Tuesday, July 23, 2024
HomeराजनीतिCAA के ख़िलाफ़ नारेबाजी कर CPIM नेता ने केरोसिन डालकर लगाई आग, हुई मौत

CAA के ख़िलाफ़ नारेबाजी कर CPIM नेता ने केरोसिन डालकर लगाई आग, हुई मौत

परिजनों को शक है कि जब रमेश प्रतिदिन धरना-प्रदर्शन में शामिल होने जाते थे, कम्युनिस्ट पार्टी से सालों से जुड़े थे, और इससे पहले भी बड़े-बड़े मुद्दों पर पार्टी के साथ जुड़कर प्रदर्शन कर चुके थे, तो फिर उस दिन ऐसा क्या हुआ कि उन्होंने खुद को आग लगा ली।

CAA के विरोध में 24 जनवरी को खुद पर केरोसीन उड़ेलकर आग लगाने वाले सीपीआईएम नेता रमेश प्रजापति ने रविवार (जनवरी 26, 2020) की रात दम तोड़ दिया। इंदौर के एमवाई अस्पताल के बर्न यूनिट में इलाज के दौरान उनकी मौत हुई।

वयोवृद्ध मार्क्सवादी नेता रमेश प्रजापति CAA से नाराज़ थे। जब उन्होंने खुद को आग लगाई तब उनके पास CAA और NRC (राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर) को लेकर कुछ कागजात थे। उनके परिवार ने इस मामले में शंका जताते हुए पुलिस से जाँच की माँग की है।

परिजनों को शक है कि जब रमेश प्रतिदिन धरना-प्रदर्शन में शामिल होने जाते थे, कम्युनिस्ट पार्टी से सालों से जुड़े थे, और इससे पहले भी बड़े-बड़े मुद्दों पर पार्टी के साथ जुड़कर प्रदर्शन कर चुके थे, तो फिर उस दिन ऐसा क्या हुआ कि उन्होंने खुद को आग लगा ली।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, तुकोगंज टीआई निर्मल श्रीवास ने बताया कि रमेश प्रजापति शुक्रवार शाम 7 बजे गीता भवन चौराहा स्थित एक ऑटोमोबाइल्स शोरूम के पास पहुँचे थे। यहाँ बाेतल में भरा केरोसिन खुद पर उड़ेलकर उन्होंने खुद में आग लगाई।

जानकारी के मुताबिक आसपास के लोगों ने जब उन्हें आग की लपटों में घिरा देखा। तो तुरंत घटनास्थल पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। तुकोगंज थाने के जवान वहाँ पहुँचे और लोगों की मदद से आग बुझाकर प्रजापति को एमवाय अस्पताल पहुँचाया। जहाँ डॉक्टरों ने बताया कि वो इस घटना में 90 फीसदी जल गए। बता दें पुलिस ने अभी निर्णायक तौर पर नहीं बताया है कि उन्होंने ये कदम किस वजह से उठाया। पुलिस के मुताबिक जाँच जारी है, वे जल्दी ही पता कर लेंगे कि प्रजापति द्वारा ऐसा करने के पीछे असली कारण क्या था।

कम्यूनिस्ट पार्टी के जिला सचिव छोटेलाल सरावद और कैलाश लिंबोदिया ने बताया कि प्रजापति रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी थे। वे कई दिनों से सीएए और एनआसी के विरोध में माणिबाग और बड़वाली चौकी में पार्टी की ओर से प्रदर्शन कर रहे थे। जबकि यूथ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष रमीज खान के अनुसार प्रजापति ने खुद को आग लगाने से पहले भी सीएए के ख़िलाफ़ नारे लगाए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -