर गोलियाँ चला रहे थे वो आज आपकी ताकत के सामने झुके हैं। इस कार्यक्रम को उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी सम्बोधित किया। बता दें कि आज शाम सरयू घाट पर आज 9 लाख दीयों से जगमगाएगा। वहीं जिले भर में 12 लाख दीये जलाए जाएँगे। सीएम योगी ने अयोध्या पहुँच कर दीपोत्सव कार्यक्रम का निरीक्षण किया

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe