Wednesday, August 4, 2021
Homeबड़ी ख़बरPM मोदी के साथ भद्दा मज़ाक, ट्विटर पर कॉन्ग्रेस को मिला ईंट का जवाब...

PM मोदी के साथ भद्दा मज़ाक, ट्विटर पर कॉन्ग्रेस को मिला ईंट का जवाब पत्थर से

कॉन्ग्रेस को अपने दड़बे से बाहर आना होगा। राजनीतिक मठाधीशी वाली ठसक से बाहर आना होगा। उन्हें समझना होगा कि 2019 वाली कॉन्ग्रेस 1885 वाली पार्टी नहीं रही।

कॉन्ग्रेस पार्टी आज तक भाजपा के ऊपर आईटी सेल जैसा आरोप लगाती रही है। भाजपा को घेरने के लिए कॉन्ग्रेस ने न जाने कितने आम लोगों को भी पेड ट्रोल्स का तमगा बाँट दिया है। लेकिन इन सबके बीच देश की सबसे पुरानी पार्टी खुद कब ट्रोल बन गई, उसे पता ही नहीं चला।

वैलेंटाइन डे पर 14 फरवरी को दोपहर में कॉन्ग्रेस अपने ट्विटर हैंडल से एक कार्टून कैरेक्टर जारी करती है। यह कुछ और नहीं बल्कि पीएम मोदी को चौकीदार की ड्रेस पहना कर एक लाइन का तंज मारता हुआ कार्टून है। इसके बाद भाजपा के अन्य नेताओं के लिए भी ऐसे ही भद्दे कैरेक्टर कॉन्ग्रेस के ट्विटर हैंडल से जारी किए गए।

ऐसे में एक ट्विटर यूज़र शशांक‏ (@pokershash) ने कॉन्ग्रेस पार्टी को उसी की भाषा में जवाब दिया – प्यार के साथ – वैलेंटाइन विश करते हुए। देखा जाए और लहरिया लूटा जाए:

सोनिया गाँधी के लिए शशांक लिखते हैं – क्या तुम डिफेंस डील हो? क्योंकि मुझे अपना कमीशन लेना पसंद है।

मनमोहन सिंह के लिए सिर्फ डॉटेड लाइन खींची गई है, काफ़ी है न!
क्या तुम दिमाग हो, क्योंकि मैं तुम्हें बहुत मिस करता हूँ
क्या तुम चीन हो? क्योंकि मैं तुम्हें कश्मीर का एक हिस्सा देना चाहता हूँ
क्या तुम बार-डांसर हो? क्योंकि मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ

कॉन्ग्रेस को अपने दड़बे से बाहर आना होगा। राजनीतिक मठाधीशी वाली ठसक से बाहर आना होगा। उन्हें समझना होगा कि 2019 वाली कॉन्ग्रेस 1885 वाली पार्टी नहीं रही। ना ही पढ़ाई-लिखाई से लेकर भावनात्मक स्तर पर अब देश की जनता का आपसे वैसा जुड़ाव रहा।

आज की जनता सोशल मीडिया को घोल कर पी गई है। जिस जनता को आप ट्रोल कह-कह कर लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, वो जनता दरअसल आपसे त्रस्त है। आपकी नीतियों से उसे नफ़रत है। आप जिस भाषा और शैली की राजनीति करते आए हैं, जनता ने अब उसमें मास्टरी कर ली है। कुछ ने तो डॉक्टरी भी। बचिए इनसे। ये आपकी लेंगे और कह के लेंगे… क्लास!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe