Friday, June 21, 2024
Homeबड़ी ख़बरदलित, बहुजन और सर्वजन हितैषी बसपा है सबसे अमीर पार्टी, EC में दी जानकारी

दलित, बहुजन और सर्वजन हितैषी बसपा है सबसे अमीर पार्टी, EC में दी जानकारी

एनसीआर के सरकारी खातों में मौजूद 8 खातों में बसपा के ₹669 करोड़ जमा हैं। इसके साथ ही पार्टी के पास ₹95.54 लाख कैश में मौजूद हैं।

2014 लोकसभा चुनावों में खाता तक न खोल पाने वाली बसपा ने 2019 में बैंक बैलेंस के मामले में सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय पार्टियों को पछाड़ दिया है। यह जानकारी आधिकारिक रिकॉर्ड के जरिए सामने आई हैं। मीडिया में आई खबरों की माने तो 25 फरवरी को चुनाव आयोग को दी गई जानकारी के अनुसार एनसीआर के सरकारी खातों में मौजूद 8 खातों में बसपा के ₹669 करोड़ जमा हैं। इसके साथ ही पार्टी के पास ₹95.54 लाख कैश में मौजूद हैं।

वहीं इस सूची में दूसरा नंबर अखिलेश की समाजवादी पार्टी का है। खबरों के मुताबिक सपा के विभिन्न खातों में
₹471 करोड़ हैं। गौरतलब है कि हाल ही में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना में हुए विधानसभा चुनाव के कारण पार्टी का कैश डिपॉजिट ₹11 करोड़ घट गया है।

बैंक बैंलेस की इस सूची में तीसरा नाम कॉन्ग्रेस पार्टी का है। कॉन्ग्रेस के पास ₹196 करोड़ का बैंक बैलेंस है। हालाँकि यह जानकारी पिछले वर्ष 2 नवंबर को चुनाव आयोग को दी गई जानकारी पर आधारित है, क्योंकि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना में हुए चुनावों के बाद पार्टी ने अपने बैंक बैलेंस की जानकारी अपडेट नहीं की है। इसके बाद चौथे नंबर पर चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी है। रिपोर्ट के अनुसार पार्टी के पास ₹107 करोड़ की धनराशि है।

इस सूची में फिलहाल बीजेपी पाँचवें नम्बर पर है। पार्टी के पास केवल ₹82 करोड़ बैंक बैलेंस है, लेकिन भाजपा का दावा है कि पार्टी द्वारा 2017-18 में दान से प्राप्त ₹1027 करोड़ में से ₹758 करोड़ खर्च कर दिए हैं जोकि किसी भी पार्टी द्वारा खर्च की गई राशि से अधिक है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -